बंधवा बनाए गए 91 लोगों को सुरक्षित निकाला

दिल्ली/रायपुर। अलग-अलग जिलों से बंधुआ मजदूर बनाकर जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले ले जाए गए 24 परिवारों के 91 लोगों को छुड़ाया गया। इसमें महिला, पुरुष और बच्चे भी बड़ी तादाद में शामिल हैं। राजौरी जिले में 'केबीके brick kiln'के ईंट भट्टे के अवैध कारोबार के लिए यहां लाए गए थे। इसमें 41 बच्चे भी शामिल हैं। इस रेस्क्यू अभियान को बंधुआ मजदूर बनाए गए दो मजदूरों के सुरक्षित वहां से बाहर निकलने के बाद नेशनल कैंपेन कमेटी फॉर इरैडिक्शन ऑफ बॉन्डेड लेबर्स और एक्शन एड एसोसिएशन, दिल्ली जैसे एनजीओ से संपर्क करने के बाद इन दोनों संगठनों द्वारा चलाए गए अभियान के जरिए सभी 91 लोगों को सुरक्षित बचाया गया है। जल्द ही इनकी छत्तीसगढ़ के लिए वापसी होगी। अभी यह सभी दिल्ली में हैं। दोनों एनजीओ ने इस अभियान में पहले एनएचआरसी और फ़िर राजौरी के डीएम को पत्र और ई- मेल भेजकर कार्रवाई करने की मांग की थी। जिसके बाद डीसी ने 26 और 27 दिसंबर को दो टीमें बनाकर राजौरी के दो गावों में रेड की और इन लोगों को वहां से सुरक्षित बाहर निकाला है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत