योगी के बजरंगबली ने भाजपा के हिटलर शाही रवैया से त्रस्त होकर भगवा झंडा छोड़ थामा नीला झंडा।

 योगी के बजरंगबली ने भाजपा के हिटलर शाही रवैया से त्रस्त होकर भगवा झंडा छोड़ थामा नीला झंडा।






बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए मुस्तकीम मंसूरी की खास रिपोर्ट।



बरेली 1 मार्च बहुजन समाज पार्टी के मंडल कार्यालय तुलसी नगर में बसपा जिलाध्यक्ष डॉक्टर जयपाल सिंह चुनाव से संबंधित कार्यकर्ताओं की मीटिंग ले रहे थे। मीटिंग में देश में किसानों के आंदोलन, पेट्रोल, डीजल, और गैस की बढ़ती हुई कीमतों के अलावा बढ़ती हुई बेरोजगारी और कमरतोड़ महंगाई पर चर्चा चल रही थी। इसी दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी भाजपा सरकार से त्रस्त होकर बसपा कार्यालय मैं महाबली हनुमान बजरंगबली कार्यालय की दीवार पर बसपा का झंडा लेकर बैठे नजर आए यह नजारा देखकर वहां उपस्थित कार्यकर्ताओं में आपस में चर्चा होने लगी कि भाजपा देश में रामराज स्थापित करने और राम मंदिर के निर्माण के वायदे के साथ महाबली हनुमान बजरंगबली का नारा देकर सत्ता में आई थी। परंतु सत्ता में आने के बाद भाजपा अपने वायदे के खिलाफ जनविरोधी कार्य करने लगी। जिस से त्रस्त होकर महाबली हनुमान बजरंगबली ने भगवा झंडा छोड़कर, बहुजन समाज पार्टी का नीला झंडा थाम लिया। बसपा कार्यालय में उपस्थित कुछ लोगों का यह भी मानना था। की महाबली हनुमान बजरंगबली बाबासाहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के संविधान के साथ ही देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था और अपने अनुयायियों की रक्षा हेतु आज बहुजन समाज पार्टी के कार्यालय में प्रकट होकर बहुजन समाज का झंडा उठाना इस बात का संकेत है। की भगवान राम के नाम पर सत्ता हथियाने वाली मोदी योगी की सरकारों से भगवान राम भी नाराज हो गए हैं। और देश और बहुजन समाज की रक्षा के लिए महाबली हनुमान बजरंगबली को निर्देश दे दिया है। कि भाजपा के रावण राज को खत्म करके बहुजन समाज की रक्षा का संकल्प लेकर भारत में राम राज्य की स्थापना करो।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग