जिन्ना व अबुल कलाम आजाद ने मुस्लिम कौम को अपाहिज बना दिया*



*जिन्ना व अबुल कलाम आजाद ने मुस्लिम कौम को अपाहिज बना दिया* 

*1--क्या जिन्ना और मौलाना अबुल कलाम आजाद कि हरकत ने ही मुसलमान भाईयों को राजनीति के क्षेत्र मे बेकार और अपाहिज बनाकर "नवाबी" खत्म कर दिया* 

*नोट:--नवाबी का मतलब आज का M.P-M.L.A-C.M व डिप्टी P.M होता है*

*मुख्य नोट:--क्या ब्याजखोर-सूदखोर जिन्ना और गद्दार मौलाना अबुल कलाम आजाद का रोल अब AIMIM के मुखिया ओवैशी महराज प्रभु साहब अदा कर रहे है क्या जिस तरह काँग्रेस कि पैदा कि हुई B टीम BJP है तो तो तो क्या ऐसा माना जाय कि RSS-BJP कि B टीम ओवैशी महराज प्रभु साहब कि पार्टी AIMIM है तथा क्या भविष्य मे जल्दी ही काँग्रेस-BJP का खतरनाक प्लान यह बन चुका है कि:~बहुजन/कामगार-मजदूर-श्रमिक यही आज के कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोग है इन MUSLIM SC ST OBC शूद्र लोगो को गुमराह करने के लिऐ काँग्रेस-BJP द्वारा दिल्ली के C.M अरविन्द केजरीवाल साहब को "रामो-बामो-जनता दल" कि भाँति तीसरा मोर्चा बनाने के लिए AAP को इशारा दे दिया गया है बहुजन हसरत पार्टी BHP को इन रामवादी-मनुवादी पार्टियों का इशारा भली-भाँति समझ मे आ रहा है तभी तो दिल्ली सरकार बाबा साहेब का गुणगान करने से थक नही रही है इस समय दाल मे कुछ काला नही लग रहा है बल्कि पूरी दाल ही काली लग रही है* 

*2:--1943 में बाबासाहेब कि अगुवाई मे MUSLM+दलित ने गठबंधन करके बंगाल मे सत्ता क्या बना लिया इस घटिया काँग्रेस पार्टी ने भारत का बँटवारा करके वफादार मुसलमान भाईयों को गुलाम से बत्तर जिंदगी गुजारने पर मजबूर कर दिया है और दलित-मुस्लिम कि मजबूत एकता को तोड़कर शूद्रराज पर ग्रहण लगा दिया* 

*3••इतना ही नही आगे तो इस घटिया काँग्रेस ने P.M पद का लालची ब्याजखोर गद्दार जिन्ना से मिलकर महान सम्राट अशोक के भारत देश का टुकड़े कर दिया और 1947 पाकिस्तान व 1971 बंग्लादेश बनाकर ताकतवर वतन परस्त मुस्लिम कौम को टुकड़ो मे बिखेरकर कमजोर बनाकर नवाबी छीन ली:--नवाबी का मतलब आज का M.P-M.L.A-C.M व डिप्टी P.M होता है*

*4••फिर उसके बाद इस पापी घटिया काँग्रेस ने 28-29 DEC 1949 में बाबरी-मस्जिद में रामलल्ला की मूर्ति रखवाकर बाबरी-मस्जिद के नाम से गेम खेलकर वफादार वतन परस्त मुस्लिम कौम को राजनीति के क्षेत्र में नपुंसक बना दिया तथा हिन्दू-मुस्लिम कि एकता को मंदिर-मस्जिद के नाम पर ताँडव मचाकर और गुमराह करके बर्बाद कर दिया*

*5••बाबासाहेब अम्बेडकर जी ने संविधान में मुस्लिम भाई को आरक्षण दिया तो काँग्रेसी नेहरू और उसका गद्दार-टपोरी ब्याजखोर प्यादा मौलाना अबुल कलाम आजाद दोनों ने मिलकर इसका विरोध किया था मुसलमान को फिर से नवाब बनाने का रास्ता जो बाबा साहेब ने बनाया था तो बाबा-साहेब के इस प्रयास को काँग्रेसी नेहरू तथा उनका ब्याजखोर प्यादा गद्दार मौलाना अबुल कलाम आजाद ने मिलकर चौपट करते हुए मिट्टी में मिला दिया* 

*6--मुसलमान भाईयो को दर-दर भटकाने के बाद जब काँग्रेस का पेट नही भरा तो काँग्रेस ने भारत से पाकिस्तान 1947 और पाकिस्तान से बांग्लादेश 1971 मे बनाकर वफादार मुस्लिम भाईयो को 3 देशो मे बाँटकर टुकड़ो में बिखेर दिया वरना "दलित-मुस्लिम-पिछड़े" वर्गो कि हुकूमत भारत देश पर होती और काँग्रेस पार्टी ने इन वफादार मुस्लिम कौम कि जिंदगी "'बद से बत्तर"' कर दिया•••याद रखो धर्म-मजहब-जाति के नाम पर नही बल्कि कुर्सी के लिए महान भारत देश के टुकड़े हुए थे*

*7••काँग्रेस और इंदिरा गाँधी जी ने 1973 ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का संगठन बनाकर दोनो ब्याजखोर गद्दार टपोरी जिन्ना और मौलाना अबुल कलाम आजाद के वंश को आगे बढ़ा दिया तभी तो शम्भूख ऋषि कि हत्या करने वाले अपराधी के वंशज कि सरकार को काँग्रेस के EVM देवता ने बड़े बखूबी व फितरत से बनाया है*

*8••फिर एक बार काँग्रेस और इंदिरा गाँधी जी ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के नाम से मुसलमान भाईयो को ठग लिया और मुसलमानों को गुलामी के दुनियाँ/जहन्नुम में फेंक दिया मेरे "'कलाकार जाति पेशेवर जाति"' वाले लोगो फैसला करो कि क्या काँग्रेस तथा जिन्ना या मौलाना अबुल कलाम आजाद कि वजह से वफादार मुस्लिम कौम को आज वफादार देशभक्त वतन परस्त होते हुऐ भी जिल्लत भरी जिंदगी गुजारने पर क्यों मजबूर किया जा रहा है*

*9••अफसोस यह मंडल आयोग क्या गठित हुआ काँग्रेस और गाँधी परिवार ने मुस्लिम भाई के साथ-साथ OBC भाई को भी हिन्दू नाम से गुलाम बनाने लिये ऑपरेशन ब्ल्यू स्टार.. उत्तर प्रदेश मेरठ दंगा तथा बिहार-भागलपुर दंगा आदि कराकर सिख भाई और मुस्लिम भाइयों का कत्ले-आम करवा दिया जैसा बाबरी-मस्जिद का कत्ले-आम BJP द्वारा पर्दे के पीछे से करवा दिया था* 

*10••काँग्रेस के राजीव गाँधी ने ही बाबरी मस्जिद का ताला खुलवा दिया था और तो और बाबरी मस्जिद के परिसर में मंदिर का शिलान्यास भी करवा दिया था बाद मे 6-12-1992 को ही विश्वज्ञानी बाबासाहेब के देहांत कि तारीख 6/12/1990 को ही बाबरी मस्जिद शहीद क्यों करायी गयी इसका राज दलित मुस्लिम भाई को समझना होगा फिर भी शहरी मुसलमान और शहरी दलित भाई आज भी काँग्रेस का चमचा बना फिरता है परंतु U.P बिहार का दलित++मुस्लिम भाई भीमवादी बनकर दोनो राज्यों से काँग्रेस का नामो-निशान मिटा दिया है*

*11••मान्यवर काँशीराम  जी ने MUSLIM SC ST OBC को लामबन्द करके भीमवादी भूत-पूर्व प्रधानमंत्री V.P सिंह साहब जी से 1990 में OBC के लिये मंडल आयोग क्या लागू करवा दिया था इस पापी घटिया काँग्रेस ने बाबरी मस्जिद को कंधा बनाकर हिन्दू-मुस्लिम-मंदिर-मस्जिद का रंग देकर BJP के हाथों पर्दे के पीछे से बाबरी मस्जिद का खून करवा दिया* 

*12••इसके बाद और तो और देशभक्त वफादार ग्रामीण-गरीब मुस्लिम व दलित भाइयों के ऊपर गद्दार-कटुवा-आतंकवादी व अछूत नाम कि मुहर मार दिया तथा दूसरी तरफ शहरी मुसलमान व दलित को अपना दामाद जीजा बहनोई तो बना लिया परन्तु कैसे बना लिया समझ के बाहर है:---मगर अफसोस यदि बाबरी मस्जिद शहीद होने के बाद वफादार मुसलमान भाई अपनी आँख खोल लिया होता तो दिनाँक 30-9-2020 को इस बाबरी मस्जिद को न्याय मिल गया होता* 

*13--1943 मे जैसे ही विश्व ज्ञानी बाबासाहेब के तत्वाधान मे बंगाल मे दलित-मुस्लिम गठबंधन ने एकता करके सरकार बनाई और ठीक उषी समय हिन्दू महासभा (शामा प्रसाद मुखर्जी) और मुस्लिम लीग (फजलुल हक़ ) कि मनुवादी सरकार को उखाड़कर फेंक दिया गया:--तो तो तो:--हिन्दू नाम से पंडित पुजारी कि सत्ता कि राजनीति करने वाला पंडित नेहरू और मुस्लिम नाम से सिर्फ जमीदार मुसलमानों कि सत्ता कि नुमाईंदगी करने वाला हिन्दू राजपूत परिवार से मुस्लिम बना सूदखोर जिन्ना और उसकी पार्टी "मुस्लिम-लीग" डर गई थी तभी नेहरू और जिन्ना ने गरीब दलित-मुस्लिम से बदला लेकर देश के टुकड़े करके दलित-मुस्लिम-पिछड़े वर्गो कि हुकूमत बनने नही दिये*

*14..यदि बंगाल कि भाँति दलित और मुस्लिम गठबंधन कि सरकार पूरे देश मे फैल गयी:--तो तो तो तो:--यह भीमराव अंबेडकर देश का पहला P.M बन जायेगा और शूद्रराज आ जायेगा साथ ही साथ मुस्लिम राजनीति कि कमान मुस्लिम नेता जैसे सर ख्वाजा नज़मुद्दीन...मौलाना हसरत मोहानी...मौलाना असिम बिहारी आदि के हाथों न चली जाये:--बाबासाहेब प्रधानमंत्री न बनने पावे तथा शूद्रराज का बिगुल न बजने पावे तथा कलाकार जाति पेशेवर जाति के लोगो को सत्ता से वंचित करके तथा इन MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को गुलाम बनाने के लिये पंडित नेहरू ने खुद भारत देश का P.M बनने के लिए तथा ब्याजखोर जिन्ना भी खुद पाकिस्तान का P.M बनने के लिये महान सम्राट अशोक के भारत देश के टुकड़े कर दिये" धर्म-मजहब-जाति के नाम पर नही बल्कि सत्ता के लिए पाकिस्तान बनाया गया था ताकि दलित-मुस्लिम एकता भी टूट जाये और मुसलमान भाइयों को मिलने वाला 35%आरक्षण भी आराम से ख़त्म हो जावे*

*✍️यकीन नहीं होता तो देशहित-जनहित मे दिल दिमाग खोलकर ये पढिये🌹:*

*15..बँटवारे के पहले भारत में दलित+मुस्लिम कि आबादी 9 प्रान्त/राज्यो में हिन्दू से ज्यादा थी जिससे 9 प्रान्त/राज्यो में बंगाल कि भाँति दलित+ मुस्लिम सरकारे बनती रही और तो और देश के पहले प्रधानमंत्री बाबासाहेब आराम से बन सकते थे....तो फिर ब्याजखोर जिन्ना ने पूरे भारत देश कि सत्ता दलित के साथ मिलकर आराम से हथियाने मे कामयाब हो जाता परन्तु किस वजह से यह ब्याजखोर गद्दार जिन्ना ने पाकिस्तान नाम कि हड्डी का टुकड़ा क्यों चुना... मनुवादी जातिवादी मानसिकता के चलते मुस्लिमो को गुलाम बनाने के लिये ही सब खेल खेला गया था ताकि भीमवादी-हसरत मोहानीवादी सरकार न बनने पावे*

*16..पाकिस्तान बनने से पहले 25% आबादी वाले मुस्लिमो को भारत में 35% राजनैतिक आदि आरक्षण था जो आज 0% है..अगर पाकिस्तान और बांग्लादेश नहीं बनता तो आज 543 सभा सीटों में से लगभग 190 सांसद मुसलमान भाइयों के होते (सच्चर समिति रंगनाथ मिश्रा रिपोर्ट के नुसार 88 सांसद) और 144 सांसद OBC भाइयों के होते जैसे बाबा साहेब जी के बदौलत आज SC ST भाइयों के 133 सांसद है परंतु मुस्लिम भाई और OBC भाइयों के कितने सांसद आज तक बने कोई बता सकता है...घंटा भी नहीं बता सकता* 

*17..13 दिसम्बर 1946 में पाकिस्तान बनने से पहले भारत के संविधान सभा में हंगामी प्रधानमंत्री पंडित नेहरू ने देश को आश्वासन दिया था कि संविधान में OBC अल्पसंख्यक तथा अन्य को उचित आरक्षण दिया जायेगा परंतु पाकिस्तान बनवाकर OBC तथा मुस्लिम भाइयों के आरक्षण को पंडित नेहरू और सूदखोर जिन्ना ने ख़त्म कर दिया तथा 2005-2007 सच्चर समीति-रंगनाथ मिश्र आयोग कि रिपोर्ट में काँग्रेस के पाप का सबूत देख लेना उचित होगा*

*18..बहुसंख्यक मुस्लिम भाई इस भारत विभाजन/बँटवारे के खिलाफ थे इसीलिए सिर्फ पंजाब और बंगाल में ही वोटिंग कि गई अन्य प्रान्तों को मतदान से पूरी तरह अलग क्यों रखा गया तर्क करो*

*19..जब कि बंगाल में इस विभाजन/बँटवारे में कुल 220 वोट में से 127 मुस्लिम विधायको ने विभाजन के विरोध में वोट डाले थे....परंतु 93 उच्च हिन्दू ने विभाजन पक्ष में वोट डाले बहुसंख्यक मुस्लिम विधायको का बँटवारे को विरोध होने के बावजूद विभाजन को पंडित पुजारी ने सूदखोर मुस्लिम जिन्ना ने क्या भारत के मुस्लिमो को गुलाम बनाने के लिये बँटवारे कि मुहर लगाई थी कि नहीं लगायी थी तर्क करके सोचो*

*20..20/06/1947 को हुए बंगाल के विभाजन के विरोध में दलित मुस्लिमो मतदान किया तो हिन्दू महासभा (कल कि जनसंघ जो आज कि BJP है)+काँग्रेस+ज्योति बसु कम्युनिस्ट ने विभाजन के पक्ष में वोट किया तर्क कर के समझो कि ये सभी पार्टियाँ एक है कि नहीं है*

*21..24-25 अप्रैल 1948 मे लखनऊ कि दलित+OBC के सभा मे "महामानव बाबा साहेब जी" ने दलित+OBC को एक साथ आये तो ये ब्राम्हण गोविंद वल्लभ पंत (तत्कालीन मुख्यमंत्री) तुम्हारे जूते कि नाड़ी बांधने में अपनी महानता समझेगा इस सच्चाई का डर पंडित पुजारी को सता रहा था औऱ इसके लिये संविधान में आर्टिकल 340 का प्रावधान भी किया और 340 आर्टिकल लागू कराने के लिए केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा भी दिया था जिसके चलते काका कालेलकर आयोग...मंडल आयोग बना था*

*22..पाकिस्तान बनवाकर पंडित नेहरू और सूदखोर-ब्याजखोर जिन्ना ने मुस्लिम भाइयों के 35% राजनैतिक आदि आरक्षण को अपनी नीच घटिया पंती के चलते ख़त्म करवाया तो तो तो मुस्लिम भाइयों के उद्धार और सुरक्षा के लिये ^महामानव बाबासाहेब^ द्वारा संविधान सभा कि अल्पसंख्यक समीति में मुस्लिम भाइयों को संविधान में यही आरक्षण दे रहे थे......*

*23..परंतु अफ़सोस जिन्ना के बाद मुस्लिमो को भारत में पंडित-पुजारी का गुलाम बनाने के लिये काँग्रेस और नेहरू का प्यादा दूसरा ब्याजखोर गद्दार मौलाना अबुल कलाम आजाद ने नेहरू के कहने पे ""डॉ. अम्बेडकर हम मुस्लिमो को बाँट रहे है ऐसा ढोंगी कथन किया और हम मुस्लिमों को आरक्षण कि जरुरत नहीं है ऐसा और अन्य सूदखोर मुस्लिम नेताओं ने मिलकर कहा हम मुस्लिमो को आरक्षण नहीं चाहिये ये कहकर हम भारत के मुस्लिम भाइयों को आरक्षण मिलने नहीं दिया*

*24..मंडल आयोग के माध्यम से जब मुस्लिम समाज के OBC भाइयों को आरक्षण मिलने वाला था तब भी गद्दार सूदखोर-ब्याजखोर जिन्ना और गद्दार मौलाना अबूल कलाम आजाद कि भाँति कुछ उलेमाओं ने मुस्लिम भाइयों को आरक्षण नहीं चाहिये ऐसे आदेश दिये और मुस्लिम समाज कि तरक्की रोकने कि कोशिश कि है जो 2021 तक जारी है..*

*25..जब 1909 से 1947 आजादी तक मुस्लिम भाई को 35% मिल रहे आरक्षण का विरोध किसी उलेमा ने नहीं किया और न ही गद्दार मौलाना अबुल कलाम आजाद ने नहीं किया था तो आजादी के बाद बाबा साहेब जी द्वारा दिए जा रहे आरक्षण का विरोध क्यों किया गया...क्या ये साबित नहीं करता कि गद्दार सूदखोर-ब्याजखोर जिन्ना और गद्दार मौलाना अबुल कलाम आजाद जैसे कुछ सूदखोर नेता कुछ उलेमा मुस्लिम भाइयों को धार्मिकता कि आड़ में गुलाम बना रहे है*

*26..पंडित नेहरू और गद्दार सूदखोर-ब्याजखोर जिन्ना ने पाकिस्तान बनवाकर तथा गद्दार मौलाना अबुल  कलाम आजाद आदि सूदखोर नेता तथा चंद उलेमाओं के आरक्षण विरोध के कारण भारत में मुस्लिम कौम को जिंदगी भर काँग्रेस का गुलाम वोटर बनाकर जिल्लत-भरी जिंदगी गद्दार-आतंकवादी  कलंक के नाम से जीने के लिये मजबूर कर दिया है उदाहरण के तौर पे 2005-2007 सच्चर समीति-रंगनाथ मिश्र आयोग कि रिपोर्ट में काँग्रेस के पाप का सबूत देख लेना उचित होगा*

*27..इस भीमराव अंबेडकर को दलित-मुस्लिम अपना मसीहा मान रहे है और कही यह दलित-मुस्लिम एकता भीमराव अंबेडकर को देश लेबल पर अपने-अपने सिर पर बैठा लिया तो यह भीमराव देश का P.M बन जायेंगा और इस नेहरू का सपना पूरा नही हो पायेगा*

*28..पाकिस्तान धर्म के नाम पर नही बना है बल्कि पर्दे के पीछे सियासी धमाल मे बवाल मचाकर दलित-मुस्लिम एकता को तोड़ने के लिए बना था ताकि बाबा साहेब P.M न बन सके*

*29..बाबा साहेब अम्बेडकर देश का पहले P.M न बने इसलिऐ महान भारत देश के टुकड़े करके दलित-मुस्लिम एकता को तोड़कर पाकिस्तान का निर्माण किया गया था यह राजनैतिक आँकलन बहुजन हसरत पार्टी BHP का देशहित-जनहित मे है*

*30..यदि पाकिस्तान व बांग्लादेश न बनता तो दलित-मुस्लिम-पिछड़े वर्गो कि सरकार भारत देश मे होती तथा ये पाखंडी अल्पसंख्यक पंडित पुजारी महान भारत देश के सभी दलित-मुस्लिम-पिछड़े वर्गो के आँगन मे झाड़ू मारने के लिऐ तरसते होते*

*31••ये वफादार MUSLIM भाई पूरे देश मे एक होकर भीमवादी दलित नेता मान्यवर काँशीराम जी को P.M बनाने वाले थे तो इसी काँग्रेस ने भीमवादी दलित को P.M बनने से रोक दिया...तथा मुसलमान भाइयों के नवाब बनने के सपने को फिर से इसी काँग्रेस ने चकनाचूर कर दिया*

*32••यदि मुलायम सिंह यादव साहब जी ने ••मान्यवर काँशीराम साहब जी के साथ वफादारी दिखाई होती तो देश कि तस्वीर बहुत अलग होती बल्कि आखिर सोंचो वफादार मुस्लिम कौम के भाईयों सोंचो हमको ठगने के लिऐ काँग्रेस-BJP ने पर्दे के पीछे से मुलायम सिंह यादव को नया नाम ^मुल्ला मुलायम^ क्यों दिया था मुसलमान भाईयो ^मुल्ला मुलायम^ के पीछे का राज अब भीमवादी बनकर समझना होगा:---यदि गलत लगे तो देशहित व जनहित मे बहुजन हसरत पार्टी के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष मुहम्मद मैराज शेख को माफ करना•••••हो सकता है मुस्लिम होने कि वजह से मुहम्मद मैराज शेख कि जुबान भी बंद करायी जा सकती है कुछ कहा नही जा सकता है*

*33••2007 में मुस्लिम भाइयों को बराबर कि भागीदारी देकर भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी ने UP में मुस्लिम वोट के बल पर बहुमत कि सत्ता बनायी थी इसलिए अब 2024 मे 2007 कि भाँति भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी पर भरोसा करके नवाबी मुद्दे पर P.M बनाना होगा:---- मुसलमान भाईयो फिर से नवाब बनकर अपना वजूद कायम करो तथा अब हिकमत के तौर पे "बुद्ध" को अपना राजनैतिक गुरु मानकर नवाबी छीन लो*

*34••2008-09 में परमाणु डील के मुद्दे पर भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी को प्रधानमंत्री बनने से मुलायम सिंह और BJP ने रोक दिया था तथा अपनी घटिया काँग्रेस कि सरकार बचा लिया था जैसे 2003-04 कि बर्खास्त BSP कि सरकार को केंद्र कि 2003 BJP+2004 काँग्रेस कि सरकार ने दल-बदल कानून के विरुद्ध जाकर मुलायम सिंह कि असंवैधानिक सरकार बनवायी थी...* 

*35••1943 कि भाँति भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी MUSLIM+दलित कि सत्ता न बना सके इसलिए काँग्रेस के P.M मन मोहन सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश दिनाँक 8/10/2013 के बावजूद बिना VVPAT मशीन लगाये EVM देवता से चुनाव कराकर अपनी B टीम BJP कि सरकार बना दिया इसी काँग्रेस के EVM देवता ने MUSLIM SC ST OBC शूद्रों को 2014 के बाद ऐसा बर्बाद करके अपाहिज बना दिया कि "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोग और गुलाम और रखैल बनते चले जा रहे है तभी तो मंडल को कमंडल में बदलकर 3743 OBC जाति वाले लोगो को राजनैतिक आरक्षण से आज तक दूर क्यों रखा गया है* 

*36-•बाबरी मस्जिद केस में 9/11/2019 को बिना सबूत के सिर्फ मान्यता के आधार पर मंदिर के पक्ष मे फैसला देकर सुप्रीम कोर्ट ने भी देश में वफादार मुसलमान को गुलाम लाचार नपुंसक समझकर दोयम दर्जे के नागरिक होने का प्रमाण दे दिया तथा 6/13/1992 को बाबरी मस्जिद शहीद करने वाले लोगो को CBI कि अदालत ने 30/9/2020 को बा-इज्जत बरी कर दिया* 

*37••30 सितंबर 2020 को CBI जज S.K यादव जी ने काँग्रेस के 1949 से रचाये हुये योजना के तहत बाबरी मस्जिद का खून करने वाले BJP के 32 नेताओँ को सबूत के आभाव में हीरो बनाकर बेदाग बरी कर दिया वाह-वाह-वाह बहुजन हसरत पार्टी BHP को इस फैसले पर हँसी आती है 9819316944*

*38••MUSLIM भाई ने U.P मे 6-8 % यादव भाई को U.P का अनेको बार C.M बना दिया परंतु-परंतु 21% के इर्द-गिर्द मुसलमान भाई को यह यादव भाई कभी डिप्टी C.M भी नही बनाया है मुजफ्फर नगर का दंगा और जावेद अहमद को उत्तर प्रदेश का DGP न बनाकर अखिलेश यादव ने मुस्लिम विरोधी परिचय भी दे दिया था फिर भी U.P का मुसलमान भाई इस "समाजवादी पार्टी" को कब पहचानेगा और कब बहुजन हसरत पार्टी BHP का तन-मन-धन से मदद करेगा ये तो खुदा-अल्लाह ही जाने?*

*39••मगर यह वफादार सरफिरी कौम काँग्रेस और समाजवादी पार्टी से आज तक पता नही क्यों चिपकी है परन्तु 2014 के बाद 75% सुधरकर भीमवादी समाज बनाने के लिऐ तथा भीमवादी दलित को P.M बनाने के लिऐ कमर कस लिये है तथा U.P-बिहार के भाँति पूरे देश से काँग्रेस तथा उसके चेले-चपाटी वाली तमाम पार्टियों को उखाड़ फेंकने कि कसम खा-लिया है*

*40••CBI जज S.K यादव जी ने श्री मुलायम सिंह को मुस्लिम भाइयों कि वोट का सत्यानाश करके U.P-बिहार आदि STATE मे षड़यत्र के तहत तोड़कर MUSLIM+यादव भाई कि दोस्ती पर आजीवन ग्रहण लगा दिया है CBI के जज S.K यादव ने यादव××मुस्लिम कि दोस्ती के टुकड़े कर दिये तथा 6/12/1992 को बाबरी मस्जिद को तोड़ने वाले सभी 32 आरोपी को 30-9-2020 को पाक-साफ छोड़ दिया* 

*✅नोट-1:--"बुद्ध" के समय के ज्ञानी शूद्रो को 6743×7== मे बाँटकर बिखेर दिया गया तथा जबरजस्ती उन पर "कला और पेशा'' भी थोप दिया गया "कला और पेशा" मे बँटी वंचित हजारों कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोग ''हिन्दू-मुस्लिम'' दोनो समुदायो मे पाये जाते है इन्ही को "कामगार-मजदूर-श्रमिक" भी कहते है जिनकी जनसँख्या पूरे देश मे 50% के इर्द-गिर्द है जो सब के सब 96% OBC कि श्रेणी मे आते है इन OBC भाइयों को 2.50% वाले अल्पसंख्यक पंडित पुजारी कि पार्टी काँग्रेस-BJP ने गुलाम होने का एहसास करा दिया है तथा इन वंचित "कला और पेशा" मे बँटी हजारो कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को राजनैतिक आरक्षण से वंचित कर दिया इन वंचित "कला और पेशा" मे बँटी हजारो "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोगो को SC ST भाईयो कि तरह "सेवा और खिदमत" के नाम पर राजनैतिक आरक्षण दो वरना जाति व्यवस्था ही ख़त्म करो कलाकार जाति पेशेवर जाति जैसा महान नया नाम अदालत के जरिये तीन-तीन संस्थाओ के माध्यम से बहुजन हसरत पार्टी BHP ने देशहित-जनहित मे दिया है तथा अदालत मे जमकर लड़ाई भी लड़ी सभी 7/7 P.I.L और SLP (C) अदालत ने दिस इज ऐ नाँट मैन्टीनेबुल करके भले खारिज कर दिया फिर भी बहुजन हसरत पार्टी ने हिम्मत नही हारी इसके बाद क्या-क्या लड़ाई लड़ी नीचे नोट नम्बर--2 मे जरूर पढ़िऐ*

*✅नोट-2:--तीन तलाक पर कानून बनाने वाले तथा गरीब सवर्ण भाई को 10% आरक्षण देने वाले महान युगपुरूष P.M जी सहित अनेको मंत्री आदि को 28/5/2019 से लेकर 28/8/2021 तक लगभग 250 रजि० व speed post भेजकर अपील भी कि है कि:----जिस तरह गरीब सवर्ण भाई और और और मुस्लिम महिलाओ के उद्धार के लिऐ कानून बनाये हो:---- ठीक उसी तर्ज पर यदि इन वंचित "कला और पेशा" मे बँटी हजारो कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को SC ST भाई कि तरह "'सेवा और खिदमत"' के नाम पर राजनैतिक आरक्षण हेतु कानून नही बनाये तो भविष्य मे ये कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोग नया आन्दोलन न खड़ा कर देवे और देशहित-जनहित मे नारा न लगाना चालू कर देवे कि :--हम सभी वंचित कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को SC ST भाई कि तरह "'सेवा और खिदमत"' के नाम पर राजनैतिक आरक्षण दो वरना जाति व्यवस्था ही ख़त्म करो:------आखिर बाबसाहेब  के बनाये हुऐ संविधान पर मौलाना हसरत मोहानी साहब ने हस्ताक्षर करने से मना क्यों कर दिया था सोंचो समझो और बताओ इसकी वजह क्या थी*

*41••"कही हम भूल न जाये":--मेरे मुस्लिम भाइयों हम कोई विदेशी नहीं है और नाहि हम किसी मुग़ल-फुगल कि औलाद है....हम तो "बुद्ध" के समय के ज्ञानी ताकतवर शूद्र है अधिक जानकारी के लिए 712 मीर-कासिम का इतिहास देखो :----हम ही कल के ज्ञानी बहुजन है तथा हमे ही "कामगार-मजदूर-श्रमिक" भी कहा जाता है तथा हम ही आज के "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोग है ये "कलाकार जाति पेशेवर जाति" हिन्दू--मुस्लिम दोनो समुदायो मे पाये जाते है जिनकी जनसँख्या पूरे देश मे 50% के इर्द-गिर्द है जिनका पूरा-आधा देश है जो सब के सब 96% OBC कहलाते है*

*42••मुसलमान भाई यदि अब भी चाहे तो भीमवादी दलित को नवाबी मुद्दे पर P.M बनाकर तथा हिकमत के तौर पे "बुद्ध" को अपना राजनैतिक गुरु मानकर अपना वजूद फिर से कायम कर सकते है:--नवाबी का मतलब आज का M.P-M.L.A-C.M व डिप्टी P.M होता है••*

*43--मेरे कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो एक बात याद रखो:---कोलजियम-सिस्टम वाली अदालत---तथा काँग्रेसी EVM देवता कि जब-तक जिन्दा रहेगी तब-तक देश मे काँग्रेस-BJP ही आजीवन सरकार बनती रहेगी:-----तथा तीसरी पार्टी चाहे जो भी हो वह चाहे बहुजन हसरत पार्टी BHP ही क्यों न हो वह तीसरी पार्टी झुमरी तलैया मे A/C हवा खाती रहेगी*


*🙏घटिया या सही अपील~नोट:--🌹बहुजन हसरत पार्टी BHP के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष जनाब मुहम्मद मैराज शेख द्वारा देशहित-जनहित में यह लिखा गया लेख यदि सही लगे तो फिर से कोई बाबरी मस्जिद कांड और मनीष बाल्मीकि जैसी जघन्य घटना/हत्या तथा किसान-आन्दोलन आदि कभी न हो इसलिए पूरे देश में इस लेख को फैलाकर खाशकर मुसलमान भाईयो "नवाबी-मुद्दे" पर जबरजस्ती भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी पर एक बार भरोसा करके 2024 मे P.M/प्रधानमंत्री बनाना होगा....यदि बहुजन हसरत पार्टी BHP के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष जनाब मुहम्मद मैराज शेख साहब कि अपील व माँग सही न भी लगे तो हमसे गाली-गलौज बहस व तकरार जरूर करो मगर साथ-साथ क्षमा भी करो मगर इस लेख को देश के कोने-कोने मे जरूर शेयर करना/करवाना तथा लिखने मे जो भी अपराध व गलती हो गयी हो तो माफ भी करना 9819316944* 


*✅जय भीम जय हसरत मोहानी✅* 


*🌹बहुजन हसरत पार्टी जिन्दाबाद-जिन्दाबाद*

*🏵️कलाकार जातियाँ जिन्दाबाद-जिन्दाबाद*

*🌹पेशेवर जातियाँ जिन्दाबाद-जिन्दाबाद*


*🌹26-8-2021 9819316944🌹*


 



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग