राष्ट्रीय लोक दल पार्टी के जिला अध्यक्ष आरिफ हजरत ने अग्नीपथ योजना को वापस लेने के लिए महामहिम राष्ट्रपति एवं राज्यपाल उत्तर प्रदेश को प्रेषित एक ज्ञापन जिला अधिकारी पीलीभीत को दिया|

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट, 

पीलीभीत, राष्ट्रीय लोक दल के जिला अध्यक्ष आरिफ हजरत ब पार्टी के कार्यकर्ताओं ने युवाओं की पीड़ा को समझते हुए जनहित में अग्नीपथ नाम से जो योजना सैनिक भर्ती के नाम से शुरू की जा रही है। सरकार उसको जनहित में तुरंत वापस ले क्योंकि इसमें नौजवानों के भविष्य से और आगे आने वाली पीढ़ियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ ना हो और इसमें हमारी महत्वपूर्ण एवं सशक्त गौरवशाली सेना का मनोबल गिरेगा ।



4 साल पूरे होने के बाद नौजवान सड़कों पर बेरोजगार होकर घूमेगा जिससे समाज के नौजवानों में भटकाव आएगा।सेना में पिछले 3 सालों में भर्ती नहीं हुई है उसको भी तत्काल शुरू किया जाए जिससे जो नौजवान सालों से सेना में भर्ती होने के लिए तैयारी कर रहे हैं उनको नौकरी दी जाए। जिन अभ्यर्थियों की कोरोना कॉल के समय के कारण उम्र निकल गई है उनको सरकारी नौकरियों में 5 वर्ष की छूट दी जाए। इस विज्ञापन के माध्यम से राष्ट्रीय लोक दल के जिला अध्यक्ष आरिफ हजरत ने बताया कि राष्ट्रीय लोक दल के कार्यकर्ताओं की उक्त मांगों को पूरा करने में सरकार देरी करती है तो राष्ट्रीय लोक दल को जन आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा जिसकी जिम्मेदारी केंद्र सरकार और राज्य सरकार की होगी।

जिला क्षेत्र अधिकारी सुनील दत्त और थाना कोतवाली प्रभारी हरीश वर्धन को लोकदल पार्टी के जिला अध्यक्ष व पार्टी के पदाधिकारियों ने जिला अध्यक्ष के निवास स्थान पर ज्ञापन सौंपा

उपस्थित पार्टी पदाधिकारी नासिर शाह खान (जिला अध्यक्ष अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ) जावेद खान सचिव, बलविंदर सिंह उपाध्यक्ष, जका मीडिया प्रभारी, राकेश, हरिराम शर्मा, खेमकरण लोधी, नदीम खान, तोताराम, सरगई लाल वर्मा, फाहद खान, मोहम्मद मोइन खान, राशिद आढती,सिकंदर शाह खान, शमीम मियां, रिहान खान आदि लोग रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग