भारतीय रेल बदलाव के दौर से गुजर रही है, हम सभी को अपनी कार्य शैली में बदलाव लाने की आवष्यकता है,

 गोरखपुर 05 मार्च, 2022: अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी, रेलवे बोर्ड, भारतीय रेलवे श्री विनय कुमार त्रिपाठी ने महाप्रबन्धक, पूर्वोत्तर रेलवे श्री अनुपम शर्मा, अपर महाप्रबन्धक श्री अमित कुमार अग्रवाल, प्रमुख विभागाध्यक्षों, तीनों मंडलों के मंडल रेल प्रबन्धकों एवं वरिष्ठ अधिकारियों के साथ महाप्रबन्धक सभागार में 05 मार्च, 2022 को संरक्षा समीक्षा बैठक की।  


अध्यक्ष, रेलवे बोर्ड श्री विनय कुमार त्रिपाठी ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि भारतीय रेल बदलाव के दौर से गुजर रही है, हम सभी को अपनी कार्य शैली में बदलाव लाने की आवष्यकता है, जिससे भारतीय रेल को सर्वोत्कृष्ट संस्था बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि भारतीय रेल के पास बहुत ही मजबूत तंत्र तथा काफी संसाधन है तथा अच्छे एवं सक्षम रेलकर्मी मौजूद है। रेलवे को अधिक संरक्षित और तीव्रगामी बनाने की आवष्यकता है। कोविड के कारण गत दो वर्षों में कार्य की गति थोड़ी धीमी हो गयी थी, अब कार्यों को दोगुनी तेजी से किया जाये।

श्री त्रिपाठी ने कहा कि संरक्षा संबंधी विफलताओं का विष्लेषण कर प्राथमिक कारणों को ढूढ कर उन्हें ठीक करने की आवष्यकता है। संरक्षा अभियान आगे भी जारी रखें। इस अभियान के दौरान पायी गईं कमियों को पूरी ईमानदारी से ठीक किया जाये।

उन्होंने सभी अधिकारियों एवं रेलकर्मचारियों से अपील कि वे रेलवे को अपने परिवार की तरह समझे और उसी के अनुरूप देख-भाल करें। हम इस तरह से कार्य करें कि हमने रेलवे को क्या दिया बजाय कि रेलवे ने हमकों क्या दिया। क्योंकि आज हमलोग जो कुछ भी है वह रेलवे की वजह से ही है और हमारी पहचान रेलवे के कारण ही है। श्री त्रिपाठी ने कहा कि संरक्षित रेल परिवहन, ईमानदारी एवं सत्यनिष्ठा से कार्यनिष्पादन भारतीय रेल की पहली प्राथमिकता है। 

महाप्रबन्धक श्री अनुपम शर्मा ने अध्यक्ष, रेलवे बोर्ड विनय कुमार त्रिपाठी का स्वागत करते हुए कहा कि मेगा सेफ्टी ड्राइव के दौरान सभी अधिकारियों द्वारा गहन फील्ड निरीक्षण किया गया। इस दौरान जो कमियां पायी गयी है, उन पर एक्षन प्लान बनाकर ठीक किया जा रहा है। 

प्रमुख मुख्य संरक्षा अधिकारी श्री चन्दन अधिकारी ने पावर प्वाइंट प्रस्तुति के माध्यम से मेगा सेफ्टी ड्राइव के दौरान पायी गयी कमियों तथा उनका अनुपालन, फ्यूचर रोड मैप, एक्षन प्लान इत्यादि पर प्रकाष डाला। सभी निरीक्षणों कोे विभिन्न मदों जैसे कि- ट्रैक, टी.आर.डी., लेवल क्राॅसिंग, ब्रिज, वैगन डिपो, सिगनल एवं टेलीकाम, वर्कषाप, लोको निरीक्षण, लाबी रनिंग रूम, ओ.एच.ई. इत्यादि में वर्गीकृत कर कमियों को दूर किया जा रहा है। तत्काल दूर की जाने वाली कमियों को ठीक कर अनुपालन सुनिष्चित किया गया है, बाद में ठीक की जाने वाली कमियों के लिये एक्षन प्लान बनाया गया है।

संरक्षा से जुड़े सभी विभागाध्यक्षों ने अपने मदों पर विस्तृत रूप से जानकारी दी।

इसके पश्चात तीनों मंडलों के मंडल रेल प्रबन्धकों ने मोबीलिटी पर पावर प्वाइंट के माध्यम से प्रस्तुति दी गयी। जिसके अन्तर्गत मालगाड़ियों की गति बढ़ाने, समय पालन, टी.एस.आर. हटाने, एल. एच.एस./आर.यू.बी. बनाने, लूप लाइन की गति, सेक्षनल गति, दोहरीकरण की प्रगति आदि पर विस्तृत समीक्षा की गयी।


ब्यूरो रिपोर्ट:- बेताब समाचार एक्सप्रेस

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग