अंधियारे उर में भरे, मन में हुए कलेश !!



●●●
मन को करें प्रकाशमय, भर दें ऐसा प्यार !
हर पल, हर दिन ही रहे, दीपों का त्यौहार !!
●●●
दीपों की कतार से, सीख बात ले नेक !
अँधियारा तब हारता, होते दीपक एक !!
●●●
फीके-फीके हो गए, त्योहारों के रंग !
दीप दिवाली के बुझे, होली है बेरंग !!
●●●
दीये से बात्ती रुठी, बन बैठी है सौत !
देख रहा मैं आजकल, आशाओं की मौत !!
●●●
बदल गए इतिहास के, पहले से अहसास !
पूत राज अब भोगते, पिता चले वनवास !!
●●●
रुठी दीप से बात्तियाँ, हो कैसे प्रकाश !
बैठा मन को बांधकर, अंधियारे का पाश !!
●●●
पहले से त्यौहार कहाँ, और कहाँ परिवेश !
अंधियारे उर में भरे, मन में हुए कलेश !!
●●●
मैंने उनको भेंट की, दिवाली और ईद !
जान देश के नाम जो, करके हुए शहीद !!
●●●
-- डॉo सत्यवान सौरभ,
रिसर्च स्कॉलर,कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार,
आकाशवाणी एवं टीवी पेनालिस्ट,
333, परी वाटिका, कौशल्या भवन,
बड़वा (सिवानी) भिवानी, हरियाणा – 127045
मोबाइल :9466526148,01255281381  
 
--
 
--
 
 
 
--- डॉo सत्यवान सौरभ, 
रिसर्च स्कॉलर इन पोलिटिकल साइंस, दिल्ली यूनिवर्सिटी, 
कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार,

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत