काबुल में मस्जिद विस्फोट में कम से कम 20 मरे, 40 घायल*

काबुल, 18 अगस्त: अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के उत्तर में एक मस्जिद में हुए विस्फोट में 20 लोगों की मौत हो गई और 40 अन्य घायल हो गए।

 विस्फोट शाम की नमाज के दौरान खैर खाना इलाके की एक मस्जिद में हुआ।

 एक अफगान सुरक्षा सूत्र ने कतरी प्रसारक अल जज़ीरा को बुधवार को बताया, "काबुल के उत्तर में एक मस्जिद में हुए विस्फोट में 20 लोग मारे गए और 40 अन्य घायल हो गए।"

तालिबान का दावा है कि अफगानिस्तान पर उनका पूरा नियंत्रण है लेकिन इस्लामिक स्टेट देश भर में नागरिकों और पुलिस पर हमले जारी रखे हुए है।

 अफगान समाचार एजेंसी के अनुसार, तालिबान ने हताहतों पर कोई बयान जारी नहीं किया है।  अभी तक किसी आतंकवादी समूह ने इस विस्फोट की जिम्मेदारी नहीं ली है।

 मरने वालों में आमिर मोहम्मद काबुली नाम का एक शीर्ष इस्लामिक मौलवी भी शामिल है।

 दो हफ्ते पहले काबुल में हुए दो घातक धमाकों में 10 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 40 अन्य घायल हो गए थे।  इस्लामिक स्टेट ने दोनों हमलों की जिम्मेदारी ली है।

 यह धमाका अफगानिस्तान में तालिबान के एक साल के शासन के बाद हुआ है।  अधिकार समूहों ने कहा कि तालिबान ने मानवाधिकारों और महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करने के लिए कई वादों को तोड़ा है।

 पिछले साल अगस्त में काबुल पर कब्जा करने के बाद, इस्लामी अधिकारियों ने महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों पर गंभीर प्रतिबंध लगाए, मीडिया को दबा दिया, और मनमाने ढंग से हिरासत में लिया, प्रताड़ित किया, और आलोचकों और कथित विरोधियों को अन्य दुर्व्यवहारों के बीच संक्षेप में मार डाला।

 न्यूयॉर्क स्थित अधिकार समूह ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि तालिबान के मानवाधिकारों के हनन की व्यापक निंदा हुई है और देश की गंभीर मानवीय स्थिति से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रयास खतरे में हैं।- (एएनआई)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया