भीलवाड़ा राजस्थान, अखिल भारतीय मंसूरी समाज की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की मीटिंग इस्लामिक कल्चर सेंटर नई दिल्ली में

 भीलवाड़ा राजस्थान, अखिल भारतीय मंसूरी समाज की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की मीटिंग इस्लामिक कल्चर सेंटर नई दिल्ली में गत दिवस अखिल भारतीय मंसूरी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष जनाब फरजान मंसूरी साहब की अध्यक्षता में हुई।

मीटिंग के अंदर विभिन्न प्रांतों से अखिल भारतीय मंसूरी समाज के प्रदेश अध्यक्षों के अलावा राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य भी शामिल हुए। मीटिंग में प्रत्येक प्रांतों से आए प्रदेश अध्यक्षों ने अपने-अपने राज्यों में अब तक किए गए कार्यों की जानकारियां दी। इसके साथ ही राजस्थान में अखिल भारतीय मंसूरी समाज के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए कार्यों पर विशेष चर्चा की गई। क्योंकि राजस्थान देश का पहला ऐसा राज्य है। जहां पर अखिल भारतीय मंसूरी समाज के युवा समाज के बीच काम कर रहे हैं। वही मंसूरी समाज की महिलाएं भी राजस्थान के अंदर अपने समाज में जागरूकता पैदा करने के साथ ही तेजी से महिलाओं का संगठन विस्तार कर रही हैं। राजस्थान में युवाओं का जोश अपने चरम पर है। जहां 18 वर्ष की आयु से लेकर 20 वर्ष की आयु तक के युवाओं ने मंसूरी सेना बना कर समाज के बीच काम करने का जो तरीका अख्तियार किया है। वह काबिले तारीफ है। बैठक में राजस्थान के बाद गुजरात उत्तर प्रदेश उत्तराखंड के अलावा कई राज्यों के अध्यक्षों ने अपने-अपने राज्यों में जो कार्य किए हैं। उनकी विस्तार से जानकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ ही राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों को भी अवगत कराया। कार्यक्रम में उस वक्त युवाओं का जोश और बढ़ गया जब शेरे दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन जनाब जाकिर खान मंसूरी ने कहा की यूं तो देश के अंदर मंसूरी समाज को संगठित करने का काम हमारे बुजुर्गों ने शुरू किया था। जिस को आगे बढ़ाने के लिए देश में कई संगठन बने परंतु उनके पास योजनाओं का अभाव होने की वजह से वह मंसूरी समाज को कोई फायदा नहीं पहुंचा सके। उन्होंने कहा 2017 में समाज को संगठित करने उनको सत्ता में भागीदारी दिलाने और उनके साथ सामाजिक न्याय का संकल्प लेते हुए। जनाब फरजान मंसूरी साहब ने अखिल भारतीय मंसूरी समाज बनाकर देश के मंसूरी समाज को एक ऐसा प्लेटफार्म दिया है। जहां से समाज तरक्की भी करेगा सत्ता में भागीदारी भी सुनिश्चित होगी। और उनके सामाजिक कार्यों से मंसूरी समाज के अलावा अल्पसंख्यकों के कमजोर तबके को भी इसका फायदा मिलेगा। कार्यक्रम के आखिर में राष्ट्रीय अध्यक्ष फरजान मंसूरी साहब ने मोहम्मद अली मंसूरी भीलवाड़ा राजस्थान को अखिल भारतीय मंसूरी समाज की युवा इकाई का राष्ट्रीय महासचिव घोषित करके यह संदेश दिया है कि अब मंसूरी समाज की कमान युवाओं को आगे बढ़कर संभालना होगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष फरजान मंसूरी साहब द्वारा युवा मोहम्मद अली मंसूरी को राष्ट्रीय महासचिव बनाए जाने का सभी ने खड़े होकर तालियां बजाकर स्वागत किया। वही उत्तर प्रदेश की कमान वरिष्ठ पत्रकार राजनीति में अपनी अलग पहचान बनाने वाले जनपद बरेली के मुस्तकीम अहमद मंसूरी साहब को उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी देते हुए प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष मुस्तकीम मंसूरी ने कहा कि उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य की जिम्मेदारी अपने आप में बड़ी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। जिसको उठाने के लिए उन्हें अपने पुराने साथियों जिन्होंने अपनी जिंदगी मंसूरी समाज की खिदमत के लिए वक्फ कर दी है। उन लोगों के सहयोग और समाज के युवा राजनीतिक, और सामाजिक लोगों, के साथ ही मजहबी सोच  के माहिर लोगों को साथ लेकर उत्तर प्रदेश में अखिल भारतीय मंसूरी समाज को मजबूत करने का कार्य करेंगे। उन्होंने कहा अब तक जो संगठन मंसूरी समाज के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने हमेशा समाज के बुद्धिजीवी वर्ग, राजनीतिक सोच के व्यक्तियों और समाज सेवा का कार्य करने वालों को संगठन से दूर रखा। जिसकी वजह से मंसूरी समाज तरक्की की दौड़ में बहुत पीछे रह गया है। परंतु अब हर प्रतिभाशाली मंसूरी समाज के व्यक्ति को अखिल भारतीय मंसूरी समाज से जोड़कर मंसूरी समाज को मजबूत किया जाएगा। मीटिंग में राष्ट्रीय महासचिव उस्मान अली मंसूरी, शफी मोहम्मद मंसूरी, गुजरात प्रदेश अध्यक्ष गुड्डू मंसूरी, उत्तराखंड प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर नदीम मंसूरी, डॉ राहुल मंसूरी, डॉ अरशद मंसूरी, शाहिद मंसूरी, आदि मुख्य वक्ताओं के अलावा राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सभी सदस्य भी उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग