कैसे पत्थर लोग हैं आजकल सरकारों में

 कैसे पत्थर लोग हैं आजकल सरकारों में

 लेखक : ज़फरुद्दीन "ज़फर"

+++++++++++++++++++++++++++


कैसी सच्ची ख़बर है मुल्क के अख़बारों में,
दवाईयां ढूंढती हैं मज़हब आज बीमारों में।


वो अकबर नहीं फिर भी जलाल आ गया,
प्रेम उसने चुन दिया नफ़रत की दीवारों में।


कुछ लोग चले गए, कुछ लोग चले जाएंगे,
ग़ुरूर किस बात का है शहर के दरबारों में।


पुर्जा पुर्जा बिक रहा है देश की मशीन का,
चेहरा बदल कर बैठे हैं वो भी खरीदारों में।


मज़हब ज़ात में उलझाकर चल रहे हैं बस,
दम नहीं रह गया है आजकल किरदारों में।


मन की कह कर कभी मन की सुनते नहीं,
कैसे पत्थर लोग हैं आज कल सरकारों में।


कल बेची थी चाय उसने रेलवे स्टेशन पर,
आज मुल्क बेच दिया शहर के दमदारों में।


जीत ली है जंग उसने झूठ की तलवार से,
सच की क़ीमत नहीं सत्ता के गलियारों में।


हो रही हैं आजकल तैयारियां इस बात की,
क्या खाना है पकाना है अपने घर-बारों में।


वक़्त फिर आ गया लोकतंत्र की शक्ति का,
धार तेज़ करके रखिए वोट की तलवारों में।


यूं ख़ून खौलता है मेरा देख कर दीवार को,
'ज़फ़र' इंसाफ़ नहीं हुआ घर के बंटवारों में।


-ज़फ़रुद्दीन"ज़फ़र"
एफ़-413,
कड़कड़डूमा कोर्ट,
दिल्ली-32
zzafar08@gmail.com

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग