मणिपुर मैं महिलाओं के साथ हो रही बर्बरता और अपमान के खिलाफ आज समाजवादी पार्टी की महिला सभा ने कैंडल मार्च निकाला

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट*

समाजवादी पार्टी की महिला सभा की जिलाध्यक्ष ने मणिपुर में हो रहे महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ आज कैंडल मार्च निकाला उन्होंने कहा मणिपुर भीषण दर्द से कराह रहा है, बर्बरता और वीभत्सता की सारी सीमाएं पार हो चुकी हैं। वहां की महिलाओं के साथ वो कुकर्म हो रहा है, जिसे देखकर कलेजा फट जाता है, आंखे पथरा जाती हैं। 80 दिनों से जल रहे मणिपुर में बुरी तरह झकझोर देने वाली घटनाएं अब आम हो चुकी हैं। लोग अपनी वेदना से जितना पीड़ित हैं, उससे ज्यादा सरकार की बेहयाई से निराश। 


आज का दुखद और शर्मनाक सत्य यही है कि मोदी सरकार बेहया, बेशर्म, अमानवीय और जालिम है। उसे देश के लोगों की दुर्दशा से कोई फर्क नहीं पड़ता। प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक को जरा सी भी शर्म होती तो मणिपुरवासियों को ये दिन ना देखने पड़ते।शांत और सुंदर मणिपुर को भाजपा की गंदी मानसिकता ने लाशों से बजबजाते शहर में तब्दील कर दिया है। भीड़ महिलाओं को निर्वस्त्र करके घुमा रही है, सरकार हाथ पर हाथ धरे अपने रचे तमाशे को देख रही है। 

जिस मंजर को महसूस करने भर से देशवासियों का खून खौला जा रहा है, लोग भीतर तक शर्मसार हो रहे हैं, उसे देखकर प्रधानमंत्री  केवल नकली दुख प्रकट कर रहे हैं। उन्हें दुख इस बात का नहीं कि वहां महिलाओं के साथ जुल्म हुआ है, बल्कि उन्हें दुख इस बात का है कि उनके असली चरित्र और चाल को देश ने देख लिया है।मणिपुर को जंगलराज में तब्दील करने वाले भाजपाइयों को तो चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए, मगर दुर्भाग्य देखिए कि उन्हें शर्म तक नहीं आ रही है।


 मानवता को शर्मसार करने वालीं ऐसी घटनाओं के बाद प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पद पर रहने का कोई हक नहीं, जो अपने देश और राज्य की महिलाओं को सुरक्षा देने तक में नाकाम हैं, जो आग बुझाने की जगह आग लगाने में व्यस्त हैं।

एक नागरिक के तौर पर अब हमें भी ये निर्णय लेने की जरूरत है कि ऐसी अमानवीय, बेशर्म और नाकाम सरकार को सत्ता में और अधिक दिन नहीं रहने देना चाहिए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश