मौलाना कलीम सिद्दीकी को तुरंत रिहा किया जाए - जमात ए इस्लामी हिंद

 Report By: S Z Malik

नई दिल्ली – जमाअत इस्लामी हिन्द मौलाना कलीम सिद्दीकी को यूपीएटीएस द्वारा गिरफ्तार किए जाने की खबर देश के सभी न्यायप्रिय नागरिकों के लिए चिंता का विषय है। जमाअत इस्लामी हिन्द के अमीर सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने अपने बयान में मांग की कि मौलाना पर लगे कथित आरोपों को बिना शर्त वापस लिया जाए, तथा उन्हें तुरंत रिहा किया जाए और उनके साथ न्याय किया जाए।


उन्हो ने कहा कि मौलाना कलीम सिद्दीकी न केवल मुसलमानों के बीच बल्कि गैर-मुस्लिम समाज में भी एक सम्मानित व्यक्ति हैं। उनकी गिरफ्तारी से आबादी के एक बड़े हिस्से में बेचौनी फैल गई है। गिरफ्तारी ने एक बार फिर यूपी सरकार पर सवाल खड़े कर दिए हैं। इसे यूपी में आगामी चुनावों के संदर्भ में हिंदू-मुस्लिम नफरत को बढ़ावा देने का एक निंदनीय प्रयास भी माना जा रहा है। हम हकूमत और पुलिस को यह याद दिलाना चाहते हैं कि हमारे देश में धर्म और आस्था पर अमल करना और उसका प्रचार करना हर नागरिक का बुनियादी, मानवीय और संवैधानिक अधिकार है। उसी तरह, हमारे संविधान ने प्रत्येक नागरिक को अंतःकरण की स्वतंत्रता दी है कि वह जो भी विचारधारा या आस्था को पसंद करता है उसे अपनाएं। इन स्वतंत्रताओं को कम करने या प्रतिबंधित करने का कोई भी प्रयास एक अमानवीय और असंवैधानिक प्रयास होगा और इन नापाक प्रयासों का विरोध करना देश के सभी गंभीर नागरिकों की जिम्मेदारी है। हम यह भी स्पष्ट करना चाहते हैं कि बल या लालच से किसी के विश्वास को बदलना न केवल इस्लाम की शिक्षाओं के खिलाफ है, बल्कि इसकी मूल अवधारणाओं के भी खिलाफ है। इस्लाम का कोई भी जानकार ऐसा नहीं कर सकता। जिस तरह समाज के विभिन्न सम्मानित और सम्मानित सदस्यों को सरकार के मुखालिफ व्यक्तित्वों पर आरोप लगाने और उन्हें परेशान करने का सिसला जारी है उसके सन्दर्भ में मौलाना पर लगाए गए आरोप वास्तविकता भी समझ में आती है। राजनीतिक विरोधियों के साथ इस तरह के कार्यों के लिए पुलिस और कानून प्रवर्तन एजेंसियों का दुरुपयोग देश के भविष्य के लिए बेहद खतरनाक है। ऐसा लगता है कि यूपी सरकार के पास अपना प्रदर्शन पेश करने के लिए सकारात्मक रिकॉर्ड नहीं है। इसलिए वह लगातार सांप्रदायिक विभाजन और तनाव पैदा करने के पैदा करने वाले क़दम उठा रही है। समाज में नफरत फैलाकर राजनीतिक सत्ता हासिल करने या उसे बनाए रखने के प्रयास पूरे राज्य ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए हानिकारक हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत