बंगाल की जनता ने पांच राज्यों में चुनाव करवाकर देश की 135 करोड़ जनता की जिंदगी को दांव पर लगाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके सिपहसालार अमित शाह के संप्रदायिक मंसूबों को ना काम करके ममता बनर्जी को पुनः बंगाल की सत्ता सौप कर यह साबित कर दिया

 ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस के राष्ट्रीय महासचिव मुस्तकीम मंसूरी ने पांच राज्यों में हुए चुनावों  ख़ास कर बंगाल के चुनाव में ममता बनर्जी को मिली जीत पर बंगाल के मतदाताओं को बधाई देते हुए कहा कि बंगाल की जनता ने पांच राज्यों में चुनाव करवाकर देश की 135 करोड़ जनता की जिंदगी को दांव पर लगाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके सिपहसालार अमित शाह के संप्रदायिक मंसूबों को ना काम करके ममता बनर्जी को पुनः बंगाल की सत्ता सौप कर यह साबित कर दिया


कि देश की जनता संविधान में आस्था रखती है, संप्रदायिकता में नहीं, देश संविधान से चलेगा, संघ के एजेंडे से नहीं। मुस्तकीम मंसूरी ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बंगाल हार की जिम्मेदारी लेते हुए नैतिकता के आधार पर प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। क्योंकि मोदी और शाह ने मिलकर पश्चिमी बंगाल के अंदर चुनाव के दौरान कोरोना प्रोटोकॉल का जमकर उल्लंघन किया। कोरोना सुनामी में चुनावी रैलियां की सभाएं कर मजदूर वर्ग, विभिन्न राज्यों से भाजपा कार्यकर्ताओं को बुलाकर जो शक्ति प्रदर्शन करके मोदी और शाह पश्चिमी बंगाल में जीत का जश्न मनाना चाहते थे। उसको पश्चिमी बंगाल की जनता ने ममता बनर्जी को जीता कर मोदी और शाह की जहरीली संप्रदायिक रणनीति को विफल किया। उसके लिए पश्चिमी बंगाल की जनता और तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता बधाई के पात्र हैं। मुस्तकीम मंसूरी ने कहा पश्चिमी बंगाल में मोदी और शाह की जोड़ी के साथ-साथ संघ के रणनीतिकार बंगाल की जनता को भ्रमित करने के लिए कहीं रामचंद्र जी का नाम लेते थे। कहीं रविंद्र नाथ टैगोर के नाम पर सोना बांग्ला की बात करते थे। कहीं हिंदू और मुस्लिम की बात करके ममता को हराने का जो सपना लेकर पश्चिमी बंगाल में आए थे। उस सपने को बंगाल की जनता ने चकनाचूर कर दिया। ऐसे में भाजपा को चाहिए कि वह अपने संसदीय दल में मोदी को बर्खास्त कर नए नेता का चुनाव करवाएं। ताकि देश को नया प्रधानमंत्री मिल सके।

मुस्तकीम मंसूरी ने कहा की पांच राज्यों में चुनाव प्रक्रिया को जारी रखा जाना कोरोना महामारी को सुनामी बनाकर देश में त्राहि-त्राहि का माहौल पैदा कर देश में भय का वातावरण बनाकर सरकार की विफलताओं से देश की जनता का ध्यान हटाकर कोरोना महामारी का भय पैदा करना था।

मुस्तकीम मंसूरी ने कहा मोदी के इशारे पर चुनाव आयोग ने भाजपा को धर्म का इस्तेमाल करने, मतदान कार्यक्रमों और नियमों में ढील देने तक चुनाव आयोग ने भाजपा की भरपूर मदद की। जिसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को लताड़ लगाते हुए दोषी भी ठहराया।

मुस्तकीम मंसूरी ने कहा आज देश में कोरोना महामारी की जो त्रासदी देश झेल रहा है। लाखों की संख्या में लोग मर रहे हैं। शमशानो में लाशों के ढेर लगे हैं। कब्रिस्तानों में जगह कम पड़ रही है। कोविड-19 अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं है। मरने वालों के अंग भंग किए जा रहे हैं। इंजेक्शनों की कालाबाजारी हो रही है। मोदी सरकार पूरी तरीके से कोरोना महामारी से निपटने में फेल हो चुकी है। दिल्ली, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान सहित सभी राज्यों की सरकारों ने देश की जनता को भगवान भरोसे छोड़ दिया है। आखिर इस सब की जिम्मेदारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नैतिकता के आधार पर लेकर प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देकर पुनः जनादेश हासिल करने के लिए जनता के बीच जाना चाहिए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया