तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की प्रधानमंत्री की घोषणा पर साडम में सैकड़ों महिला-पुरुष किसान इकट्ठा हुए

 पिछले एक साल से विरोध झेल रहे तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की प्रधानमंत्री की घोषणा पर साडम में सैकड़ों महिला-पुरुष किसान इकट्ठा हुए और एक दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशियों का इजहार किया।


इस अवसर पर एकत्रित किसानों को संबोधित करते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी राज्य कार्य समिति के सदस्य एवं झारखंड आंदोलनकारी इफ्तेखार महमूद ने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेने कि प्रधानमंत्री की घोषणा किसानों के 'हार न मानने की अदम्य साहस और स्वाभिमान का प्रमाण है ।श्री महमूद ने कहा कि आधुनिक विश्व का इस विशालत्म आंदोलन ने ठंडा, गर्मी और वर्षा को सड़कों पर बैठकर झेलते रहा। 700+ किसानों की शहादत हुई, गाड़ियों से कुचल कर भी मार डाले गए लेकिन आंदोलन पीछे नहीं हटी। उन्होंने कहा कि किसान विरोधी कृषि कानूनों की वापसी देश का संविधान, लोकतंत्र और अहिंसक आंदोलन का जीत है।

                         इस अवसर पर अखिल भारतीय किसान सभा के देवानंद प्रजापति, मौजी लाल महतो, बद्री मुंडा सुरेश प्रजापति तथा दिलगर केवट, आदिवासी महासभा के जिला सचिव सोमर मांझी, देवीराम मांझी,आंल इण्डिया तंजीम ए इंसाफ के अशरफ अंसारी, महिला कृषक बंधनी देवी, सीता देवी, रंजू देवी,मुख्य रूप से उपस्थित थे।  

 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग