मौलाना शहाबुद्दीन के बयान पर सपा का पलटवार, समाजवादी पार्टी ही असली सेकुलर पार्टी, जिसमें मुसलमानों के हित सुरक्षित- शमीम खान सुल्तानी

 बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बरेली से मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट

मौलाना शहाबुद्दीन और शमीम खान सुल्तानी मुसलमानों को सपा और भाजपा में बांटना चाहते हैं आखिर क्यों ? 

बरेली,समाजवादी पार्टी के महानगर अध्यक्ष शमीम खाँ सुल्तानी ने मौलाना शहाबुद्दीन द्वारा समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव जी के खिलाफ दिए गए बयान की प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा की आज के दौर में केवल समाजवादी पार्टी ही सेकुलर पार्टी है जिसमें सभी धर्म और जातियों के हित सुरक्षित हैं किसी भी धर्म अथवा जाति का एक दिन में ही किसी नेता अथवा पार्टी पर भरोसा कायम नहीं हो जाता।


समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी को प्रदेश का मुसलमान अपना नेता मानता है क्योंकि अखिलेश यादव विकास की बात करते हैं अखिलेश यादव हमेशा समाज के दबे कुचले, पिछड़े, अति पिछड़े, दलितों की तरक्की के लिए काम करते हैं, शिक्षा और रोजगार की बात करते हैं समाजवादी पार्टी ने मुस्लिम नेताओं को राज्यसभा से लेकर विधान परिषद तक भेजने के साथ-साथ लोकसभा से लेकर विधानसभा तक मे उनको प्रतिनिधित्व दिया यदि कभी भी और कहीं भी मुस्लिमों पर अत्याचार हुआ तो समाजवादी पार्टी ने हमेशा विधानसभा से लेकर लोकसभा तक उनके पक्ष में मजबूती से आवाज उठाने का काम किया जबकि आज मौलाना शहाबुद्दीन वर्तमान भाजपा सरकार से प्रभावित होकर गलत बयान बाजी कर रहे हैं जबकि वह किस हैसियत से इस तरह के बयान देते हैं पहले इस बात को साफ करें क्योंकि उनसे ऊपर दरगाह से जुड़े तमाम जिम्मेदार प्रमुख उनकी बात से कतई इत्तेफाक नहीं रखते, जबकि मौलाना शहाबुद्दीन के पास वर्तमान में दरगाह से जुड़ी कोई भी जिम्मेदारी नहीं है वह व्यक्तिगत लाभ लेने के लिए इस तरह के बयान दे रहे हैं इसलिए उनके बयान को पूरे मुस्लिम समाज से जोड़कर न देखा जाए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत

पीलीभीत सदर तहसील में दस्तावेज लेखक की गैर मौजूदगी में उसका सामान फेंका, इस गुंडागर्दी के खिलाफ न्याय के लिए कातिब थाना कोतवाली पहुंचा*