विरोध प्रदर्शन के पर्यटन क्षेत्र में होगा नुकसान






 


 

देश में विदेशी पर्यटकों के आने के लिहाज से दिसंबर सबसे व्यस्तता वाला महीना रहता है लेकिन इस बार पर्यटक परिचालकों को आशंका है कि पर्यटक कम ही आएंगे। स्टिक ट्रैवल्स के अध्यक्ष सुभाष गोयल का कहना है, 'हम दिसंबर में 7-8 फीसदी वृद्धि की उम्मीद करते थे लेकिन अब पर्यटक भारत आने से हिचक रहे हैं। ऐसे में मुमकिन है कि इस वृद्धि में 2-3 फीसदी की कमी दिखे।' व्यापक विरोध-प्रदर्शन की वजह से कई देशों की सरकारों ने भी चेतावनी जारी की है, इसी वजह से लोगों ने पूर्वोत्तर राज्यों में जाने की योजना रद्द कर दी है। 

 

रूस, कनाडा, अमेरिका, ब्रिटेन और इजरायल जैसे देशों ने अपने नागरिकों को विशेषतौर पर भारत के पूर्वोत्तर राज्यों का दौरा करने पर सतर्कता बरतने की सलाह दी है। कनाडा ने भी अपने नागरिकों को चेताया है कि अगर ज्यादा जरूरी न हो तो असम और इसके पड़ोसी राज्यों में यात्रा करने से बचें। गोयल कहते हैं, 'हम विदेश के अपने साझेदारों को आश्वस्त कर रहे हैं। पर्यटन और विदेश मंत्रालय को भी विदेशी सरकारों से जमीनी हकीकत साझा करनी चाहिए।' जनवरी-अक्टूबर के बीच भारत आने वाले पर्यटकों की तादाद 85 लाख है और इसमें सालाना आधार पर 2.7 फीसदी की वृद्धि हुई है। वर्ष 2018 में पर्यटकों की तादाद में 5.2 फीसदी की वृद्धि हुई और यह 1 करोड़ तक रहा। हालांकि 2019 में इस वृद्धि में कमी आई। 

 

कोहली का मानना है कि देश भर में प्रदर्शन का असर पर्यटन पर पड़ेगा लेकिन यह असर लंबे समय के लिए नहीं होगा। वह कहते हैं, 'पर्यटकों की सुरक्षा पर कोई खतरा नहीं है और यह विरोध-प्रदर्शन भी शहर के किसी खास हिस्से तक ही सीमित है।'रिफंड और यात्रा की तारीख में फेरबदल की योजना के लिए विमानन कंपनियों और होटलों के साथ तालमेल बिठाने के साथ-साथ पर्यटन परिचालकों की अच्छी-खासी मौजूदगी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर भी है। एफसीएम ट्रैवल सॉल्युशंस के प्रबंध निदेशक रक्षित देसाई का कहना है, 'हम ग्राहकों के अनुभव को लेकर चिंतित हैं और हमारी कोशिश यह है कि हम मेहमानों के आने और जाने तक उनका पूरा ख्याल रखें। हमने अधिकारियों से इस बाबत संपर्क साधने की कोशिश की है कि वे कुछ अहम हवाईअड्डे पर हमारी मौजूदगी सुनिश्चित करें ताकि ग्राहकों की हम पूरी मदद कर सकें।' ट्रेल ब्लेजर टूअर्स इंडिया के मुख्य कार्यकारी होमा मिस्त्री कहते हैं, 'हमारे लिए यह सीजन कमाई वाला होता है और हमें उम्मीद है कि हालात सामान्य होंगे। हमें अभी तक यात्रा रद्द करने की कोई सूचना नहीं है।'





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत