राम मंदिर के लिए 400 किलो का ताला बनाया बुजुर्ग दंपत्ति ने|

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए अलीगढ़ से अली अब्बास की रिपोर्ट, 

अलीगढ़ देश और दुनिया में तालो के लिए मशहूर है| किसी पहचान को कायम रखने के लिए अलीगढ़ में वर्षों से एकदम पत्ती लगा हुआ है| उन्होंने पहले आर्डर पर 300 किलो का बड़ा ताला बनाया और अब उससे भी बड़ा 30 किलो की चाबी के साथ 400 किलो का ताला बनाया है| इसे दुनिया का सबसे बड़ा ताला भी कहा जा सकता है, बुजुर्ग दंपत्ति को इस ताले को बनाने में डेढ़ लाख रुपया लागत लगाने के साथ-साथ 6 महीने का समय लगा| बुजुर्ग दंपत्ति इस बड़े ताले को अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को अर्पण करना चाहते हैं|


ताला बनाने वाले कारीगर सत्य प्रकाश शर्मा बताते हैं कि हम पति-पत्नी ने मिलकर इस ताले को तैयार किया है अब हम पति-पत्नी चाहते हैं कि अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को यह ताला अर्पण करें, अभी जहां तक हमारे पैसे की कैपेसिटी थी हमने लगा दिया इससे ज्यादा हमारे पास गुंजाइश नहीं है| इस वजह से हम इसको अयोध्या राम मंदिर तक नहीं पहुंचा पाए हैं यह 4 कुंतल का ताला है, जिसको बनाने के लिए डेढ़ लाख रुपए की लागत लग चुकी है| इस ताले की लंबाई 10 फिट और चौड़ाई4.5 फिट है, और इस ताले की मोटाई 9.5 इंच है, इस ताले को बनाने में हमें 6 महीने का समय लगा, मैं राम मंदिर को  ताला भेंट कर सकूं। इसी उद्देश्य से मैंने और मेरी पत्नी ने यह ताला तैयार किया है|

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश