तीनों गांव के ग्रामीणों की बैठक आसनापानी के मांझी हडाम श्री भादो मांझी के अध्यक्षता में बिरहोरडेरा में संपन्न हुई।

 सड़क, बिजली जैसी बुनियादी सुविधाओं से गोमिया प्रखंड के बिरहोरडेरा, आसनापानी, और काशीटांड को जोड़ने के लिए तीनों गांव के ग्रामीणों की बैठक आसनापानी के मांझी हडाम श्री भादो मांझी के अध्यक्षता में बिरहोरडेरा में संपन्न हुई।

               बैठक को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि झारखंड आंदोलनकारी एवं भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता इफ्तेखार महमूद ने कहा कि विकास योजनाओं के चयन में प्राथमिकता की असंतुलित स्वीकृति के कारण उपर्युक्त तीनों गांव के लोगों को पैदल चलने के लिए उचित पगडंडी तक नहीं है। गांव के मरीजों को अस्पताल या चिकित्सक के पास ले जाने के लिए खटिया का सहारा लेना पड़ता है।


श्री महमूद ने कहा कि प्रसव के स्थिति में उपर्युक्त गांव में विलंब के कारण जच्चा या बच्चा या दोनों की मृत्यु होने की सूचना मिलते रहती है। कहा कि उपर्युक्त तीनों गांव सियारी पंचायत में पड़ता है। सियारी पंचायत में करोड़ों रुपया खर्च कर संस्कृतिक भवन के अलावा कई सामुदायिक भवन का निर्माण किया गया है किंतु लाखों रुपया खर्च करके बड़की कोयोटांड से काशीटांड ,बिरहोरडेरा होते हुए आसनापानी तक के गड्ढानुमा भूभाग को दो पहिया/चार पहिया वाहन चलने लायक समतलीकरण कर रास्ता का स्वरूप भी नहीं दिया गया है।

        श्री महमूद ने कहा कि बिरहोर डेरा के बगल से रेल लाइन गुजरी है,यदि पैसेंजर ट्रेनों का 1 मिनट का होल्ड कर दिया जाए तो ग्रामीणों को काफी हद तक राहत मिल सकती है। कहा कि रेल लाइन के ही कारण उक्त गांव का बिजलीकारण बाधित है। कहा कि सड़क एवं बिजली के अभाव में उपर्युक्त तीनों गांव विकास की धारा से बहुत दूर है।

          बैठक को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव पंचानन महतो, अंचल सचिव सोमर मांझी, आदिवासी महासभा के बीरालाल किस्कू ,किसान सभा के चुंबन महतो, इंसाफ के मंजूर अंसारी एवं कमालुद्दीन अंसारी तथा ग्रामीणों की ओर से रमेश मांझी, तालो देवी, रामेश्वर सोरेन ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर सामूहिक भोजन का भी ग्रामीणों द्वारा व्यवस्था किया गया था।


   ---------------------------------+---------

    अपने संबोधन के क्रम में इफ्तेखार महमूद ने उपस्थित ग्रामीणों से पूछा कि कितने लोग प्रखंड कार्यालय देखें हैं तो सभी ने "नहीं" में उत्तर दिया, उन्होंने आगे पूछा की पंचायत भवन को कितने लोग देखे हैं तो उपस्थित 90 लोगो में से आठ लोगों ने ही पंचायत भवन देखने की बात कहा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश