बहेड़ी, मंगलबार की रात नगर के अमीर बैंकट हाल में जश्न ए नौशाद कुल हिन्द मुशायरे का आयोजन किया गया

 बहेड़ी, मंगलबार की रात नगर के अमीर बैंकट हाल में जश्न ए नौशाद कुल हिन्द मुशायरे का आयोजन किया गया जिसमें हिदुस्तान के अलग अलग शहरों से आये शायरो ने कलाम पड़े, मुशायरे का आगाज़ शाद पीलीभीती ने नाते मुस्तफा पढ़कर की, इसके बाद गज़ल का दौर शुरू हुआ जिसमें संभल से आईं शायरा अज़रा संभली ने कहा


- बो बेटियां गरीब की दुल्हन न बन सकीँ - दुल्हन के बास्ते जो बनाती हैं चूड़ियाँ ,, कौसर संभली ने कहा - बहादुरो की भी कैची ने काट ली मूछे - बड़े बड़ो के झुके सर जब उस्तरा निकला,,  शायर आरिफ आज़ाद ने कहा - अश्क़ बरसाएँ गमो में यह ज़रूरी तो नहीं - ग़म को भी मजबूर कर दें मुस्कुराने के लिए ,, खुशबू रामपुरी ने शेर कहा - ज़िन्दा बचे तो गाज़ी हैं काम आये तो शहीद - हम लोग सरफ़रोश हैं उलझा न कीजिए ,, मोइन नवाबगंजवी ने शेर कहा - न जाने क्या हुआ है आजकल के नौजवानो को - किसी के मुस्कुराने को मोहब्बत मान लेते हैं,, संभल से आये शायर इंतेखाब संभली के इस शेर को बार बार सुना गया - जिसको जवान कर दिया गुरबत में पाल के - अब देखता है बो हमें आंखे निकाल के - अहरो रामपुर से आये शायर नदीम फराज़ ने शेर कहा



- अक़्ल कहती है मोहब्बत में उलझना है फज़ूल  - दिल यह कहता है के इस रोग को पाले रखना ,, नैनीताल से आईं शायरा नाज़िया सहरी के इस शेर को खूब पसंद किया गया - जो राज़ दिल में छुपे हुए थे बो राज़ बाहर निकल रहे हैं - मोहब्बतो के सभी फ़साने गज़ल के सांचे में ढल रहे हैं ,, इसके अलाबा जलीस शहजी ने भी शेर पड़े,  मुशायरे की सदारत की सपा से संभावित चेरमैन प्रत्याशी मोहम्मद आरिफ एडवोकेट ने , मुशायरे के कन्वीनर रहे व्यापार उद्योग मंडल बहेड़ी के नगर अध्यक्ष सलीम रहबर, बारिश होने के बावजूद भी लोग देर रात तक मुशायरे का लुत्फ़ उठाते रहे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र