लोकप्रिय साहित्य संस्था- कवि गोष्टी आयोजन समिति के तत्वाधान में स्थानीय लक्ष्मीपुरम हार्टमैन में कवि गोष्ठी का आयोजन किया गया,

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बरेली से मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट, 

हिंदू हो या मुसलमान हो, लहू लाल सबका ही होता- उपमेंद्र,

 बरेली 10 जुलाई । सन् 1982 से नियमित मासिक काव्य गोष्ठी कराने वाली बरेली जनपद की लोकप्रिय साहित्यिक संस्था- कवि गोष्ठी आयोजन समिति के तत्वावधान में स्थानीय लक्ष्मी पुरम हार्टमैन में   कवि गोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम डॉ राजेश शर्मा के संयोजन में हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थाध्यक्ष रणधीर प्रसाद गौड़  'धीर' ने की। 


 कार्यक्रम का शुभारंभ माँ शारदे के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन एवं माल्यार्पण कर हुआ। वंदना मोहन चंद्र पांडेय ने प्रस्तुत की।

  कवि गोष्ठी में कवियों- शायरों ने सभी को ईद की बधाई देते हुए अपनी रचनाओं के माध्यम से देश में अमन, चैन, आपसी भाईचारा ,सद्भाव एवं सौहार्द का संदेश दिया और देर शाम तक शमाँ बाँधे रखा।

रणधीर प्रसाद गौड़ 'धीर' नेअपनी रचना इस प्रकार प्रस्तुत की-

आप आ जाएँ गर जिंदगी में,

मन के मन्दिर में बस जाएँ आकर

ईद-होली भी तब ही सफ़ल हैं

जब मिले आपका रुए अनवर।

   गीतकार उपमेंद्र सक्सेना एडवोकेट ने अपनी रचना के माध्यम से कहा कि- 

हिंदू हो या मुसलमान हो, लहू लाल सबका ही होता,

झेलें सब दु:ख-दर्द एक सा भाईचारा ही सुख बोता।

ईद यहाँ अपनापन लाती, जिससे अब सूनापन खोता,

मिट जाती जब मन की पीड़ा, मानव यहाँ चैन से सोता।।

कार्यक्रम में सर्व श्री संस्थाध्यक्ष रणधीर प्रसाद गौड़ 'धीर',सचिव उपमेंद्र सक्सेना एड.,डॉ राजेश शर्मा,राममूर्ति गौतम,डॉ शिव शंकर यजुर्वेदी, आंनद पाठक,सरिता अग्निहोत्री, सत्यवती सिंह 'सत्या'', अमित मनोज, उमेश त्रिगुणायत, विजय चक्रवर्ती, राम कुमार कोली,ब्रजेन्द्र अकिंचन, रामशंकर प्रेमी, राम कुमार अफरोज,किशन बेधड़क, रीतेश साहनी एवं व्यास नंदन शर्मा  आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन 'मनोज दीक्षित टिंकू ने किया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग