पैगाम ए इंसानियत की तालीम के साथ अच्छी तरबीयत ही बेहतर इंसान बनाती है| अहमद अजीज़

 पैगा़म ए इंसानियत की सोलवीं तालीमी कान्फ्रेंस में पूर्व राज्यसभा सांसद मोहम्मद अदीब ने छात्र व छात्राओं को ट्रॉफीयां और सर्टिफिकेट देकर सामाजिक संस्था पैग़ाम ए इंसानियत की ओर से सम्मानित किया|


बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बरेली से मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट, 

मेडिकल नीट, इंजीनियरिंग स्पोर्ट्स व अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के 180 छात्रों को सम्मानित किया गया|

बरेली 25 जून, सामाजिक संगठन पैगाम ए इंसानियत की सोलवीं तालीमी कान्फ्रेंस का आयोजन आई एम ए हाल बरेली में आयोजित किया गया| आज के कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्य वक्ता पूर्व राज्यसभा सांसद मोहम्मद अदीब एवं विशेष अतिथि केजीएमयू लखनऊ मेडिसन विभाग के अध्यक्ष


प्रोफेसर डाक्टर कौसर उस्मान मेडिसन विभाग एवं इस्लामिक स्कॉलर मौलाना जमील सिद्दीकी विशेष अतिथि के तौर पर कान्फ्रेंस में शामिल हुए| कार्यक्रम में मेडिकल नीट इंजीनियरिंग स्पोर्ट्स एवं अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता हासिल करने वाले तकरीबन 180 छात्रों को ट्राफियां और सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया| इसके अलावा हाई स्कूल इंटरमीडिएट के तीनों बोर्ड की परीक्षाओं के टॉप 5 छात्रो को भी सम्मानित किया गया| कॉन्फ्रेंस में उपस्थित सम्मानित छात्रों एवं उनके परिजनों को संबोधित करते हुए मौलाना

जमील सिद्दीकी ने तालीम और इंसानियत पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि इस्लाम ने मुसलमानों को इतना बड़ा खजाना दे रखा है कि उन्हें किसी से कोई चीज उधार मांगने की जरूरत नहीं है| क्योंकि पैगाम में इंसानियत पिछले 20 वर्षों से शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य कर रही है| जिसकी

बुनियाद डालने में बरेली शहर के मशहूर रेडियोलॉजिस्ट मरहूम डाक्टर एजाज हसन खान के साथ उनके कुछ साथियों जिनमें डॉक्टर इंजीनियर प्रोफेसर एवं अन्य बुद्धिजीवी शामिल है| जिसमें खासतौर पर डॉक्टर अनीस बेग, डॉक्टर अयूब अंसारी, डॉक्टर खालिक, डाक्टर मुजीब उर रहमान, डॉक्टर अबू सईद ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है| पैग़ाम ए इंसानियत की जानिब से हर साल गर्मियों की छुट्टी में स्कूली बच्चों के समर इस्लामिक क्लासेज आयोजित किए जाते हैं| जिसमें सैकड़ों

बच्चे इस्लामी तालीम के साथ-साथ बेहतर इंसान बनने की तरबीयत हासिल करते हैं| समर इस्लामिक क्लासेज के आखिर में एक परीक्षा का आयोजन किया जाता है| इसमें शामिल होने वाले बच्चों को सर्टिफिकेट के साथ सम्मानित किया जाता है| पैगाम ए इंसानियत के अध्यक्ष अहमद अजीज व शूरा कमेटी के सदस्यों ने खास तौर पर कान्फ्रेंस के आयोजन में अपना योगदान दिया जिसमें संगठन के उपाध्यक्ष सैयद इकराम हुसैन, डॉक्टर सारिक बदूद,प्रोफेसर ताहिर बेग, प्रोफेसर शमशुल जमा, डॉक्टर शकील अहमद, मोहम्मद समी उद्दीन, आसिफ, अजमी भाई, हाशमी व इमरान आदि शामिल है| तालीमी कांफ्रेंस के मीडिया कोआर्डिनेशन में इरफान अली और मोहम्मद जुनेद सलाही का ख़ास योगदान रहता है|

कान्फ्रेंस के दौरान पैगाम में इंसानियत के अध्यक्ष अहमद अजीज है बताया कि पैगाम ए इंसानियत की जानिब से शहर की स्लम बस्तियों में मेडिकल कैंप का आयोजन किया जाता है इसके तहत शहर में दो चैरिटेबल क्लिनिक चल रहे हैं इसके अलावा पैगाम में इंसानियत गरीबों की तालीम में मदद करती है इसके साथ ही दर्जनों बच्चों को तालीमी वजीफे से और उनकी कॉपी किताबों का इंतजाम भी किया जाता है छात्रों की कैरियर काउंसलिंग का भी प्रोग्राम संगठन के एजेंडे में शामिल है आज के कार्यक्रम का संचालन एवं प्रोग्राम के आखिर में पैगाम ए इंसानियत के अध्यक्ष अहमद अजीज ने कॉन्फ्रेंस में आए सभी मुख्य अतिथियों छात्रों एवं उनके परिजनों का आभार व्यक्त किया|

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश