पीलीभीत पूर्व जिलाधिकारी पुलकित खरे के द्वारा उत्तराखंड और नेपाल बॉर्डर मंझौला में बांसुरी नगरी पीलीभीत नाम का द्वारा बनवाया गया था जिस पर आज जंक लग चुका है*

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट*

पीलीभीत को प्रदेश में बांसुरी नगरी व पीलीभीत टाइगर रिजर्व के नाम से एक अलग पहचान मिली हैl


 पूर्व में प्रशासन के द्वारा शहर के सारे मेन रोड पर तिरंगा लाइट लगाई गई थी, चौराहों पर बांसुरी व टाइगर लगाकर सजाया गया था, लेकिन आज शहर की उदासीनता यह है कि जो भी पहले सजावट की गई थी वह आज फीकी पड़ चुकी है l

 उत्तराखंड नेपाल बॉर्डर मझोला में बांसुरी नगरी पीलीभीत द्वार पर बने टाइगर टूट कर गिरे व द्वार पर लगने लगा जंक लेकिन किसी को नहीं इसकी फिक्र l

इस हालात में नहीं लगता कि शहर का होगा विकास l


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश