आर्थिक विकास दर में गिरावट

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट जारी की है। भारतीय रिजर्व बैंक ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आर्थिक विकास दर में गिरावट के बावजूद देश की वित्तीय प्रणाली मजबूत है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरबीआई ने यह भी कहा है कि देश की विकास दर चालू कारोबारी साल की दूसरी तिमाही में महज 4.5 प्रतिशत रही है। इसी वजह से आरबीआई ने चालू कारोबारी साल के लिए विकास दर के अनुमान को 2.40 प्रतिशत घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया है। जितने भी तरह के संकट (जोखिम) हैं, वे वित्तीय प्रणाली को प्रभावित करने के लिहाज से मध्यम दर्जे के संकट हैं। भारतीय रिजर्व बैंक की वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट में यह भी कहा गया है। इन संकटों में भारतीय रिजर्व बैंक ने वैश्विक जोखिम, आर्थिक स्थिति पर जोखिम की धारणा, वित्तीय बाजार के जोखिम और संस्थागत पॉजिशनिंग को शामिल किया है। मिली जानकारी के मुताबिक आरबीआई का कहना है कि घरेलू विकास, राजकोषीय, कॉरपोरेट सेक्टर और बैंकों की असेट क्वालिटी जैसे विभिन्न मोर्चे पर संकट की धारणा में अप्रैल से अक्टूबर 2019 के बीच वृद्धी हुई है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत