ये हाथ नहीं जिसके उसका भी मुक़द्दर है

 

ये


हाथ नहीं जिसके उसका भी मुक़द्दर है

वो हाथ की लकीरों से ख़ाक़ सिकन्दर है,
ये हाथ नहीं जिसके उसका भी मुकद्दर है।

मुझमे क्या कमी है कि सियासत ना करूं,
मेरी चाय की दुकान में झूठ का लश्कर है।

कैसे मानूं कि दुनिया में है शैतान अकेला,
मेरे शहर में भी तो नफ़रत का पयम्बर है।

दो चार आंसू बहने से ग़म होगा क्या कम,
मुझे ग़म इतना है कि आंखों में समन्दर है।

मैं गुनहगार हूं तफ्तीश में,बेशक फुटेज में,
उसके हाथ में बंदूक, मेरे हाथ में पत्थर है।

बड़ा आदमी होने की कोई और शर्त रखो,
दौलत हर एक शख्स को कहां मयस्सर है।

उलझन में इसलिए भी रहता हूं आजकल,
घर अपना है फिर भी कांटों का बिस्तर है।

तुम बा-हिफ़ाज़त रहने की उम्मीद छोड़िए,
वो कपटी है, आंखों में धोखे का अस्तर है।

ज़फ़र वैसे तो करता है वो मन की गुफ्तगू ,
मगर उसकी बातें नहीं जैसे कोई नश्तर है।

ज़फ़रुद्दीन ज़फ़र
एफ़-413,
कड़कड़डूमा कोर्ट,
दिल्ली-32
zzafar08@gmail.com


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग