एक हिन्दुस्तान हो,,,,,,,

 ,,,,,,,,एक हिन्दुस्तान हो,,,,,,, 

कर इबादत चाहे दिल में राम या रहमान हो। 

पर हमारे ख्वाब का मज़हब ये हिन्दुस्तान हो।।  

  

बन न पाये हम खुदा या देवता तो ग़म नहीं। 

है बहुत गर हम में जिंदा एक भी इन्सान हो।।  

 

पी ले आँसू, पढ़ ले पीड़ा, दर्द उनका बाँट ले। 

दौरे तूफाँ में मिटी जिनकी यहाँ पहचान हो।।

  

बनके रहबर मंजिलों की राह दिखलाना उन्हें।  

क्या पता भटका मुसाफिर ही कोई मेहमान हो।।  


जब भी जिस्मों जान पे, टूटे जमाने की कहर।  

ज़ख्म दिल मेंऔर लब पे, अम्न की मुस्कान हो।। 

   

है तड़पता रात दिन, देखो परिंदा सोन का।  

जब सियासत का मसीहा,मर्ज से अन्जान हो।।

 

बँट गए टुकड़ों में चाहे, दिल के अरमां दोस्तों। 

पर हमारे दिल में जिंदा, एक हिन्दुस्तान हो।।  

 

अखिलेश तिवारी डाली

बिसुहिया बल्दीराय सुल्तानपुर

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग