जिलाधिकारी पुलकित खरे की अध्यक्षता एवं पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी की उपस्थिति में जिला स्तरीय उद्योग बंधु,व्यापार बंधुओं एवं जिला सड़क सुरक्षा समिति की तृतीय बैठक गांधी सभागार में संपन्न हुई|

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से ब्यूरो चीफ शाहिद खान की रिपोर्ट, 

मैजिक, टैक्सी से आने वाले बच्चों के वाहनों की आवश्यक जांच की जाए तथा वाहनों के मेंटेनेंस ना पाए जाने पर कठोर कार्रवाई की जाए|




पीलीभीत,जिलाधिकारी पुलकित खरे की अध्यक्षता एवं पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी0 की उपस्थिति में जिला स्तरीय उद्योग बन्धु, व्यापार बन्धु एवं जिला सड़क सुरक्षा समिति की तृतीय बैठक गांधी सभागार में सम्पन्न हुई। सड़क सुरक्षा समिति की बैठक के दौरान तीन नगर पालिकाओं में स्थापित किये गये टैक्सी स्टैण्ड के सम्बन्ध में एआरटीओ एवं अधिशासी अधिकारी को निर्देशित करते हुये कहा कि सभी जगह किराये से सम्बन्धित सूची का डिस्पेल करते हुये स्टैण्ड का नाम अंकित किया जाये। तथा पुलिस अधीक्षक द्वारा पुलिस क्षेत्राधिकारी/प्रभारी निरीक्षक को निर्देशित किया कि चौराहों पर किसी भी प्रकार का अतिक्रमण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा सभी टैक्सी एवं वाहन चौराहों से 100 मीटर दूरी पर खड़े करने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी।मैजिक, टैक्सी से आनेवाले बच्चों के वाहन को अवश्य जांच की जाए तथा वाहनों के मेटीनेंस न पाये जाने पर कठोर कार्यवाही की जाये। 

उद्योग बन्धु की समीक्षा के दौरान उद्योग बन्धु एवं व्यापारिक बन्धुओं द्वारा शहर के अतिक्रमण के बारे में बताया गया तो पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा प्रभारी निरीक्षक/ यातायात प्रभारी को एआरटीओ एवं अधिशासी अधिकारी नगर पालिका के साथ समन्वय स्थापित कर व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु निर्देशित किया गया। बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी, अपर जिलाधिकारी, अपर पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, सिटी मजिस्ट्रेट सहित व्यापारी बंधु एवं अन्य अधिकारी गण उपस्थित रहे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग