भारतीय किसान यूनियन बलराज संगठन ने ग्रेटर नोएडा निकट परी चौक पर किया कैंप कार्यालय का उद्घाटन



10 दिसंबर 2020 दिन बृहस्पतिवार को भारतीय किसान यूनियन बलराज संगठन ने ग्रेटर नोएडा निकट परी चौक गांव तुगलपुर पहुंच कर चौधरी बसीर अली चेची निवास पर राष्ट्रीय अध्यक्ष बलराज भाटी जी द्वारा उत्तर प्रदेश कैंप कार्यालय का उद्घाटन किया बलराज भाटी जी ने चे

ची जी के माता पिता को चादर व साल उढ़ाकर आशीर्वाद के तौर पर सम्मान किया और सुपरीटेंडेंट ऑफिसर सीआरपीएफ के सुहेल लियाकत का सम्मान कर अपने शब्दों में हौसला बढ़ाया युवाओं को संदेश दिया पढ़ लिख कर सभी युवा सुहेल लियाकत जैसे समाज में ऑफिसर बनने पर हमें गर्व होता है संगठन का विस्तार किया तथा बलराज भाटी जी व संगठन के सभी कार्यकर्ताओं ने केंद्र के नए तीन कृषि कानून बिल का पुरजोर विरोध किया इसी के साथ संगठन ने जोर दिया भारतीय संस्कृति व समाज में बड़ों का आदर करना अनिवार्य है युवाओं का काबिले तारीफ कार्य करने पर सभी को गर्व होता है उत्तर प्रदेश अध्यक्ष चौधरी शौकत अली चेची ने आज की युवा जनरेशन औलाद के लिए ऊपर वाले के बाद मां बाप का दूसरा दर्जा बताया उन्होंने रागिनी के माध्यम से लोगों को मंत्रमुग्ध किया जिससे उपस्थित सज्जनों ने चेची जी की काबिले तारीफ सराहना की आइए सुनते हैं मां बाप को क्यों श्रेष्ठ माना गया है मुख्य रूप से इस मौके पर उपस्थित माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष बलराज भाटी राष्ट्रीय मुख्य महासचिव ओमपाल भाटी जी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वीर सिंह चेयरमैन राष्ट्रीय महासचिव उधम भाटी राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री चंद्रपाल बंसल राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एडवोकेट ठाकुर प्रताप सिंह राष्ट्रीय सचिव सुनील भाटी राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी बी एल शर्मा मेरठ मंडल महासचिव एससी शर्मा मेरठ मंडल उपाध्यक्ष राकेश श्रीवास्तव गौतम बुध नगर जिला अध्यक्ष हातिम भाटी सिकंदराबाद तहसील महासचिव साजिद भाटी दादरी ब्लॉक महासचिव राजू बैसला आदि काफी तादात में किसान किसान उपस्थित हुए

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग