अखिलेश यादव द्वारा युवा नेतृत्व को पीलीभीत जिले की कमान सौंपते ही सपा की गुटबाजी हुई खत्म।

 अखिलेश यादव द्वारा युवा नेतृत्व को पीलीभीत जिले की कमान सौंपते ही सपा की गुटबाजी हुई खत्म।





बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से मुस्तकीम मंसूरी की खास रिपोर्ट।

युवा जिलाध्यक्ष जगदेव सिंह जग्गा व युवा जिला महासचिव युसूफ कादरी की नियुक्ति से सपाइयों में आया नया जोश।


सपा द्वारा आयोजित किसान जागृति अभियान में सपा युवाओं के साथ ही किसानों का उमड़ा जनसैलाब भाजपाई हुए परेशान 


पीलीभीत 22 फरवरी किसान जागृति अभियान के तहत पीलीभीत जिले में किसानों की लड़ाई मज़बूती से लड़ रहे पूर्व राज्य मंत्री हेमराज वर्मा के नेतृत्व में कृषि संबंधी तीनों काले कानून को लेकर बरखेड़ा क्षेत्र के तीन महत्वपूर्ण स्थानों महचंदी चौराहा, न्यूरिया कॉलोनी और मरौरी बाज़ार में 'किसान पंचायत' का आयोजन हुआ।इस कार्यक्रम का उद्देश्य दिल्ली में चल रहे देशव्यापी किसान आन्दोलन को मज़बूती प्रदान करने के लिए एक व्यापक जनजागरण के माध्यम से क्षेत्र के आक्रोशित किसान एवं आम गरीब-मजदूर लोगों को संगठित करने के लिए किया गया। जिससे वह आने वाले वक्त की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए अपने हक एवं अधिकार की लड़ाई मज़बूती से लड़ सकें।इस 'किसान पंचायत' में कईयों गाँव के किसान व आम ग़रीब मजदूर लोगों को एक साथ कृषि संबंधी तीनों काले कानूनों के बारे में जागरूक करने का कार्य किया गया। साथ दिल्ली बॉर्डर पर पिछले 89 दिनों से चल रहे लाखों किसानों के आंदोलन को समर्थन देने का आवाह्न हुआ। साथ ही आंदोलनरत किसानों के संघर्ष और शहादत को याद किया गया, जिसमें अब तक 250 से भी ज़्यादा शहीद किसानों को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि प्रेषित की गई। इस किसान पंचायत कार्यक्रम में पूर्व मंत्री हेमराज वर्मा के साथ क्षेत्र के कई किसान नेता मौजूद रहे। साथ ही इस कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी पीलीभीत जिला  महासचिव युसुफ क़ादरी भी पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं के साथ अपनी सक्रिय भागीदारी दर्ज की।इस किसान पंचायत में अपनी बात को रखते हुए पूर्व मंत्री हेमराज वर्मा ने कहा, "भाजपा ने देश के किसानों और आम ग़रीब मजदूर लोगों के साथ विश्वासघात किया है, उन्हीं की वोट के ताकत से देश की सत्ता पर काबिज़ हुए। आज वे उन्हीं के दुश्मन बन गए हैं, आज वे अपने व्यक्तिगत स्वार्थों के चलते देश के चंद पूँजीपतियों के हाथ गिरवी रख दिया है। सत्ता के अहंकार में वे इस कदर मदहोश हो चुके हैं वे देश की आम गरीब-मजदूर लोगों की पेट पर लात मारने व देश के किसानों की रीढ़ तोड़ने के लिए कृषि सुधार के नाम पर तीन काले कानूनों को जबरन थोप दिया है। 


लेकिन देश का स्वाभिमानी किसान एवं गरीब-मजदूर तबका इनके कुनीतियों एवं दमनकारी रवैयों से झुकने वाला नहीं है, जबकि वह उन्हें खुलकर जवाब दे रहा है। जिसका नतीजा है कि आपके उत्तर प्रदेश के ही कई जिलों में इन भाजपाईयों का गाँव-गाँव से सामाजिक बहिष्कार हो रहा है, बाकायदा इन लोगों ने शादी-ब्याह जैसे कार्यक्रमों में लोगों ने बुलाना बंद कर दिया। अगर हालात यही रहे तो आगे इनको इससे भी बुरे दिन देखने पड़ेंगे। 

इस दौरान सपा ज़िला महासचिव यूसुफ क़ादरी ने कहा कि हर चीज़ की महंगाई बढ़ रही है जबकि गन्ना खरीद पिछले 4 वर्षो से पुराने मूल्य पर ही हो रही है , श्री क़ादरी ने कहा कि सरकार की निजीकरण नीति से युवा, छात्र वर्ग को नौकरी मयस्सर नही हो पा रही हैइस पंचायत में शामिल कई अन्य नेताओं ने भी कृषि के काले क़ानूनों के पड़ने वाले दुष्प्रभावों के बारे में अपनी बात रखी।इस किसान पंचायत कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मुख्य रूप से मरौरी के ब्लॉक प्रमुख अरुण वर्मा, धर्मेंद्र सिंह भदौरिया और साथ ही क्षेत्र के सैकड़ों समर्पित कार्यकर्ताओं ने की।

इस किसान पंचायत में भारी संख्या में लोग ने अपनी भागीदारी दर्ज की और बेहद गंभीरता से कार्यक्रम को शुरू से अंत तक सुना। तथा इस कार्यक्रम क्षेत्र के शामिल सभी किसान एवं गरीब-मजदूर साथियों ने एक स्वर से प्रस्ताव पारित किया कि वे इस संघर्ष में अपने आन्दोलनकारी किसान भाईयों के साथ हैं। जब तक यह हिटलरशाही सरकार कृषि के तीनों काले कानून वापस नहीं ले लेती और MSP पर कानूनी अधिकार नहीं दे देती। तब तक इस संघर्ष में कदम-कदम मिलाकर लड़ते रहेंगे। देश के अन्नदाता का हर परिस्थितियों में साथ देते रहेंगे।

आज की इस किसान पंचायत में पूर्व मंत्री हेमराज वर्मा,जिलामहासचिव यूसुफ कादरी,ब्लॉक प्रमुख अरुण वर्मा,मो.इलियास, परविंदर सिंह पैरी, सोनपाल राणा,रवि रस्तोगी,विशनाथ सरकार,मनोहर साना, हरप्रशाद वर्मा,नेतराम वर्मा,राजेश कुमार,भूपराम,हीरा सिंह,शिबपद मंडल,हरीश वर्मा,जियाउद्दीन,परविंदर,विल्लु चौधरी,हीरा सिंह आदि किसान लोग मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग