विजय दिवस पर टटीरी में सैनिकों को दी गई श्रद्धांजलि

 विजय दिवस पर टटीरी में सैनिकों को दी गई श्रद्धांजलि



बागपत। विवेक जैन


महाराणा प्रताप पब्लिक स्कूल अग्रवाल मंडी टटीरी में विजय दिवस के सच्चे नायक एवं सैनिकों को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई।


एडवोकेट मनोज कुमार आर्य ने कहा कि विजय दिवस यानि 16 दिसम्बर 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत के कारण मनाया जाता है। इस युद्ध के अंत के बाद 93 हजार पाकिस्तानी सेना ने आत्मसमर्पण कर दिया था। साल 1971 के युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी, जिसके बाद पूर्वी पाकिस्तान आजाद हो गया, जो आज बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है। यह युद्ध भारत के लिए ऐतिहासिक और हर देशवासी के दिल में उमंग पैदा करने वाला साबित हुआ। रमेश कुमार सागरपुर ने युद्ध में शहीद हुए करीब 39 सौ भारतीय सैनिकों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि भारत के सेना अध्यक्ष सेम मानकेशा के नेतृत्व में पाकिस्तान पर जीत दर्ज की थी और सबसे बड़ा क्षण तब था जब युद्ध मैं पाकिस्तानी सैनिक बंदी बनाए गए थे। सबसे बड़ी बात पाकिस्तानी सैनिकों ने स्वीकार किया था कि उनके साथ भारत में बहुत अच्छा व्यवहार किया गया, इसलिए विजय दिवस के सच्चे नायक हमारे सैनिक है राजनेता नहीं। इस मौके पर आकांक्षी शर्मा, प्रियांशी आर्य, अंशु आर्य, तनीषा, मनस्वी, अमरदीप व्यास, कनिष्का आर्य, प्रेम राजपूत आदि थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग