हिंदी दैनिक बुलंद भारत के पूर्व संपादक मुस्तकीम अहमद मंसूरी ने प्रेस को जारी किया एक बयान

 बरेली 12 अप्रैल, हिंदी दैनिक बुलंद भारत के पूर्व संपादक मुस्तकीम अहमद मंसूरी ने प्रेस को जारी एक बयान में कहा की 31 मार्च 2020 तक संपादक की भूमिका में नियुक्त किया गया था। परंतु जून 2020 के बाद अखबार छपना बंद हो गया था। उसकी जगह अखबार मालिक पीडीएफ के जरिए बुलंद भारत के समाचार अपने ग्राहकों तक पहुंचा रहे थे। जब कोई अखबार जनता तक नहीं पहुंचता है। तब संपादक की भूमिका खत्म हो जाती है। जैसे ही अखबार छपना बंद हुआ। मैंने अखबार से अपने आपको अलग कर दिया इसलिए आप समस्त सम्मानित ग्राहकों को सूचित करता हूं। 31 दिसंबर 2020 के बाद अगर कोई संपादक के रूप में मेरे नाम का इस्तेमाल करता है। या अखबार के मालिक मेरे हस्ताक्षर का इस्तेमाल करते हैं। तो वह अवैध माना जाएगा मेरे कार्यकाल में जारी किए गए समस्त प्रेस कार्ड जो पत्रकारों के पास है। जो अखबार मालिक द्वारा मेरे हस्ताक्षर से जारी करवाए गए हैं। सभी अवैध है। उनका इस्तेमाल अगर कोई करता है। तो वह फर्जी माना जाएगा। इस समय बेताब समाचार एक्सप्रेस में मैं उत्तर प्रदेश के प्रभारी की भूमिका में हूं। और बेताब समाचार एक्सप्रेस के पत्रकार उत्तर प्रदेश में मेरे नेतृत्व में समाचार संकलन का कार्य काफी निष्ठा पूर्वक सम्मानजनक रूप से कर रहे हैं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग