आखिर कैसे हो गया खेला, हरिहर गंज रेलवे स्टेशन की जमीन का,

 रिपोर्ट-मुस्तकीम मंसूरी 

फतेहपुर जिले के सदर कोतवाली क्षेत्र के हरिहर गंज रेलवे स्टेशन का मामला सुर्खियों में है।जो कभी आम यात्रियों के लिए रेलवे पार्क के नाम से मशहूर बेशकीमती जमीन पर हुआ कब्ज़ा जिस पर

किसी समय रेल यात्री एवं आसपास के लोग पार्क का आनंद लेने के लिए व्यतीत करते थे समय जब 

कुछ गणमान्य लोगो ने कहा- जब गाजियाबाद के बहुचर्चित मासूम बच्चों के हत्यारे को साक्ष्यो के अभाव में हाई कोर्ट ने कर दिया है बरी तो फिर जमीन के मामले में साक्ष्यो को नष्ट करना कोई बड़ी बात नहीं है। 



हालांकि जमीन पर कब्जे के पीछे हाई कोर्ट के एक आदेश का दिया जा रहा है हवाला

दिनेश चंद्र शुक्ला नामक व्यक्ति का इस जमीन पर बताया जा रहा है मालिकाना हक

रेल बाजार एवं हरिहरगंज के अनेकों लोगों की दबी जुबान सुनी जा सकती है बेशकीमती जमीन की हकीकत यह है कि 

रेलवे विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की मिली भगत से दस्तावेजों के साथ की गई है छेड़छाड़-सूत्र बताते हैं

 की हरिहरगंज व रेल बाजार मोहल्ले के कुछ संभ्रांत व्यक्ति हाई कोर्ट में पुनः डालेंगे पुनर्विचार याचिका जिसकी तैयारी चल रही है।

 अगर जमीनी स्तर पर की गई जांच तो नप सकते हैं कई अधिकारी व सफेदपोश प्रशासन ने नहीं लिया था संज्ञान तो लोग जाएंगे सीधे हाई कोर्ट जिसकी तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश