पड़ोसी देशों में पेट्रोल का दाम भूटान -- ₹49 प्रति लीटर


                            झारखंड आज  पड़ोसी देशों में पेट्रोल का दाम कम है और भारत में पेट्रोल के दाम बहुत ज्यादा हो चुके हैं जिसके कारण लोगों को सोचने पर मजबूर होना पड़ रहा है आखिरकार सरकार क्या चाहती है और सरकार की यह कौन सी नीति है जिसके तहत सरकार पेट्रोल के दाम दिन पर दिन बढ़ाए जा रही है।

                              भूटान      -- ₹49 प्रति लीटर

                              पाकिस्तान-- ₹51 प्रति लीटर

                              श्रीलंका  -----₹60 प्रति लीटर

                              नेपाल ---------₹67 प्रति लीटर

                              बांग्लादेश -----₹76 प्रति लीटर                                      पेट्रोल एवं अन्य जरूरी सामानों की दामों में लगातार बढ़ोतरी के खिलाफ अभियान चलाने की तैयारी के लिए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी गोमिया अंचल परिषद की ओर से पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक आयोजित की गई। बैठक को संबोधित करते हुए पार्टी नेता एवं झारखंड आंदोलनकारी इफ्तेखार महमूद ने कहा कि  अंतरराष्ट्रीय बाजार में सिर्फ भारत के लिए पेट्रोल- डीजल का दाम तैय नहीं होता है,बल्के सारे खरीदार देशों के लिए एक ही मापदंड है। लेकिन टैक्सजीवी मोदी सरकार बार-बार टैक्स बढा करके पेट्रोल को मंहगा कर दे रही है। उन्होंने कहा कि भारत से ही पेट्रोल खरीदने वाला नेपाल के पेट्रोल विक्रेता ₹68 प्रतिलीटर बेच रहे हैं, लेकिन भारत में उसी पेट्रोल का ₹22 अधिक कीमत देकर खरीदना पड़ रहा है। श्री महमूद ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत निर्धारित होने के बाद भी भूटान में ₹49/प्रति लीटर, पाकिस्तान में ₹51, श्रीलंका में ₹68 तथा बांग्लादेश में ₹76 प्रति लीटर की दर से पेट्रोल बिक रहा है। उन्होंने कहा कि एक देश एक टैक्स का नारा देने वाले पेट्रोल  को जीएसटी से बाहर रखकर देशवासियों के साथ धोखेबाजी किया गया है।

इफ्तेखार महमूद ने कहा कि भाजपा के लोग कभी भी देशभक्त नहीं रहे हैं। अंग्रेज काल में अंग्रेजों के ये प्रशंसक थे, अंग्रेजों के जाने के बाद अंग्रेजों वाला काम ये स्वय करने लगे हैं। पाकिस्तान (सीआईए) के लिए जासूसी,एवं गायों की तस्करी में भाजपाइयों का नाम तो आ ही चुका है, अब ये बांग्लादेशियों को अपनी पार्टी का पदाधिकारी भी बनाने लगे हैं। उल्लेखनीय है कि रुबेल शैख  नाम का एक बांग्लादेशी उत्तर मुंबई अल्पसंख्यक सेल का अध्यक्ष है।

 इस अवसर पर सभी पार्टी सदस्यों ने वर्ष 2021के लिए अपनी पार्टी सदस्यता का नवीकरण भी कराया। बैठक की अध्यक्षता किसान सभा के नेता मौजी लाल महतो ने किया तथा संचालन सहायक अंचल सचिव देव आनंद प्रजापति ने किया। जिला परिषद सदस्य मुकुंद शाह ,गेंदों केवट, खुर्शीद आलम, पूर्व मुखिया मालती देवी, सरिता देव और जीतू सिंह ने भी बैठक को संबोधित किया। अंत में निर्णय लिया गया कि गोमिया के अलावा अगल-बगल के प्रखंडों के हर राजस्व गांव में सभा कर जहरीला कृषि कानून, महंगाई, निष्पक्ष एवं स्वतंत्र पत्रकारों पर भाजपाई सरकारों के द्वारा लगातार हमला तथा देश की अत्यंत चिंताजनक स्थिति की जानकारी जनता को दी जाएगी। बैठक में सुरेश प्रजापति अशरफ अंसारी शाने रजा, इसराइल अंसारी,लाला गोप मुख्य रूप से उपस्थित थे 





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग