तीन कृषि बिल जीएसटी और नोटबंदी से भी ज्यादा घातक कानून


 सभी देशवासी मिलकर विचार करें किसानों के लिए संघर्ष करें सरकार या सरकार के चापलूस तीन कृषि बिल कानून की उपलब्धियां गिना रहे हैं लेकिन इन तीनों कानूनों से देश की लगभग 80% आबादी प्रभावित होगी जिसका खामियाजा आने वाले समय में नोटबंदी जीएसटी से भी ज्यादा घातक सिद्ध  होगा असल सवाल लगभग 70% किसानों के बेटे बनके किसानों का भला करने का वादा करके जनता द्वारा चुने गए नुमाइंदे जीतकर सत्ता में बैठे हैं अगर किसानों का भला करना या देश का भला करना है तो  सत्ता में बैठे किसान नेताओं को इस्तीफा दे देना चाहिए जिससे किसानों और आम जनता को मुसीबत से बचाया जा सके हार जीत की परवाह ना करके पुण्य का काम करें क्योंकि बीजेपी सरकार ने देश जनता की बर्बादी के बहुत सारे कानून बनाए हैं देश के कोने कोने में विरोध किया गया लेकिन बीजेपी की कान पर जूं नहीं रेंगी धरना प्रदर्शन आंदोलन करके भारतवासी हार कर बैठ गए बीजेपी ने अपने बनाए कानूनों में ना संशोधन किया ना वापस लिया गोदी मीडिया व बीजेपी द्वारा झूठ गुमराह नफरत बर्बादी वाले कानूनों को ऐतिहासिक बताते रहे जिसका खामियाजा अनजान व आम लोगों को भुगतना पड़ा वैसे तो अन्नदाता सीमा के जवान किसी भी मुसीबत या परेशानी से घबराने वाले नहीं होते अगर सरकार यह समझ ले की आंदोलनों को दबाया जा सकता है तो अन्ना हजारे जी ने आंदोलन किया बीजेपी को लाभ पहुंचाया और रामदेव बाबा ने रामलीला मैदान से सलवार पहनकर भागने में सफल हुए लाभ बीजेपी को हुआ अब असल सवाल यह आता है किसान जागरूक हो चुका है किसानों के बड़े आंदोलन सफल हुए हैं जिसका कारण कोई भी हो सकता है इतिहास के पन्नों में दर्ज है इसीलिए केंद्र सरकार को निजी स्वार्थ में या यूं कहें हट कर्मी छोड़कर अन्नदाताओं की जायज मांग को स्वीकार कर सहनशीलता इंसानियत मान मर्यादा भारतीय संस्कृति संविधान का परिचय देकर इतिहास के पन्नों में दर्ज कराएं क्योंकि किसी की भी सरकार बगैर किसानों के नहीं बन सकती तथा देश की तरक्की बगैर किसानों के नहीं हो सकती किसान से बड़ा भारत में परोपकारी आशावादी संघर्षशील ईमानदार मेहनती पुण्य कमाने वाला दूसरा है ही नहीं किसान है तो सब कुछ है समझना जरूरी देश के सभी किसान नेता सत्ता में या विपक्ष में बैठे इस्तीफा देकर मानवता और महानता का परिचय देकर मिसाल कायम करने की कृपा करें


दर्द उसी को होता है जिसे चोट लगती है ऊपर वाले की लाठी में आवाज नहीं होती सच्चाई से बड़ी दूसरी कोई ताकत नहीं होती


 जय जवान जय किसान किसान एकता जिंदाबाद हम सबका भारत देश जिंदाबाद संविधान जिंदाबाद देश आजादी के दीवाने  शूरवीर शहीद अमर रहे 


भाकियू (बलराज )प्रदेश अध्यक्ष चौधरी शौकत अली चेची

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग