मेरा जमीर मर गया होता तो मैं भी भाजपा सपा बसपा कॅग्रेस कोई अन्य पार्टी जॉइन करता भारतीय संविधान बचाना है बीएमपी को लाना-गादरे*




 *मेरा जमीर मर गया होता तो मैं भी भाजपा सपा बसपा कॅग्रेस कोई अन्य पार्टी जॉइन करता भारतीय संविधान बचाना है बीएमपी को लाना-गादरे*

मेरठ:- मेरा जमीर मर गया होता कौन की फिकर ना होती तो मैं भी भाजपा सपा बसपा कांग्रेस या अन्य कोई राजनैतिक दल में जा सकता था लेकिन मेरा जमीर भारतीय संविधान के लिए जिंदा है और हमें भारतीय संविधान बचाना है तो केवल एक ही मात्र पार्टी बीएमपी को लाना है।

बहुजन मुक्ति पार्टी के पश्चिमांचल जोन महासचिव एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष आरडी गादरे ने जनसंपर्क के दौरान एक वक्तव्य में लोगों के पूछे जाने पर कहा कि यदि मेरा जमीर जिंदा ना होता मेरी भी आत्मा मर गई होती तो मैं भी लोगों की तरह भाजपा सपा बसपा कांग्रेस या अन्य कोई दल अपने मतलब परस्ती के लिए ज्वाइन कर सकता था लेकिन आज भारत देश में गणतंत्र देश को बचाने के लिए भारतीय संविधान की रक्षा के लिए मूल निवासियों के आप इज्जत बचाने के लिए समानता के अधिकार लाने के लिए बड़ी सोच समझकर बामसेफ की विचारधारा से ओतप्रोत एकमात्र बहुजन मुक्ति पार्टी ज्वाइन की है जिससे कि हमारे गरीब मजलूम दबे कुचले किसान समस्त मूल निवासियों की रक्षा की जा सके और मैं हर संभव प्रयासरत हूं कि विदेशी और अंग्रेज अंग्रेजों की तलवे चाटने वाले माफी मांगने वाले लोगों से जंग लड़ता हुआ मरना बेहतर समझता हूं क्योंकि हमारा भारतीय संविधान समस्त संसार में एकमात्र समानता का आशावाद का संविधानिक देश है और इसकी रक्षा के लिए मैं अपनी कुर्बानी देने के लिए तैयार रहता हूं अपने दबे कुचले वर्ग की उन्नति के लिए एकमात्र उपाय बहुजन मुक्ति पार्टी है यदि आप अन्य पार्टियों के बारे में जानकारी करते हैं तो पाया जाता है कि सब लोग अपनी कोमो को बेचने पर पूंजी पतियों को देशद्रोहियों को अपने मतलब के लिए उनमें शामिल हो रहे हैं लेकिन मैंने ऐसा इसलिए नहीं किया और जिसका जमीर जिंदा होगा वह भी ऐसा कभी नहीं करेगा देश की रक्षा के लिए बहुजन मुक्ति पार्टी बामसेफ की विचारधारा को प्रत्येक मूल निवासी को सोचना और समझना होगा तभी हमारा भारतीय संविधान बच सकता है अन्यथा हमें और अन्य लोगों में कोई फर्क नहीं होगा। मेरठ दक्षिण विधानसभा का जन्म प्रिय आंदोलन में जन जागृति करते हुए बहुजन मुक्ति पार्टी के कार्यकर्ताओं ने लोगों से प्यार मोहब्बत बनाए रखने के लिए कहा आह्वान किया बैठक में हाजी अब्दुल जब्बार ओमवीर सिंह महेंद्र प्रताप सुरेश गुर्जर दिलशाद कस्सार मुस्तकीम मलिक हाजी अंसार अंसारी मोहम्मद इमरान मोहम्मद सलीम मेराज अलवी नूर मो सलमानी मोहम्मद नवेद अख्तर बब्बू खान नसीम सैफी चौधरी सोहेल गाजी जफर मलिक दिनकर इकबाल पसीना सत्येंद्र गौतम आदि मौजूद रहे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग