मुस्तकीम मंसूरी ने दहेज को सभी धर्मों में जहां सामाजिक बुराई बताया

 बरेली 4 फरवरी अहमदाबा में दहेज की खातिर आयशा की खुदकुशी किए जाने पर आज हमारे संवाददाता ने मुस्लिम मजलिस के राष्ट्रीय महासचिव व अखिल भारतीय मंसूरी समाज के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष मुस्तकीम मंसूरी से खास बातचीत की बातचीत के दौरान मंसूरी समाज के प्रदेश अध्यक्ष मुस्तकीम मंसूरी ने दहेज को सभी धर्मों में जहां सामाजिक बुराई बताया वहीं उन्होंने बड़ी बेबाकी से अपनी बात रखते हुए कहा। इसके लिए जहां सामाजिक संगठनों के जिम्मेदारों ने अपनी जिम्मेदारी को बखूबी नहीं निभाया वही हमारे मजहबी  रहनुमा भी इस पर जागरूकता पैदा करने पर आगे आने से बचते रहे। उन्होंने दहेज प्रथा कानून में संशोधन कर कानून को सख्त बनाने के लिए दहेज लेने और देने वाले दोनों को कम से कम 10 साल की सजा का प्रावधान कानून में रखने की मांग करते हुए कहा कि अगर इस सामाजिक बुराई दहेज प्रथा को खत्म करना है। तो सरकार के साथ-साथ सामाजिक और मज़हबी लोगों को सख़्ती से अभियान चलाकर ऐसे लोगों जो दहेज देते हैं या लेते हैं उनका सामाजिक बहिष्कार भी करना चाहिए तभी सामाजिक बुराई दहेज प्रथा पर अंकुश लग सकेगा वरना इस प्रचलन को रोकना एक मुश्किल काम है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग