मंसूरी समाज को राजनीतिक शक्ति बनाने के साथ ही सामाजिक स्तर पर समाज में बढ़ती हुई दहेज प्रथा समाज के लिए घातक



 नई दिल्ली 9 फरवरी अखिल भारतीय मंसूरी समाज की राष्ट्रीय कार्यकारिणी व प्रदेश अध्यक्षों की एक महत्वपूर्ण बैठक इंडियन इस्लामिक कल्चर सेंटर लोधी रोड नई दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष जनाब फरज़ान मंसूरी साहब की अध्यक्षता में संपन्न हुई। आज की महत्वपूर्ण बैठक में संगठन विस्तार से लेकर देश के मौजूदा हालातों पर भी चर्चा की गई। बैठक में मंसूरी समाज को राजनीतिक शक्ति बनाने के साथ ही सामाजिक स्तर पर समाज में बढ़ती हुई दहेज प्रथा को समाज के लिए घातक बताते हुए। उसको दूर करने और समाज के निर्धन वर्ग के लोगों को आर्थिक तौर पर मजबूत करने पर चर्चा की गई।

आज की बैठक में मुख्य अतिथि अल्पसंख्यक आयोग दिल्ली के चेयरमैन जनाब जाकिर खान मंसूरी ने कहां की मंसूरी समाज जो देश में बड़ी संख्या में है। परंतु हमारे समाज के लोग आजादी के बाद से अशिक्षा, गरीबी, और बेरोजगारी से लगातार संघर्ष करते रहे। परंतु पिछले 20, 25 सालों में मंसूरी समाज में तेजी से जागरूकता बढ़ी है। जिसका परिणाम देश के शासन और प्रशासन मैं मंसूरी समाज की भागीदारी बढ़ रही है। उन्होंने कहा हमारी मंजिल यही पूरी नहीं होती है। हमें आगे भी संघर्ष करना होगा। बैठक में उपस्थित समाज के लोगों को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय मंसूरी समाज के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष उस्मान अली मंसूरी ने कहा आज देश के अंदर मंसूरी समाज के जो भी संगठन काम कर रहे हैं। हमें उनकी बुराई और उनके विरोध से बचना चाहिए। हमें सोचना चाहिए। मंसूरी समाज भारत में बहुत बड़ा समाज है। सभी लोग अपने अपने तरीके से मंसूरी समाज में जागरूकता और इत्तेहाद का काम कर रहे हैं। सबका मकसद एक है। सब समाज को संगठित करना चाहते हैं। सब समाज में जागरूकता पैदा करना चाहते हैं। हम मंसूरी समाज में काम करने वाले प्रत्येक संगठन के लोगों का सम्मान करते हैं। क्योंकि जो काम एक संगठन कई सालों में नहीं कर पाता वही काम सब मिलकर तेजी से कर रहे हैं। जिसके परिणाम निगम पार्षद से लेकर विधायक तक बनना सभी के सामने हैं। बैठक में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए गुजरात के प्रदेश अध्यक्ष व उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्षों ने अपने-अपने राज्यों में अखिल भारतीय मंसूरी समाज द्वारा किए गए अब तक के कार्यों की जानकारी देते हुए कहा कि हमारे राज्यों में तेजी से हमारे समाज में जागरूकता बढ़ रही है। और लोग संगठित हो रहे हैं। बैठक में सबसे ज्यादा चर्चा राजस्थान के संगठन की की गई। जहां पर अखिल भारतीय मंसूरी समाज की यूथ विंग, युवाओं में काम कर रही है। महिला विंग महिलाओं में जागरूकता पैदा कर रही है। जिसके परिणाम निकाय चुनाव में देखने को मिले हैं। वहां पर कई पार्षद कई चेयरमैन मंसूरी समाज से चुनाव जीतकर आए हैं। इससे मंसूरी समाज की राजस्थान के अंदर राजनीतिक संभावनाएं तेजी से बढ़ने लगी है।

बैठक में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय मंसूरी समाज उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष मुस्तकीम मंसूरी ने कहा पूरे देश में मंसूरी समाज के सात संगठन समाज के बीच कार्य कर रहे हैं। परंतु अखिल भारतीय मंसूरी समाज जिस तरीके से काम कर रहा है। अगर इस तरह का काम अब से 10, 15 साल पहले शुरू हो गया होता तो लगभग आधे राज्यों में मंसूरी समाज की विधानसभाओं में भागीदारी निश्चित होती। उन्होंने कहा अखिल भारतीय मंसूरी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष जनाब फरज़ान मंसूरी साहब ने अपने संगठन में राजनीतिक, सामाजिक,व मजहबी लोगों को एक नया प्लेटफार्म देकर जो पहल की है। इसके परिणाम अगले 5 साल में देखने को मिलेंगे। क्योंकि अब तक जो भी मंसूरी समाज के संगठन समाज के बीच काम करते थे। वह राजनीतिक सोच के व्यक्तियों से हमेशा दूरी बनाकर रहते थे। जिसकी वजह से हमारा मंसूरी समाज राजनीतिक तौर पर कमजोर हो गया परंतु फरज़ान मंसूरी साहब की पहल से यह उम्मीद जागी है। की तेजी से मंसूरी समाज में सत्ता की भूख पैदा होगी। और उस सत्ता की भूख का परिणाम यह होगा। के प्रत्येक राजनीतिक दल को मंसूरी समाज के लोगों को नजरअंदाज करना महंगा पड़ जाएगा। बैठक के अंत में अखिल भारतीय मंसूरी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष फरजान मंसूरी ने कहा की आजादी के 72 सालों बाद भी मंसूरी समाज को उसकी आबादी के अनुपात से सत्ता में भागीदारी नहीं मिल पाई जिसके कारण हमारा समाज तरक्की की दौड़ में बहुत पीछे रह गया। परंतु अब ऐसा नहीं चलेगा, उन्होंने कहा हमारा समाज तेजी से संगठित हो रहा है। और उसमें सत्ता की भूख पैदा करने के लिए हमने अपने समाज के राजनीतिक लोगों को आगे लाकर मंसूरी समाज में राजनीतिक चेतना पैदा करने का जो काम शुरू किया है। उसके परिणाम बहुत जल्द आपके सामने होंगे। फरज़ान मंसूरी ने कहा हमारे सामाजिक संगठनों में हमेशा इस बात की कमी रही कि उन्होंने राजनीतिक सोच के व्यक्तियों को संगठन से दूर रखकर समाज का बहुत बड़ा नुकसान किया है। परंतु हमने मंसूरी समाज में राजनीतिक प्रतिभाओं को आगे बढ़ाकर उन्हें सम्मान के साथ संगठन में जगह देकर राजनीतिक प्रतिभाओं को खोजने की जिम्मेदारी देकर सत्ता में भागीदारी का रास्ता तय किया है। कार्यक्रम के अंत में सभी प्रदेशों से आए प्रदेश अध्यक्षों और राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों को अखिल भारतीय मंसूरी समाज के स्मृति चिन्ह की शिल्ड देकर सम्मानित किया गया। वही अल्पसंख्यक आयोग दिल्ली के चेयरमैन जाकिर खान मंसूरी शेरे दिल्ली को भी सम्मानित किया गया। आज की बैठक में दिल्ली से नजाकत मंसूरी, हरियाणा से शाहनवाज मंसूरी, राजस्थान से शफी मोहम्मद मंसूरी गुजरात से अफ़ज़ल मंसूरी, उत्तराखंड से डॉ शमी मंसूरी, डॉ राहुल मंसूरी, फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश से डॉ अरशद अली मंसूरी, डॉक्टर अब्बास मंसूरी, राजस्थान से युवा प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद अली मंसूरी, आदि के अलावा राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य आदि उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग