प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा के लिए किसानों की फसल को मिट्टी में मिला देने से प्रभावित किसानों से किसान एकता समिति ने की मुलाकात

 जिन खेतों की फसलों को तबाह किया गया उस पर बने मंच से कैसे करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों की बात

आजमगढ़/ लखनऊ 09 मार्च 2024. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा के लिए किसानों की फसल को मिट्टी में मिला देने को लेकर किसान एकता समिति ने प्रभावित किसानों से मुलाकात की. पूर्वांचल किसान यूनियन महासचिव वीरेंद्र यादव और सोशलिस्ट किसान सभा के नेतृत्व में किसान नेताओं का प्रतिनिधि मंडल प्रभावित किसानों से आज मुलाकात करेगा.


पूर्वांचल किसान यूनियन महासचिव वीरेंद्र यादव और सोशलिस्ट किसान महासभा राष्ट्रीय महासचिव राजीव यादव ने कहा कि कृषि प्रधान देश में भाषण के लिए खेतों की फसलों को तबाह करके किस मुंह से किसानों की बात करेंगे नरेंद्र मोदी. खड़ी फसल को तबाह कर किसानों के सपनों पर बुलडोजर चलाने का काम किया गया. करोड़ों की परियोजना के उद्घाटन के बड़े-बड़े वादों की हकीकत यह है कि जिस मंच से ये दावे किए जाएंगे उस जमीन से फसल नहीं, किसानों की आशाओं को उखाड़ फेका गया. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 10 मार्च 2024 को होने वाली जनसभा के लिए मंदुरी एयरपोर्ट के उत्तर की तरफ किसानों की खड़ी फसल गेंहू-सरसो को काट कर कार्यक्रम स्थल बनाया गया है. प्रभावित किसानों से किसान एकता समिति के अध्यक्ष विनोद, उपाध्यक्ष रामविलास, संयोजक महेंद्र यादव, महामंत्री रामदेव महंत जी, नंदलाल यादव और अन्य ने किसानों से मुलाकात की .

किसानों ने बताया कि जिलाधिकारी से खेतों से होने वाले गेहूं-सरसो और भूसा के लिए 3500 प्रति बिस्वा की दर से मांग की गई. बाद में राजस्व निरीक्षक लेखपाल, मंदुरी ग्राम प्रधान द्वारा हमें अवगत कराया गया कि प्रशासन द्वारा जो भी फसल का मुआवजा मिल रहा है ले लीजिए नहीं तो कुछ नही मिलेगा. इससे सभी किसान असंतुष्ट थे. असमय फसल कटने से अनाज तो अनाज भूसा भी नहीं मिलेगा. भूसा न होने से पशुओं को चारे का संकट होगा. बुजुर्गों-बच्चों को दूध नसीब नहीं होगा. दूध बेचने से जो पैसे मिलते थे दवाई-पढ़ाई में आसानी हो जाती थी.

किसान और बटाई पर खेती करने वाले मजदूर बहुत दुखी और चिंतित हैं कि हमारा परिवार साल भर कैसे खाएगा, घर का खर्चा कैसे चलेगा, पशु के लिए चारा कैसे मिलेगा. खेतों की मेढ़बंदी कैसे होगी क्योंकि इससे पहले भी प्रधानमंत्री की इसी जगह जनसभा हुई सबके खेतों को समतल कर दिया गया आश्वाशन दिया गया मेढ़बंदी के लिए भुगतान किया जाएगा परन्तु भुगतान नहीं हुआ. किसी तरह स्वयं खेतों की मेढ़बंदी किसानों ने किया .

प्रतिनिधि मंडल ने प्रभावित किसान चंद्रशेखर राजभर, राजिंद्र राजभर, मुलायम राजभर, आशा देवी, पांचू निषाद, रामफल निषाद, कालीचरण निषाद, हरदेव राजभर, देवई रसूलपुर के किसान राजदेव यादव, कलावती देवी, सुराती देवी, चंद्रिका यादव, सहदेव यादव, गदनपुर हिच्छनपट्टी के लालजीत यादव, भोले यादव, हरिहर यादव, शिव मूरत यादव, प्रताप यादव, विजय यादव, घनश्याम यादव, सुरेश यादव आदि से मुलाकात की.


द्वारा-

वीरेंद्र यादव 

महासचिव, पूर्वांचल किसान यूनियन 

98383 02015


विनोद

अध्यक्ष, किसान एकता समिति 

9451255044


राजीव यादव

राष्ट्रीय महासचिव, सोशलिस्ट किसान सभा

9452800752

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना