"सचिन चौधरी" को सोमवार को अमरोहा कलेक्ट्रेट में किसानों के धरना स्थल पर पहुंचे, पहले से मौजूद भारी पुलिस बल ने किया गिरफ्तार।




किसान आंदोलन के  समर्थन में  पहुंचे- *सचिन चौधरी* को अमरोहा कलेक्ट्रेट से पुलिस ने किया गिरफ्तार



अमरोहा लोकसभा क्षेत्र से सांसदी का चुनाव लड़ चुके  "सचिन चौधरी" को सोमवार को अमरोहा कलेक्ट्रेट में किसानों के धरना स्थल पर पहुंचे, पहले से मौजूद भारी पुलिस बल ने किया गिरफ्तार। उत्तरप्रदेश कांग्रेस सचिव सचिन चौधरी का कहना है कि कल शाम से ही भारी पुलिस फोर्स लगाकर, जगह जगह बैरिकेट लगाकर हमें धरना स्थल पर पहुंचने से रोकने का भरपूर प्रयास भाजपा की पुलिस कर रही थी। सोमवार सुबह से ही पुलिस ने भारी पुलिस तैनाती करके हमें अमरोहा कलेक्ट्रेट पर किसानों की आवाज उठाने से रोकने का भरकस प्रयास किया।  सचिन चौधरी ने भाजपा सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि मुझे पकड़ने के लिए पूरे जनपद की पुलिस लगी हुई है , यदि यही पुलिस अपराधियों को पकड़ने में लगे तो जनपद में अपराध में कमी आएगी। सचिन चौधरी ने कहा कि यह भाजपा सरकार किसानों को मारने वाला काला कृषि कानून लेकर आई है जो मोदी सरकार को हर हाल में वापिस लेना ही होगा। जब किसानों को इस काले कानून की जरूरत ही नहीं है, तो मोदी सरकार क्यों इस बिल के लिए लालायित दिख रही है जो कोरोना काल में चोर दरवाजे से इस बिल को लेकर आ गयी और बिन चर्चा कराये बिल को पास करा दिया। यह बिल किसानों के हितों का नहीं बल्कि भाजपा के उद्योगपति घरानों का है। भाजपा सरकार किसान विरोधी है यह सरकार पूंजीपतियों की सरकार है जो किसानों का किसी भी सूरत में भला नहीं चाहती है। केंद्र की मोदी सरकार इस काले कानून को तत्काल वापिस ले और किसानों से माफी मांगे अन्यथा यह आंदोलन बड़े स्तर पर किया जाएगा। कांग्रेस पार्टी किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी हुई है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग