कमिश्नरेट में कानून व्यवस्था का ज़िम्मा संभाले 5 आईपीएस अफसर हैं इंजीनियर,

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए दिल्ली से मोमना बेगम की रिपोर्ट,

नोएडा पुलिस कमिश्नरेट में कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाले 10 आईपीएस में से पांच अफसरों के पास है इंजीनियरिंग की डिग्री।

गौतमबुद्ध नगर। नोएडा पुलिस कमिश्नरेट बनने के बाद यहां 10 आईपीएस अफसर पुलिस कमिश्नर से लेकर एडिशनल डिप्टी पुलिस कमिश्नर तक की पोस्ट पर कानून व्यवस्था संभाल रहे हैं। इन 10 आईपीएस अफसर में से पांच आईपीएस अफसर इंजीनियरिंग की डिग्री लिए हुए हैं।

आपको बताते चले कि नोएडा पुलिस कमिश्नरेट में उत्तर प्रदेश सरकार ने कानून व्यवस्था को चुस्त करने के लिए 10 आईपीएस अफसर की पोस्टिंग की हुई है। इनमें से जहां पुलिस कमिश्नर के रूप में लक्ष्मी सिंह है तो वही एसीपी के रूप में डीआईजी सुरेश राव, ए कुलकर्णी, तथा बबलू कुमार भी कम कर रहे हैं। वही डीपी के रूप में हरिश चन्दर, सुनीति, रामबदन सिंह, साद मियां खान, अनिल कुमार यादव, प्रीति यादव, तथा शक्ति मोहन अवस्थी नोएडा पुलिस कमिश्नरेट की कानून व्यवस्था का जिम्मा संभाले हुए हैं।


इन 10 आईपीएस अफसर में से 5 आईपीएस अफसर इंजीनियरिंग की डिग्री लेकर आईपीएस बनाकर कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाले हैं। नोएडा की पुलिस कमिश्नर लक्ष्मी सिंह साल 2000 बैच की आईपीएस अफसर है। मूल रूप से लखनऊ की रहने वाली लक्ष्मी सिंह बीटेक मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री दिए हुए हैं।
IPS Laxmi Singh
28 नवंबर 2022 को नोएडा की पुलिस कमिश्नर का पदवार ग्रहण करने वाली लक्ष्मी सिंह पहली आईपीएस अफसर हैं। जिन्हें यूपी में पुलिस कमिश्नरेट के कमिश्नर के तौर पर जिम्मेदारी दी गई है। आईपीएस अफसर लक्ष्मी सिंह वाराणसी, गोंडा, चित्रकूट , फर्रुखाबाद, बागपत, बुलंदशहर जैसे जिलों की पुलिस कप्तान रही है।
लखनऊ और मेरठ में आईजी के तौर पर कम कर चुके हैं। तेज दरार महिला आईपीएस अफसर के रूप में जाने जाने कव्वाली लक्ष्मी सिंह के पति राजेश्वर सिंह भी ईडी में अवसर रह चुके हैं। 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने अपने पद से इस्तीफा देकर लखनऊ जिले की सरोजिनी नगर विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा और विधायक बन गए थे।
IPS Bablu Kumar


इसके साथ ही दूसरे इंजीनियर आईपीएस अफसर है साल 2009 बीच के आईपीएस बबलू कुमार। मूल रूप से मधुबनी बिहार के रहने वाले बबलू कुमार ने बीटेक इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग के साथ-साथ एम टेक भी इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग के रूप में किया हुआ है। 18 जून 2023 को उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें डीआईजी के पद पर प्रमोशन होने के बाद एसीपी नोएडा पुलिस कमिश्नरेट के पद पर भेजा है। बबलू कुमार मथुरा शाहजहांपुर मुजफ्फरनगर सहारनपुर मुरादाबाद आगरा जैसे बड़े जिला में पुलिस कप्तान के रूप में कम कर चुके हैं।बबलू कुमार ने बतौर पुलिस कप्तान प्रत्येक जिले में पुलिस लाइन को संवारने का काम करने के साथ-साथ मुरादाबाद में ऑनलाइन पुलिसिंग पर भी बेहतर काम किया था।
IPS Suniti

इसके साथ ही इंजीनियर से  आईपीएस बनने वाली अफसर है साल 2013 बैच की सुनीति। सुनीति मूल रूप से चंडीगढ़ पंजाब की रहने वाली है। इन्होंने भी बीटेक कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग से शिक्षा ग्रहण करने के बाद सिविल सर्विसेज को चुना था। और वह साल 2013 में उत्तर प्रदेश कैडर की आईपीएस बन गई थी। पुलिस कमिश्नरेट बनने से पहले सुनीति गौतम बुद्धनगर  जिले में भी एसपी देहात के रूप में कम कर चुकी है। 18 जून 2023 को नोएडा में डीसीपी के रूप में कार्यभार संभालने वाली सुनीति औरैया और अमरोहा जैसे जनपद की पुलिस कप्तान भी रह चुकी है।
IPS Shad miah Khan

इसके साथ ही इंजीनियर से आईपीएस बनने वाले अफसर साद मियां खान है, जिन्होंने बीटेक सिविल इंजीनियरिंग से किया हुआ है। साल 2018 बैच के आईपीएस अफसर साद मियां खान मूल रूप से बिजनौर जिले के रहने वाले हैं। साद मिया खान के पिता भी सरकारी अफसर थे। इनके पिता रईस अहमद जिला निर्वाचन अधिकारी के रूप में मुजफ्फरनगर से रिटायर हुए थे। साद मियां का पहला आईएएस अफसर के रूप में चयन हो गया था। लेकिन उनकी पुलिस में जाने की इच्छा थी इसलिए उन्होंने फिर से एग्जाम दिया और साल 2018 के आईपीएस अफसर बन गए थे, ट्रेनी अफसर के रूप में साद मिया खांन झांसी में तैनात रहे। इसके बाद उन्हें सीओ बरेली तथा बाद में एएसपी बरेली की भी जिम्मेदारी दी गई थी। 28 अगस्त 2022 को साद मियां खान को नोएडा पुलिस कमिश्नरेट में डीसीपी के पद पर तैनात किया गया था।

IPS Shakti Mohan avsthi

इसके साथ ही पांच में इंजीनियर अफसर है शक्ति मोहन अवस्थी साल 2019 बैच के आईपीएस अफसर शक्ति मोहन अवस्थी मूल रूप से लखनऊ के रहने वाले हैं तथा उन्होंने बीटेक सिविल इंजीनियरिंग के रूप में शिक्षा ग्रहण की थी। इसके बाद उन्होंने सिविल सर्विसेज की तैयारी की और उत्तर प्रदेश कैडर के आईपीएस अफसर बन गए थे। 22 फरवरी 2023 से पुलिस कमिश्नरेट में डीसीपी का पदभार संभाल रहे शक्ति मोहन अवस्थी की पत्नी पूजा भी आईएएस अफसर है। आजमगढ़ में पोस्टिंग के दौरान शक्ति मोहन अवस्थी ने एक शानदार लाइब्रेरी बनाई थी। जिसमें 24 घंटे इंटरनेट सेवा के साथ-साथ पुलिस कर्मियों के बच्चों को सिविल सर्विसेज की तैयारी करने के लिए राजेंद्र नगर जैसी लाइब्रेरी बनाने की पहल की गई थी। शक्ति मोहन अवस्थी के इस प्रयास की तमाम लोगों ने प्रशंसा भी की थी।

Reporter momna Begum

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना