*बहुजन मुक्ति पार्टी मेरठ दक्षिण प्रभारी आर डी गादरे सोलाना में 14 साल के एक्सीडेंट में मृत बिलाल के परिवार को समझाते हुए*

मेरठ:- बिलाल 14 वर्षीय एक्सीडेंट में हुए इन्तेकाल के बाद ग्राम सोलाना मे मेरठ दक्षिण विधान सभा प्रभारी आर डी गादरे पहुंचे। गत दिवस मोहम्मद बिलाल पुत्र फजलू का इंतकाल मोटरसाइकिल सीखने गए ग्राम रेड़ा वाला रास्ता कताई मिल पर मोटरसाइकिल का डिसबैलेंस होने से हो गया और साथी अब्दुल कादिर और अरहम घायल हो गए। अब्दुल कादिर और अहम को मेरठ में भर्ती कराया गया। 


आज सुबह 8:00 बजे फैसल का दखिना किया गया। घरवालों की स्थिति बहुत बिखर गई घर में तीन भाई और एक बहन रह गई।  वालिद फजलू  की हालत संभल नहीं पा रही। इसी मौके पर आर डी गादरे परिवार वालों से मिलकर समझाया जिसका जितना वक्त मुकर्रर है वह इतने ही सांस ले सकता है बाकी सब कुदरत की मर्जी के आगे किसी की नही चलती। और कहा कि समाज के लिए वक्त निकाला करो आज भारतीय संविधान दिवस है आज के दिन संविधान बनकर तैयार हुआ और बहुत जनों की आजादी का दिन है आने वाले वक्त में हमें एक आजादी की ओर लड़ाई लड़नी है क्योंकि यह आजादी झूठी है और देश की जनता भूखी है और आज महंगाई चरम सीमा पर बेरोजगारी चरम सीमा पर देश के हालात बिगड़ते जा रहे हैं देश को बेचा जा रहा है सरकारी तंत्र खत्म किया जा रहा है और निजीकरण किया जा रहा है कृष्ण काले कानून बनाए गए पिछड़े कि आज तक जाति आधारित घंटी नहीं हुई मजदूरों को सताया जा रहा है पुलिस फोर्स हो या कोई सा भी न्याय नहीं मिल पा रहा है इसलिए आप और हम मिलकर के समाज के लिए वक्त दिया करें जिससे हमारी आने वाली नस्लों को आजादी में जीने की सांसे मिल सके इस मौके पर बहुजन मुक्ति पार्टी मेरठ मंडल महासचिव कारी मोहम्मद इरफान शहजाद वकालत खलील अहमद अख्तर हाफिज हाशिम आस मोहम्मद बिलाल सोहेल मोहम्मद फारुख ओमवीर सिंह रामशरण गौतम सत्येंद्र कुमार मनोज कुमार एहसान मलिक सोनू आदि मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग