पुरानी पेंशन की मांग को लेकर 50 साल बाद रेल कर्मियों की हड़ताल की तैयारी,

 रिपोर्ट-मुस्तकीम मंसूरी

हड़ताल के लिए 43 हजार रेलवे कर्मचारियों ने किया गुप्त मतदान।

पहले दिन 65 प्रतिशत रेल कर्मियों ने डाला वोट, आज भी होगा मतदान 60% समर्थन मिला तो देंगे हड़ताल का नोटिस।

नई दिल्ली, न्यू पेंशन स्कीम रद्द कर पुरानी पेंशन बहाल करने को लेकर रेलकर्मियों का आंदोलन अब हड़ताल की तरह जा रहा है। हड़ताल से रेलवे को बड़ा नुकसान होगा, इसे लेकर हंगामा भी होगा। ऐसे में रेलवे यूनियनें फैसला लेने से पहले हर रेलकर्मी का मन टटोलकर समर्थन हासिल कर रही है। हड़ताल पर अपना फैसला सुनाने के लिए रेल कर्मियों ने मंगलवार को गुप्त मतदान किया। स्ट्राइक वैलेड के दौरान यूनियन नेता उत्साहित नगर आए। हड़ताल की तैयारी करीब 50 साल बाद है। मंगलवार को नार्थ सेंट्रल रेलवे इंप्लाइज़ संघ ने स्ट्राइक वैलेट पर रेल कर्मियों से गुप्त मतदान कराया।


शाम तक 65 प्रतिशत प्रतिशत रेल कर्मियों ने वोट डाला। यूनियन नेताओं नेताओं का कहना है कि करीब 43 हजार रेल कर्मियों ने अपना मत दिया है। बचे हुए रेल कर्मी बुधवार को अपना मतदान करेंगे। इस मतदान में 90 से 95% रेल कर्मियों के शामिल होने का अनुमान है। मतदान के बाद स्ट्राइक बैलेट की गणना होगी। अगर 60% से अधिक कर्मचारियों ने हड़ताल को समर्थन दिया तो जोन के जीएम को हड़ताल का नोटिस दिया जाएगा। एनसीआर एमयू के केंद्रीय महामंत्री आर डी यादव के मुताबिक एनसीआर में यूनियन की 47 ब्रांच है मंगलवार को एक साथ 1000 से अधिक पदाधिकारी व सदस्यों ने स्ट्राइक वैलिड पर मतदान कराया बुधवार को भी मतदान होगा अगर तो टिहरी बहुमत से हड़ताल के लिए सहमति मिलती है तो हड़ताल के लिए 14 दिन का नोटिस देंगे इसमें रेल का पहिया पूरी तरह से रोक दिया जाएगा एनसीआर इएस के मंडल महामंत्री चंदन कुमार सिंह का कहना है कि वैलेड स्ट्राइक के जरिए रेल कर्मी हड़ताल को समर्थन दे रहे हैं आंदोलन और बढ़ेगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत

पीलीभीत सदर तहसील में दस्तावेज लेखक की गैर मौजूदगी में उसका सामान फेंका, इस गुंडागर्दी के खिलाफ न्याय के लिए कातिब थाना कोतवाली पहुंचा*