नफरत हटाओ देश बचाओ, पत्रकार एस ए बेताब व मुस्तकीम मंसूरी के सार्थक प्रयासों से हर संप्रदाय के बुद्धिजीवी एक मंच पर आएं,

 बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए दिल्ली से हसरत अली के साथ मंजू कुमारी कि रिपोर्ट

उत्तर पूर्वी दिल्ली के मुस्तफाबाद की गली नंबर 14 मानसिंह नगर के एस एन पैलेस में आयोजित विचार गोष्ठी में बोलते हुए इग्नू के उर्दू विभाग अध्यक्ष डॉ धर्मवीर सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा की कोई भी जाति कोई भी धर्म नफरत करना नहीं सिखाता और भाषाऐ आपस में जोड़ने का काम करती हैं।


भाषा को किसी धर्म से नहीं जोड़ा जा सकता।उर्दू केवल मुसलमानों की भाषा नहीं है और संस्कृत केवल हिंदू धर्म के लोगों की नहीं है। भाषाएं हमारी संस्कृति ,हमारी सभ्यता को जोड़ने का काम करती है ।उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में नफरत मिटाकर आपसी भाईचारे को मजबूत करने की जरूरत है।

जो लोग किसी के कपड़े,किसी की भाषा देखकर उन्हें टारगेट करते हैं इस तरह से करना गलत है। मौलाना हकीम डॉक्टर वकील साहब ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आज मानवता को बचाने की जरूरत है,यदि समय रहते हमने मानवता को बचाने का कामना न किया तो आने वाली पीढ़ियां हमें माफ नहीं करेगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि हमें मानवता की सेवा करनी चाहिए और मानवता की सेवा में तत्पर रहना

चाहिए। हमें अपने पड़ोसियों का भरपूर ख्याल करना चाहिए। चाहे वह किसी धर्म किसी जाति को मानता हो, हमें भेदभाव को खत्म कर नफरत को मिटाना है और देश को बचाना है । उन्होंने बताया कि वह एक हेल्पलाइन भी चला रहे हैं। मौहम्मद फुरकान ने नफरत मिटाओ देश बचाओ विचार गोष्ठी में बोलते हुए कहा कि आज इस तरह के कार्यक्रम समाज को जोड़ने का

काम करते हैं। और हम सब की जिम्मेदारी है कि हम सब मिल बैठकर समाज को जोड़ने का कार्य करें। उन्होंने सर सैयद अहमद खान जैसे मानवता के उत्थान करने वाले महापुरुष को याद किया और आह्वान किया कि हमें सर सैयद अहमद खान के पद चोन पर चलकर देश को मजबूत करना चाहिए। इस मौके  पर उन्होंने उर्दू बचाओ उर्दू पढ़ाओ तहरीक से जुड़ने का भी आह्वान किया ।
कामरेड इफ्तिखार अहमद ने नफरत मिटाओ - देश बचाओ विचार गोष्ठी में बोलते हुए कहा कि आज जो लोग राष्ट्रभक्त बने हुए हैं मैं आह्वान करता हूं कि उन्हें मुसलमान के अतीत को पढ़ने की जरूरत है। जंगे आजादी की खातिर हिंदू और मुसलमान ने मिलकर बहुत बड़ी कुर्बानी दी है तभी यह मुल्क आजाद हुआ है।उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि हम सब की जिम्मेदारी है कि हम देश से नफरत को मिटाने का काम करें और सांप्रदायिकता को उखाड़ कर एक अच्छा समाज बनाने में सहयोग करें।

अमन सैनी राज्य सचिव भारत की जनवादी नौजवान सभा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि नफरत मिटाओ देश बचाओ जैसी विचार गोषठियां जगह-जगह पर आयोजित होनी चाहिए और इससे समाज को दिशा मिलती है । हम सब को मिलकर समाज के उत्थान के लिए कार्य करना चाहिए ।उन्होंने 2020 के दंगों का जिक्र करते हुए कहां की दंगों के अंदर किस तरह से इस इलाके में मानवता तारतार हुई थी और यहां पर अतीत के उन घंटे को याद कर मैं आज भी सिहर जाता हूं । आज जरूर तो इस बात की है कि हम सब मिलकर पुनरुत्थान और नफरत मिटाने का काम करें।

समाजसेवी अली शेर सैफी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि जब तक देश से नफरत नहीं मिटेगी देश का विकास नहीं होगा। बेताब समाचार एक्सप्रेस के संपादक एस ए बेताब ने जो नफरत मिटाओ देश बचाओ विचार गोष्ठी का आयोजन किया है मैं उन्हें हर तरह का सहयोग देता हूं और इस तरह के आयोजन के लिए आइंदा हर जगह उनकी मदद के लिए तैयार रहूंगा। हमें इस तरह के कार्यक्रम को ज्यादा से ज्यादा करने की जरूरत है।

कामरेड आशा शर्मा राज्य सचिव अखिल भारतीय जनवादी महिला सभा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि नफरत विनाश के सिवा कुछ नहीं करती है और जो लोग नफरत करके राजनीतिक रोटियां सकते हैं उनके कारण ही नफरत को बढ़ावा मिलता है।हम सबको मिलकर नफरत को मिटाना चाहिए और नफरत की राजनीति को समाप्त कर मुद्दों की राजनीति की ओर आकर्षित करना चाहिए। अगर हमारे बच्चे पढ़े लिखे होकर बेरोजगार घूमेंगे तो यह देश के लिए न समाज के लिए अच्छा है इसलिए हम सब की जिम्मेदारी है कि हम एक शिक्षित और आदर्श समाज बनाने के लिए नफरत को मिटाने का काम करें।

डॉ जाकिर हुसैन मेमोरियल सीनियर सेकेंडरी स्कूल के प्रिंसिपल रियाज उल हसन खान ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि देश से नफरत मिटाने के लिए हम सबको आगे आना चाहिए और बच्चों की तालीम पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देना चाहिए जब हमें शिक्षित समाज बनाएंगे तो हमें नफरत मिटाने में बहुत कामयाबी मिलेगी । नफरत मिटाओ देश बचाओ विचार गोष्ठी से पूरे समाज को एक संदेश जा रहा है कि हम सब मिलकर के नफरत को मिटाने का काम करें और मोहब्बत बढ़ाने का काम करें तभी देश आगे बढ़ेगा।

सुप्रीम कोर्ट के एडवोकेट दान बहादुर यादव ने अपने विचार  व्यक्त करते हुए कहा कि आज देश में नफरत की आंधियां चल रही है हमारी संवैधानिक संस्थाओं पर हमले हो रहे हैं ऐसे वक्त में हम सब की और अधिक जिम्मेदारी बनती है हम सब लोग आगे आए और नफरत को मिटाने का काम करें और अपनी संवैधानिक संस्थाओं को बचाने के लिए हम सबको मिलकर एक ऐसी लड़ाई लड़नी होगी जो समाज को नई दिशा दे और नफरत को मिटाने का काम करें।

पूर्व वाइस चेयरमैन उर्दू अकादमी पूर्व निगम पार्षद हाजी ताज मोहम्मद ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि नफरत मिटाओ देश बचाओ विचार गोष्ठी में हिंदू और मुस्लिम समाज के लोगों को बराबर की भागीदारी निभानी चाहिए और सभी दोनों समाज के जब जिम्मेदार लोग मिलकर बैठेंगे और नफरत मिटाने की बात करेंगे और नफरत मिटाने का काम करेंगे तो समाज से नफरत कम होगी ।  जिससे हमारे देश में आपसी भाईचारा मजबूत होगा और आज हमें आपसी भाईचारे को मजबूत करने की जरूरत है।

ऑल इंडिया मुस्लिम टेली कांफ्रेंस के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष शेरखान मलिक ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि नफरत को जड़ से उखाड़ने के लिए जरूरी है कि सांप्रदायिकता को सत्ता से उखाड़ने का काम करें तभी नफरत खत्म होगी । उन्होंने आह्वान किया कि ऑल इंडिया मुस्लिम तेली कांफ्रेंस हर शोषित, वंचित और जरूरतमंद आदमी के साथ खड़ी है और उनका हर तरह से सहयोग करेगी समाज को दिशा देने के लिए सभी लोगों को आगे बढ़कर इस तरह के आयोजनों में भाग लेना चाहिए।

समाज विकास समिति के अध्यक्ष नासिर मलिक ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आज देश में नफरत का जो माहौल है उसे हर व्यक्ति प्रभावित है और विकास को पाने के लिए इस बात की जरूरत है कि हम नफरत को बिठाकर मोहब्बत का माहौल तैयार करें । हमारे एजुकेशन,व सामाजिक संस्थाएं मजबूत हो और समाज को एक आदर्श समाज बनाने में सहयोग करें । 

नेशनल इंकलाब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद आरिफ इंजीनियर ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि मुस्लिम समाज की जो दुर्दशा हुई है उसके लिए मुस्लिम समाज को जिम्मेदार है उसने राजनीतिक रूप से अपने आप को मजबूत नहीं कियाऔर जब तक जो समाज राजनीतिक रूप से मजबूत नहीं होता  तो उसकी बहुत सारी समस्याएं हल नहीं होती है उन्होंने आह्वान किया कि आज समाज को क्षेत्र शैक्षणिक संस्थाएं और राजनीतिक संस्थाओं को मजबूत करने की


जरूरत है। उन्होंने समाज पर चोट करते हुए कहा कि मुस्लिम समाज एक जिले में बहुत सारी मस्जिदे तो बना लेता है लेकिन क्या वह एक इंटर कॉलेज भी बना पाता है ? इस तरह के तीखे सवालों को करते हुए उन्होंने समाज से आह्वान किया कि निराश होने की जरूरत नहीं है नफरत को मिटाकर मोहब्बत का पैगाम घर-घर पहुंचने की जरूरत है।

महेंद्र पासवान ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि शोषित ,वंचित और गरीब वर्ग नफरत से ज्यादा पीड़ित है उन्होंने बताया कि वह दिल्ली के किराएदारों की समस्याओं को लेकरकिराएदार मजदूर विकास पार्टी चला रहे हैं और उनके सामने जो समस्याएं आती है उनसे पता चलता है कि आज भी दिल्ली के किराएदार कितने परेशान है उन्होंने समाज को जोड़ने और नफरत को मिटाने का आह्वान किया। कार्यक्रम के बाद जलपान की व्यवस्था भी की गई।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश