क्या लड़ाई "शूद्र" और "हिन्दू" नाम पर हो रही है*

 *--क्या लड़ाई "शूद्र" और "हिन्दू" नाम पर हो रही है*



*"शूद्र" नाम से दिमाँक डायवर्ट करने के लिए कहीं "हिन्दू" नाम का उदय तो नही किया गया है*


*-:- अम्बेडकरवादी शब्द हटाओ* 

*-:- भीमवादी शब्द अपनाओ*

*-:- अम्बेडकरवादी का समानांतर शब्द भीमवादी है*


*अम्बेडकरवादी शब्द शूद्रराज लाने मे असफल हो चुका है*


*अम्बेडकरवादी साँसद 133-मे (85-SC) (48-ST) ==133 व विधायक 1168 मे (614-SC) (554-ST)--M.L.A=विधायक है* 


*--133 साँसद व 1168 विधायक---SC ST भाईयों के समाज के है*


*133 M.P और 1168 M.L.A मे 15-20 M.P व 300 M.L.A तक ही भीमवादी है---बाकी सब के सब अम्बेडकरवादी है*


*यदि 133 M.P व 1168 विधायक सब के सब भीमवादी होते तो---ये शम्भूख ऋषि महराज कि हत्या करने वाले अपराधी के वंशज कि सरकार आज घुटनों के बल दौड़कर भीमवादी समाज बनाते फिरते और जय भीम जय हसरत मोहानी का नारा लगाते दिखते*


*बहुजन हसरत पार्टी BHP का देशहित-जनहित मे ऐलान :--: शूद्र शब्द को हटाने के लिए शायद हिन्दू शब्द का इस्तेमाल किया गया है*


*देश का कोई वफादार मुसलमान भाई किसी बाबर-फाबर मुगल-फुगल कि औलाद नही है सब के सब धर्म परिवर्तित है---इसलिऐ देश का मुसलमान भाई भी पहले शूद्र था---अधिक जानकारी के लिए 712 ई० का मीर-कासिम का इतिहास देखा जाय*


*आज के SC ST OBC भाईयों को तिलकधारी चन्दनधारी भगवाधारी त्रिशूलधारी जनेऊधारी चोटीधारी ने अपने फायदे के लिऐ जबरजस्ती हिन्दू बनाया है*


*ताकि वफादार मुसलमान भाईयो से ये SC ST OBC हिन्दू बनकर धर्म-आस्था-मजहब के नाम पर लड़ते रहें और हम 2.50% वाले अल्पसंख्यक पंडित पुजारी आजीवन ऐसे ही सत्ता कि कुर्सी पर बैठकर राज करते रहे*        


*"बुद्ध" के समय के ज्ञानी बलवान साहसी शूद्रो से अर्थात :-: शूद्र नाम से 2.50% वाला अल्पसंख्यक पंडित पुजारी इतना घबराता है जिसका इलाज किसी भगवाधारी के पास नही है*


*यदि आज के SC ST OBC भाई अपनी असली पहचान "शूद्र" नाम पर पुनःह लौट आए तो मानकर चलो "भीमवादी सरकार" देश मे होगी तथा भीमवादी दलित को P.M बनने से कोई भी रोक नही सकता है ये मानकर चलो "शूद्रराज" का बिगुल बज चुका है*


*"कल के ज्ञानी बहुजन" ही आज के "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोग है इन्ही को "कामगार-मजदूर-श्रमिक" भी कहते है*


*"कला और पेशा" मे बँटी वंचित हजारो "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोगो को देशहित-जनहित मे SC ST भाईयो कि तरह "सेवा और खिदमत" के नाम पर राजनैतिक आरक्षण दो वरना जाति व्यवस्था ही ख़त्म करो*


*"--कलाकार जाति पेशेवर जाति--" तथा "--भीमवादी-शब्द--" का उदय बहुजन हसरत पार्टी BHP के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष जनाब मुहम्मद मैराज शेख साहब द्वारा हुआ है*


*"कला और पेशा" और 6743×7== जातियों मे बुद्ध के समय के शूद्र को किसने बाँटा है*


*दो मिनट समय निकालकर भीमवादी बनकर जरूर पढ़िऐ यदि सही लगे तो देश के कोने-कोने मे शेयर करिये गलत लगे तो 👏🙏माफ करिये क्षमा करिये*


*"बुद्ध" नाम जहाँ आता है वहाँ "मनु" नाम को जुलाब होना चालू हो जाता है*


*"भीम" नाम जहाँ आता है वहाँ पाखंडी ताँडव मचाना चालू कर देता है*


*--तो क्या माना जाय कि भारत देश का Muslim Sc St Obc शूद्र भाई अपनी असली पहचान शूद्र नाम को भूल चुका है जैसे यदि मान्यवर काँशीराम साहब अपना कदम राजनैतिक क्षेत्र मे न रखे होते तथा राजनीति मे न आये होते तो भीम नाम पर पड़ी धूल को कोई साफ नही कर सकता था और भीम नाम भी वैसा डूबा रहता जैसे आज तक वफादार मुसलमान भाईयो के बुजुर्गो का नाम डूबा हुआ है*


*"कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोगो के पास भीमवादी सरकार होती तो आज शूद्रराज भारत देश मे "दलित-मुस्लिम-पिछड़े" वर्गो के भाई लोग सत्ता के हीरो होते*


*संसद भवन मे भी वफादार मुसलमान भाई M.P-साँसद बनकर भी तमाम पार्टियों बँटा है तथा मस्जिदों मे फिरकों में बँटा है तथा तीन-तीन देशो मे भारत देश के वफादार मुसलमान भाईयो को बाँटकर टुकड़ो मे बिखेरकर कमजोर कर दिया गया है वरना "दलित-मुस्लिम-पिछड़े" वर्गो कि हुकूमत भारत देश पर होती ये भगवाधारी जनेऊधारी त्रिशूलधारी चोटीधारी लोग इन MUSLIM SC ST OBC शूद्र भाईयो के आँगन मे झाड़ू मारने के लिऐ तरसते होते और शूद्र भाईयो कि गुलामी करते फिरते मगर अफसोस----धर्म-आस्था-मजहब के भँवर मे फँसाकर अपाहिज बना दिया गया है*


*इन तिलकधारी चन्दनधारी भगवाधारी त्रिशूलधारी जनेऊधारी चोटीधारी का system मजबूत है उस system का नाम "भ्रम" है अर्थात "भ्रम-भ्रमण-भाषण" करके ही मोदी जी को P.M बनाया गया है*


*इनका एजेंडा शूद्रराज रोकना है---इसके लिए तंत्र-मंत्र हटाकर यंत्र-यंत्र-यंत्र इस्तेमाल किया गया है---उस यंत्र का नाम काँग्रेसी EVM देवता है*


*इनका मुख्य एजेंडा वफादार  MUSLIM भाई को राम का पक्का दुश्मन बताना है पता नही लंका पति रावण कही मुसलमान या मुगल तो नही था*


*इनका एजेंडा SC ST OBC को हिन्दू बनाना है जिससे शूद्र नाम को "तलाक" दे सके*


*इनका एजेंडा है कि आस्था-धर्म-मजहब को बीच मे लाकर ऐसा भ्रम पैदा किया जाय*


*जिससे ये सभी SC ST OBC लोग अपनी असली पहचान "शूद्र" नाम को भूलकर हिन्दू नाम स्वीकार करें*


*क्या लड़ाई "शूद्र" और "हिन्दू" नाम पर हो रही है*


*तिलकधारी तिकड़म खेल रहा है कि MUSLIM SC ST OBC शूद्र नाम कि तरफ रूख न करे*


*तिलकधारी जानता है कि यदि MUSLIM SC ST OBC लोग धर्म-आस्था-मजहब को लाँघकर "शूद्र" नाम कि तरफ लौट गया*


*--तो हम 2.50% वाले अल्पसंख्यक पंडित पुजारी कि सत्ता को जिन्दा जमीन पर दफन कर देगा*


*""शूद्र"" नाम से दिमाँक डायवर्ट करने के लिए कहीं "हिन्दू" नाम का उदय तो नही किया गया है*


*भीमवादी बनकर सभी "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोगो को देशहित-जनहित मे यह बात जरूर समझना होगा* 


*तभी तो "बुद्ध" के समय के ज्ञानी बलवान साहसी शूद्रो को इन पाखंडी अल्पसंख्यक पंडित पुजारी ने षड़यंत्र रचकर अपने फायदे के लिऐ उन शूद्रो को 6743×7==जातियों मे बाँटकर बिखेर दिया है*


*इसके बाद भी जब इनका पेट नही भरा तो अपने फायदे के लिऐ जबरजस्ती प्रत्येक जातियों मे 7/7 उप-जाति बनाकर उन पर जबरजस्ती "कला और पेशा" भी थोप दिया*


*"कला और पेशा" मे बँटी वंचित हजारो "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोगो को देशहित-जनहित मे SC ST भाईयो कि तरह "सेवा और खिदमत" के नाम पर राजनैतिक आरक्षण दो वरना जाति व्यवस्था ही ख़त्म करो*


*----आखिर "कल के ज्ञानी बहुजन" को आज का महान "कलाकार जाति पेशेवर जाति" नाम "बहुजन हसरत पार्टी BHP" के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष जनाब मुहम्मद मैराज शेख साहब को क्यों देना पड़ा है भीमवादी बनकर तर्क करो*


*कल के ज्ञानी बहुजन ही आज के कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोग है आखिर सोंचो भारत देश मे 1--May को क्या मनाया जाता है*


*इन्ही को कामगार-मजदूर-श्रमिक भी कहते है जिनकी जनसँख्या पूरे देश मे 50% के इर्द-गिर्द है जो सब के सब 96% OBC कहलाते है* 


*"कला और पेशा" मे बँटी वंचित हजारो कलाकार जाति पेशेवर जाति "हिंदू-मुस्लिम" दोनो समुदायो मे पाये जाते है*


*बहुत कुछ लिखना और बाकी है परन्तु------*


*लेखक--मुहम्मद मैराज शेख*

*संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष*

*बहुजन हसरत पार्टी BHP 9819316944 --- 6-3-21*

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग