दंगे में चाय की दुकान हुई तबाह और लगा मर्डर का झूठा केस, 18 महीने रहे जेल में।

पीड़ित ज़फ़र भाई का जमीयत उलमा ए हिंद ने शुरू कराया रोज़गार। 

जमीयत उलमा ए हिंद के अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी और महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन क़ासमी ने और भी मदद और जेलों में बंद निर्दोषों को सहायता पहुंचाने का दिया आश्वासन। 


नई दिल्ली (अनवार अहमद नूर) दिल्ली दंगों में अनेक निर्दोषों को झूठा फंसा कर उन्हें जेल में भेजने की अनेकों घटनाएं सामने आ रही हैं और बहुत से ऐसे लाचार और असहाय पीड़ित हैं। जो जेल के अंदर और बाहर बड़े परेशान हाल हैं। जिनकी कहीं कोई सुनवाई नहीं है, लेकिन ऐसे में जमीयत उलमा ए हिंद संस्था लगातार दंगा पीड़ितों की हर तरह से सहायता कर रही है। उनको रोज़गार दे रही है। पीड़ितों के मकान और जला दी गईं दुकानें बना कर दे रही है। निर्दोषों को ज़मानत दिला रही है। लाइलाजों का इलाज करा रही है।अभी फिलहाल तीन लोगों को इलाज के लिए मद्रास भेजा गया है जहां उनका बड़ा ऑपरेशन हो रहा है।


दिल्ली दंगे के एक पीड़ित ज़फ़र भाई जो कर्दमपुरी (दिल्ली) के रहने वाले हैं और चाय की दुकान किया करते थे, उनको पुलिस ने चाय की दुकान से उठाकर दंगे का आरोपी बना कर मर्डर के केस में फंसाकर जेल भेज दिया था। यह 18 महीने जेल में रहने के बाद जब वापस आए तो आर्थिक रूप से बहुत परेशान थे तब दिल्ली में जमीयत उलमा ए हिंद से जुड़े दाऊद अमीनी और अखलाक अहमद के माध्यम से यह जमीयत उलमा ए हिंद के अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी के नाम अपनी दरख्वास्त लेकर मदद की गुहार लगाने जमीयत दफ्तर पहुंचे। तब महासचिव जमीयत उलमा ए हिंद मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने उनको पूरी दिलासा दी। और फौरन अध्यक्ष महमूद मदनी से ज़फ़र भाई की मदद करने की सिफारिश की। इसके बाद ज़फ़र भाई को पुन: अपना रोज़गार शुरू करने के लिए एक बड़ी रकम आर्थिक सहायता के तौर पर दे दी गई। 

इस संबंध में महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने बताया की जमीअत उलमा ए हिंद दंगा पीड़ितों की मदद के लिए दिन रात लगी हुई है। और अभी तक 340 लोगों को ज़मानत दिलाई जा चुकी है जबकि 154 मुकदमों पर सहायता पहुंचाने की कार्रवाई चल रही है। इसके अलावा दिल्ली में 12 मस्जिदों 44 दुकानों 166 मकान शिव विहार में और एक पूरी टायर मार्केट को पुनर्स्थापित करके लोगों को मदद पहुंचाई गई है।  शाहरुख खान और वकील अहमद (जिन पर दंगे के दौरान तेजाब फेंक दिया गया था जिससे उनकी दोनों आंखें समाप्त हो गई हैं) को मद्रास में अच्छे इलाज के लिए जमीयत उलमा ए हिंद ने ही भेजा है।और अभी कुछ दिनों के दौरान ही 5 करोड़ की राशि लोगों की सहायता के लिए जमीयत ने खर्च की है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत