*सपा/ओवैशी को वोट देने वाले मुस्लिम कौम के लिए सिर्फ यह लेख है*



*नोट--हे देश के ताकतवर वतन परस्त मुस्लिम भाईयों सपा और ओवैशी महराज प्रभु को जमकर वोट दो और रखैल और गुलाम बनो---बहुजन हसरत पार्टी BHP---क्या कोई आप लोगो को वोट देने के लिए मना नही करेगा परन्तु ''मुल्ला-मुलायम'' और अखिलेश से पूंछो कि आजमखाँन को बचाने के लिए इन दोनो ने क्या उपाय किये थे तथा काँग्रेसी EVM देवता यंत्र को हटाने के लिए आन्दोलन क्यों नही किये तथा जब 16/11/1992 को मंडल-आयोग के फैसले मे सुप्रीम कोर्ट ने ''क्रीमी-लेयर'' नाम पर एक बूँद जहर डालकर 3743-OBC शूद्र वंचित हजारों कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो का सर्वनाश करके हक-अधिकार पर ग्रहण लगा दिया था तो सुप्रीम कोर्ट मे क्रीमी-लेयर नाम पर पुनर्विचार याचिका क्यों नहीं किये...तथा इस RSS-BJP के वफादार दलाल ओवैसी महाराज प्रभु से पूंछो कि इस दलाल ने आन्ध्रा प्रदेश व तेलंगाना राज्य मे आज तक कुछ क्यों नही उखाड़ पाया क्यों सिर्फ 8-10 सीट पर ही वहाँ लड़ता है क्यों सूदखोर जिन्ना और गद्दार मौलाना अबुल कलाम आजाद कि तरह हरकत करता है तथा बाबरी-मस्जिद को क्यों तलाक दे दिया तथा संसद-भवन मे कभी काँग्रेसी EVM देवता यंत्र व कोलजियम-सिस्टम वाली अदालत के खिलाफ आवाज क्यों नही उठाता है जिन्ना ने हमारी मुस्लिम कौम का 35% आरक्षण खत्म किया था तो मौलाना अबुल कलाम आजद ने संविधान में मुस्लिम कौम को आरक्षण नही मिलने दिया था तो क्या औवैसी महाराज प्रभु अब मुस्लिम कौम के वोट के अधिकार को ही खत्म करने के फिराक में RSS-BJP के इशारे-हुक्म पर काम तो नही चालू किया है*


*(1)--बहुजन समाज पार्टी BSP और बहुजन हसरत पार्टी BHP के अलावाँ अन्य कोई दल काँग्रेसी EVM देवता व कोलजियम-सिस्टम वाली अदालत के खिलाफ क्यों नही   बोलते है अफसोस कोई दल का नेता आंदोलन क्यों नही करता है क्या काँग्रेस BJP ने उन्हें डराया-धमकाया है या कुछ लालच आदि देकर खरीद लिया है तर्क करो देश को और  संविधान को और लोकतंत्र को बचाने के लिए देश के इन Muslim Sc St Obc शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो तर्क करना होगा और देशहित-जनहित मे 1857 कि भाँति काँग्रेसी EVM देवता यंत्र को उखाड़ फेंकने के लिए क्या दूसरी क्राँति कि तैयारी करना होगा*


*(2)--मंडल आयोग लागू न हो मान्यवर काँशीराम साहब P.M न बनने पावे तथा BSP के माध्यम से MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले कामगार-श्रमिक-मजदूर व बहुजन कि सरकार न बनने पावे इसलिए 1992 में केंद्र कि काँग्रेस तथा RSS वाले P.M पी.वी नरसिम्हा राव कि सरकार ने BJP के हाँथो मानो बाबरी मस्जिद का खून करने कि सुपारी दे दी हो ठीक वैसा ही हुआ तभी से देश मे RSS-BJP ने देश मे हिंदू-X-मुस्लिम के नफरत कि बीज बोकर भाईचारा व मानवता को कलंकित कर दिया है इतना ही नही RSS-BJP ने वफादार मुसलमान भाईयो को गुमराह करने के लिये "मुल्ला-मुलायम" नाम देकर दलित+मुस्लिम एकता को तार-तार कर दिये तथा अब ओवैसी महाराज प्रभु और शिवसेना आदि सभी बड़ी पार्टियों के नेता लोग अब काँग्रेस-BJP के इशारे पर समय-समय पर अनाप-शनाप घटिया बयान देकर चुनाव मे विकास और तरक्की मुद्दों कि बात दफन करके सीधे-सीधे हिंदू×मुस्लिम पाकिस्तान-कटुवा-कटमुल्ला-आतंकवादी-गद्दार-घुसपैठ आदि बातें उछालकर नफरत फैलाने मे जरा भी गुरेज नही कर रहे है*


 *(3)--काँग्रेस-BJP ने मिलकर बाबरी मस्जिद का खून किया था लेकिन खुशी इस बात कि है कि U.P-बिहार में इन मुस्लिम भाईयों ने काँग्रेस को ऐसा उखाड़कर फेंका है कि काँग्रेस को U.P-बिहार मे दिन मे तारे नजर आ रहे है परन्तु विश्व ज्ञानी बाबा-साहेब के ऐकला आदर्शवादी चेला मान्यवर काँशीराम साहब ने जनता-दल से गद्दारी करके अलग हुए मुलायम सिंह यादव को सहारा देकर 1993 में U.P का C.M/मुख्यमंत्री बनाकर MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले कामगार-श्रमिक-मजदूर व बहुजन कि सरकार बनाकर शूद्रराज का बिगुल बजा दिया था--परन्तु BSP द्वारा बार-बार माँग करने पर भी जब मुलायम सिंह साहब ने मुस्लिम भाईयों को भी मंडल आयोग के अनुसार OBC का सर्टिफिकेट देने से इन्कार किया था जिसके चलते BSP ने मुलायम सिंह सरकार से समर्थन वापस ले लिया था*


*(4)--मुस्लिम कौम BSP के संस्थापक मान्यवर काँशीराम साहब के साथ न चले जावे तथा मान्यवर काँशीराम साहब को अपना मसीहा न मानने लगे इसलिए काँग्रेस-BJP ने मुस्लिम कौम को गुमराह करने व बेवकूफ बनाने के लिए मुलायम सिंह यादव को "मुल्ला-मुलायम" कि उपाधि दे दिया जो आज देश का दिमाँकदार व जेहनदार बलशाली बलवान मुसलमान भाई बेवकूफ ना-समझ बनकर समाप्त-वादी पार्टी के मुल्ला-मुलायम नाम के पीछे हाँथ धोकर व ''मुल्ला-मुलायम'' के नाम के झमेले मे पड़कर 21% होने के बावजूद भी जिल्लत-भरी जिंदगी गुजारने पर मजबूर है और 7% वाले मुल्ला-मुलायम को अनेको बार U.P का C.M बना दिया है*


*(5)--25-अगस्त 2003 को अगर मैं प्रधानमंत्री होता ऐसा नारा मान्यवर काँशीराम साहब ने देकर तथा भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी ने BJP के समर्थन से चल रही अपनी सरकार को बर्खास्त किया जिससे डरकर BJP ने BSP के 11 विधायक मुलायम सिंह के माध्यम से तोड़कर दल-बदल कानून कि धज्जियाँ उड़ाकर मुलायम सिंह यादव कि अगुवाई मे असंवैधानिक सरकार बनाई जिसे सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकार के कार्यकाल कि समाप्ति के अंत मे BJP+मुल्ला-मुलायम गठबंधन कि सरकार को असंवैधानिक घोषित किया था BJP+समाजवादी पार्टी कि अलिखित गठबंधन कि इस असंवैधानिक सरकार में BJP के केसरीनाथ त्रिपाठी को ही सदन का विधानसभा अध्यक्ष बनाये रखा...MUSLIM SC ST OBC शूद्र ''कलाकार जाति पेशेवर जाति'' वाले ''बहुजन'' व ''कामगार-श्रमिक-मजदूर'" ने 2007 में BJP+समाजवादी पार्टी कि इस अलिखित गठबंधन कि सरकार को उखाड़ फेंककर BSP कि पूर्ण बहुमत कि सरकार बनाकर दे दिया था*


*(6)--BJP+समाजवादी पार्टी कि असंवैधानिक सरकार को उखाड़ कर 2007 में BSP ने U.P में पूर्ण बहुमत कि सरकार बनाई और 2008-09 परमाणु डील मुद्दे पर भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती बनने ही वाली थी परंतु BJP-RSS वाले लोग तथा समाजवादी पार्टी इन तीनो ने अल्पमत में आई अपनी जननी काँग्रेस पार्टी कि सरकार को बचा लिया और भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी को P.M बनने रोक दिया काँग्रेस-BJP के बस में नही था कि ये दोनो मिलकर भी BSP को रोकने मे सफल नही हो पा रहे थे इसलिए काँग्रेस ने 2009 का सम्पूर्ण लोकसभा चुनाव पहली बार अपने EVM देवता यंत्र से करवाकर BSP कि सरकार केंद्र में बनने से रोक दिया* 


*(7)--संविधान को तथा BSP को देश-प्रदेशो से खत्म करने के लिए काँग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट के 08/10/2013 के आदेश कि धज्जियाँ उड़ाकर 2014 में बिना VVPAT लगाए अपने काँग्रेसी EVM देवता यंत्र से समाप्त हो चुकी RSS और BJP कि केंद्र में बहुमत कि सरकार बनाकर खुद को 47 सीट पर सीमट कर बहुत ही चालाकी से विपक्ष कि जिम्मेदारी से भी षड्यंत्र के तहत अपने आपको काँग्रेस ने क्यों दूर रखा और BSP को 2014 मे भी सीट नही जीतने दिया तथा U.P में समाजवादी पार्टी कि बहुमत कि सरकार होने के बावजूद सिर्फ 5 सीटे पर रोक दिया वह भी सिर्फ परिवार कि ही 5 सीट जीतने दी थी बावजूद इसके समाजवादी पार्टी ने EVM के खिलाफ जंग छेड़ना तो छोड़ो एक शब्द भी क्यों नही बोला इसकी समीक्षा आखिर मुलायम सिंह जी ने क्यों नही किया क्या RSS ने ऐसा करने से मना किया था मुलायम सिंह जी इसका खुलासा करे जवाब देवे*


*(8)--इतना ही नही 2012 में पूर्ण बहुमत कि सरकार होने के बावजूद 2017 में समाजवादी पार्टी ने काँग्रेस से गठबंधन करके चुनाव लड़ा और सिर्फ 50 के लगभग सीटे मिली और खत्म हो चुकी BJP कि पूर्ण बहुमत वाली सरकार खुद काँग्रेस ने अपने काँग्रेसी EVM देवता से बनाई तब भी मुलायम सिंह साहब-अखिलेश यादव और काँग्रेस ने EVM देवता यंत्र के खिलाफ एक शब्द भी नही बोला परंतु 11-मार्च 2017 को BSP कि बहन मायावती जी ने इस काँग्रेसी EVM यंत्र के खिलाफ जंग लड़ने का ऐलान किया कि हर महीने कि 11-तारीख को EVM के खिलाफ देश भर में आन्दोलन होगा..इससे साफ होता है कि सिर्फ BSP को खत्म करने के लिए ही आपसी मिलीभगत से सब खेल चालू है तथा समाप्त हो चूँकि समाजवादी पार्टी को 2012 में काँग्रेस+BJP ने काँग्रेसी EVM देवता यंत्र से जितवाया था... जैसा डूब गयी BJP को सीधे-सीधे काँग्रेस ने 2014 मे विनाश कारी मोदी को P.M बनाया है इसलिये तो सत्ताधारी समाजवादी पार्टी बुरी तरह से चुनाव हारने के बाद भी EVM के खिलाफ इस जंग में बहन जी का साथ न अखिलेश यादव ने दिया और नाहिं काँग्रेस ने दिया और न ही किसी अन्य दलो ने दिया*


*(9)--2017 मे महीने कि हर 11-तारीख को ये भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी ने देश भर में काँग्रेसी EVM यंत्र को समाप्त करने का ऐलान किया था तब काँग्रेस+BJP डर गई थी कि BSP कहीं जनता दल (S) से गठबंधन करके कुमार स्वामी कि सरकार बनाने के बाद 2018 के विधानसभा के चुनाव में मध्य प्रदेश-राजस्थान-छत्तीसगढ़ में BSP अपनी सरकार न बनाने पावे इसलिए काँग्रेस+BJP ने अंदरूनी साँठ-गाँठ करके मध्य प्रदेश-राजस्थान-छत्तीसगढ़ में काँग्रेस कि सरकारें बनाई थी ठीक उसी तरह बंगाल मे भीमवादी-हसरत मोहानीवादी सरकार न बनने पावे व इस EVM यंत्र के ऊपर आँच न आने पावे काँग्रेस-BJP जान बूझकर ब्राम्हण नेता ममता बनर्जी को बंगाल देकर भीमराज पर ग्रहण लगाकर अपने इस काँग्रेसी EVM देवता यंत्र को फिर बचा लिया*


*(10)--कॉलेजियम-सिस्टम वाली अदालत व काँग्रेसी EVM देवता यंत्र-भ्रष्ट बिकाऊ गोदी मीडिया आदि के ''लाख-कोशिश'' के बावजूद BSP को खत्म करने में जब काँग्रेस-BJP असफल रही तो काँग्रेस-BJP अपनी गुलाम व सेवक पार्टी समाजवादी पार्टी को BSP का जनाधार खत्म करने के लिए मुलायम सिंह यादव और उनके परिवार पर लगे आय से अधिक संपत्ति के मामलों में क्लीन चिट देने कि डील करके U.P में BSP को अकेले लोकसभा कि 80 सीटे लड़ने से रोक रोकने के लिए BSP से गठबंधन करके गठबंधन में जो सीटे BSP को मिलेगी वहाँ समाजवादी पार्टी के लोग BSP को वोट नही करेंगे ऐसे षड्यंत्र के तहत BSP को खत्म करने को कहा था...काँग्रेस के इशारे से संविधान और मानवता और लोकतंत्र व आरक्षण को खत्म करने को उतावली तानाशाह हो चुकी BJP कि सरकार 2019 में केन्द्र में न बनने पावे उस BJP को रोकने के लिए BSP ने समाप्त-वादी पार्टी से MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो के हित के लिए तथा मजबूरी मे 25 साल बाद 2 जून 1993 के घिनौने जानलेवा घटना को भुलाकर देशहित-जनहित व शूद्र-हित मे गठबंधन किया था...जिसका सबूत ये है कि मुलायम सिंह यादव जी ने संसद में मोदी जी के प्रति अपनी इच्छा प्रकट कि के "मैं चाहता हूँ कि मोदी जी दुबारा P.M बने" कहकर BJP और समाजवादी पार्टी के अंदरूनी गठबंधन का खुलासा संसद में ही कर दिया*


*(11)--2019 के इसी गठबंधन के षड्यंत्र के तहत समाजवादी पार्टी का खास करके यादव भाईयों के वोट BSP को न मिले इसलिए महाराष्ट्र के शिवसेना-मनसे के ढोंगी आपसी विरोध/रंजिश कि भाँति मुलायम सिंह यादव ने भी लोगो को गुमराह करने के लिए BSP+सपा गठबंधन को जबरजस्त नुकसान होवे इसीलिये ''मुलायम-अखिलेश'' ने खुद ही आपसी मिलीभगत का खेल रचकर शिवपाल यादव साहब कि अगुवाई मे नयी पार्टी (प्रसपा) के रूप में बनवा दिया मुलायम-अखिलेश ने अपने ही समाजवादी पार्टी के दो फाड़ कर दिये ताकि BSP+सपा गठबंधन में सपा का वोट BSP को न मिलने पावे सारा हथकंडा RSS-BJP कि जननी काँग्रेस ने मुल्ला-मुलायम के कंधे पर कर दिखाया ठीक वैसा ही हुआ... यदि सपा इमानदारी से अपनी वोट BSP कि झोली मे डाल दिया होता तो 80 में से 75 सीटे BSP+SP को 101% आराम से मिल जाती SP+BSP 75 सीट जीत गयी होती और केंद्र में BJP जमीन-आसमान एक भी कर लेती फिर भी सरकार बनाने मे असफल हो गयी होती इसलिए बहन जी ने समाजवादी पार्टी के इस गद्दारी कि वजह से प्रेस कॉन्फ्रेंस लेकर समाजवादी पार्टी ने खासकर यादव भाईयों ने शिवपाल यादव के बहकावे में आकर BSP को वोट नही दिये ये सच बात का खुलासा करके और सच बात बोलकर समाजवादी पार्टी से फौरन गठबंधन तोड़ दिया*


*(12)--यदि शिवपाल यादव और अखिलेश यादव में मतभेद होता तो अखिलेश यादव को मुलायम सिंह यादव साहब ने 2012 में मुख्यमंत्री बनाया था तभी शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी छोड़कर खुद की नई पार्टी बना लिये होते तो माना जाता कि वाकई मे अखिलेश और शिवपाल मे मतभेद नही बल्कि सच्चाई है लेकिन शिवपाल यादव ने मुलायम सिंह यादव के आदेश से-RSS-काँग्रेस-BJP के इशारे से BSP से समाजवादी पार्टी का गठबंधन होने के बाद नयी पार्टी का बनाना यह स्पष्ट कर देता है कि गठबंधन के तहत BSP को मिली सीटों पर समाजवादी पार्टी के वोट BSP को नही मिल पाया BSP को खत्म करने का प्लान RSS-BJP कि जननी काँग्रेस पार्टी का सपना पूरा नही हो सका*


*(13)--षड्यंत्र और मजे कि बात ऐसी है कि मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़-राजस्थान में जहाँ 2019 लोकसभा चुनाव के 3 महीने पहले काँग्रेस ने लगभग पूर्ण बहुमतों की सरकारें बनाई परंतु 3 महीने के बाद जब लोकसभा का आम चुनाव हुआ तो काँग्रेस फिर अपने काँग्रेसी EVM देवता यंत्र को बचाने मे सफल हो गयी और मध्य प्रदेश में 29 में से केवल 1 सीट तथा छत्तीसगढ़ में 11 में से केवल 2 सीटे और राजस्थान में 25 में से 0 सीट लेकर विपक्ष कि जिम्मेदारी व भूमिका से दूर भागकर जटाधारी-फेकूचन्द-मोदी महराज को मनमानी करने के लिए खुली छूट दे दी और तो और U.P में BSP+SP के सपोर्ट व प्रियंका गाँधी/वाड्रा के प्रचार के बावजूद राहुल गाँधी अपनी परंपरागत सीट अमेठी से बचकानी स्मृति ईरानी से चुनाव हारने के बावजूद काँग्रेस अपने EVM के खिलाफ आंदोलन करना तो दूर एक शब्द भी क्यों नही कहा तथा 2019 में BSP से गठबंधन के बावजूद समाजवादी पार्टी को केवल 5 सीटे मिलने के बावजूद भी अखिलेश यादव EVM के खिलाफ आवाज क्यों नही उठाया तर्क करो.....कि क्या सही है क्या गलत है काँग्रेस ही BJP को EVM से जितवाना चाहती है इसलिए काँग्रेस+समाजवादी पार्टी आदि कोई भी पार्टियाँ इस EVM-EVM-EVM के खिलाफ जंग का ऐलान नही करती है बस सिर्फ BSP+BHP यानि बहुजन हसरत पार्टी को छोड़कर कोई भी पार्टी EVM के खिलाफ नही बोलती है*


*(14)--बाबा-साहेब के आदेश अनुसार OBC के उत्थान के लिए SC ST भाईयों कि भाँति OBC भाईयों को भी लोकसभा-राज्यसभा-विधान सभा तथा विधान परिषद आदि में राजनैतिक आरक्षण देने के लिए तथा संविधान के आर्टिकल 340 कि रक्षा करने के लिए MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को हुक्मरान समाज बनाने के लिए जो संविधान मे व्यवस्था दी है उसे रामवादी-मनुवादी सरकार कभी अमल मे नही ला सकती है इसलिए भीमवादी-हसरत सरकार बनाना होगा*


*(15)--MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को बहुजन नाम से लामबंद करके बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक मान्यवर काँशीराम साहब ने मंडल आयोग लागू-करो वरना कुर्सी खाली करो का आंदोलन देश में भर चलाकर केंद्र से काँग्रेस रूपी मनुवादियों कि सरकार को उखाड़ फेंककर देश मे केंद्र तथा प्रदेशो में लंगड़ी सरकारों का दौर चालू कर दिया परन्तु-लेकिन EVM-कोलजियम के रहते हुए सिर्फ चंद पार्टी ही उभर रही है नये-नये छोटे दलो का उदय यह काँग्रेसी EVM देवता यंत्र व कोलजियम-सिस्टम वाली कभी होने नही देगा*


*(16)--MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति जिन्हे कामगार-श्रमिक-मजदूर व बहुजन कहते है उनको लामबंद करके ये मान्यवर काँशीराम साहब BSP कि सरकार न बनाने पावे इसलिए काँग्रेस कि हीरोइन इंदिरा गाँधी ने 1982 में ने EVM का अविष्कार किया तथा VHP विश्व हिंदू परिषद कि हिन्दू एकता यात्रा को हरी झंडी देकर 1984 में खलिस्तान कि आड़ में "आपरेशन ब्लू स्टार" के नाम से सिख भाईयों के पवित्र स्थल स्वर्ण मंदिर में सेना घुसाकर हजारो सिख भाईयों का कत्ले आम करवा कर हिन्दू×सिख धार्मिक नफ़रत बढ़ाई*


*(17)--हिन्दू×सिख धार्मिक नफ़रत कि भाँति हिन्दू×मुस्लिम धार्मिक नफ़रत देश मे फैलाने के लिए काँग्रेस के ही राजीव गाँधी ने बाबरी मस्जिद का ताला खुलवाकर आगे शिलान्यास करवाकर काँग्रेस कि ही सरकारों में 1986 में मेरठ U.P औऱ 1989 में भागलपुर दंगे मे मुस्लिमों के कत्लेआम करवाये जो कि 2002 के गोधरा हत्याकांड से 100 गुना ज्यादा भयानक था इस तरह BSP कि सत्ता केंद्र में न बने इसके लिए काँग्रेस ने अपनी खुद कि पैदा कि हुई B टीम BJP को सत्ता मे लाने के लिए घटिया राजनीति को धार्मिक नफरत के रंग में रंग दिया और रामवादी-मनुवादी सरकार BJP के रूप मे खुद काँग्रेस ने पर्दे के पीछे से अपने EVM देवता यंत्र के बल पर बहुमत से ज्यादा सीट जीतवाकर मोदी और BJP को दे दिया* 


*(18)--मान्यवर काँशीराम साहब ने मंडल आयोग आंदोलन से 1989 में देश मे से काँग्रेस कि सत्ता उखाड़-कर केंद्र में भीमवादी क्षत्रिय माननीय स्व० वी.पी. सिंह साहब कि लंगड़ी सरकार बनाई और पूर्व प्रधानमंत्री स्व० वी.पी. सिंह साहब ने मान्यवर काँशीराम साहब के अनुरोध पर मंडल आयोग लागू किया था जिसका विरोध संसद में काँग्रेस तथा राजीव गाँधी ने ऐसा किया जिसे भूल पाना इतिहास का खून करने से बड़ा है और BJP ने काँग्रेस के इशारे पर V.P सिंह कि सरकार से समर्थन वापस ले लिया*


*(19)--U.P में 4 बार सरकार बनाकर U.P के अलावाँ उत्तराखंड-पंजाब-जम्मू-कश्मीर-दिल्ली-बिहार-झारखंड-हिमाचल प्रदेश-राजस्थान-मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़-कर्नाटक-आंध्र-प्रदेश-तेलंगाना आदि राज्यों में M.P/ M.L.A बनाने वाली BSP को महाराष्ट्र मे कुल 288 सीटों में से लगभग 100 विधानसभा कि सीटों पर प्रभाव रखने वाले उत्तर भारतीय लोगो कि जहाँ आबादी है उसी महाराष्ट्र में BSP को 2004 में 5% के लगभग वोट मिले थे महाराष्ट्र में भी BSP को राज्य स्तरीय पार्टी का दर्जा मिला और महाराष्ट्र में भी BSP तीसरा शक्ति/विकल्प बनी थी जिससे काँग्रेस+(NCP) और BJP+(शिवसेना) डर गई थी क्योंकि सम्पूर्ण भारत के साथ-साथ महाराष्ट्र में BSP भी मजबूत होकर तीसरी शक्ति बन चुकी थी*


*(20)--महाराष्ट्र के चमारों (चांभार) के बल पर शिवसेना टिकी हुई है और मान्यवर काँशीराम साहब ने कहा था कि महाराष्ट्र के चमारों कि चिंता मत करो मेरे चुटकी बजाते ही ये सभी BSP में आ जायेंगे शिवसेना खत्म होने का डर शिवसेना के प्रमुख बाला साहब ठाकरे को भली-भाँति हो गया था इसका सबूत ये है कि जब माधुरी दीक्षित कि आजा नचले फ़िल्म में के एक गाने में मोची चला सुनार बनने ऐसा कोई चमार भाईयों का अपमान करने वाला गाना था तो बहन जी ने इस फ़िल्म को U.P में लगाने पे रोक लगा दी तो जो बालासाहब ठाकरे दिखावे के लिए जाति कि नही धर्म कि राजनीति करते थे उन्होंने भी इस फ़िल्म को महाराष्ट्र में प्रदर्शित करने का विरोध किया था जिससे महाराष्ट्रा में शिवसेना खत्म होने का डर बाला साहब ठाकरे जी को सताने लगा था---इसीलिऐ काँग्रेस-BJP कि अंदरूनी सोंच अगर शिवसेना खत्म हो जायेगी तो शिवसेना के नाम का जो डर दिखाकर हम काँग्रेस-BJP वाले मजे से उत्तर भारतीयों और मुस्लिम समाज कि वोट लेकर आज तक सरकार बनाकर मौज कर रहे है इसका राज भी खुल सकता है तथा इसका फायदा फौरन BSP को मिल जायेगा इसीलिए उत्तर भारतीय और मुस्लिम वोट BSP के साथ न जाने पावे इसीलिये काँग्रेस-BJP ने धर्म-आस्था-मजहब के नाम पर लोगो को लड़ाकर BSP के हाँथो से खुद सत्ता छीनकर मनमानी कर रहे है*


*(21)--इसलिए इन महा-राष्ट्रीयन चमार को तथा उत्तर भारतीय लोगो को तथा मुस्लिम समाज को BSP में जाने से रोकने के पुनःह भाषावाद का जहर महाराष्ट्र कि राजनीति में घोलने के लिए तथा उत्तर भारतीयों को भयभीत करने के लिए बाला साहब ठाकरे के अनुमति से ही काँग्रेस-BJP ने राज ठाकरे कि महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना बनाई थी जिससे शिवसेना-काँग्रेस-BJP से नाराज चल रहे महत्वकांक्षी और दबाये गये लोग अपना रूख और प्रवेश BSP न करने पावे तथा महाराष्ट्र मे BSP न फैलने पावे इसीलिये ''मनसे'' जैसी क्षेत्रीय पार्टी बनाकर काँग्रेस-BJP-NCP-शिवसेना ने राजठाकरे साहब को तोहफा दे दिया ठीक उसी तर्ज पर मुलायम-अखिलेश ने षड्यंत्र करके शिवपाल यादव को नयी पार्टी का मुखिया बना दिया है* 


*(22)--बाला साहब ठाकरे द्वारा राज ठाकरे कि ''मनसे'' बनाने कि दूसरी सबसे बड़ी वजह ये है कि यदि शिवसेना पार्टी में से कोई लोग पार्टी कि नीति या पद-प्रतिष्ठा न मिलने से व टिकट काटने से नाराज होते है तो वह लोग BSP मे न जाकर BSP महाराष्ट्र मे तीसरी शक्ति न बनने पावे इसीलिये नाराज लोग राज ठाकरे के पास चले जाएं ताकि घर का माल घर मे ही रह जावे यानि शिवसेना के वोट राज ठाकरे के रूप में शिवसेना के पास ही रहे यही हाल U.P मे मुलायम-अखिलेश अब शिवपाल यादव के कंधे पर खेल रहे है*


*(23) तर्क करो कि बिहार में जिस काँग्रेस को कोई कुत्ता नही पूंछता है वह RJD के साथ गठबंधन करके काँग्रेस ने लोकसभा कि 1-सीट जीती परंतु बिहार कि सबसे ताकतवर पार्टी RJD भी 2014 मे U.P मे BSP कि भाँति मात्र 1-भी सीट नही जीत पाई क्या इसीलिए अब लालू प्रसाद यादव साहब ने भी सपा-प्रसपा-शिवसेना-मनसे कि भाँति लोगो को गुमराह करने के लिए या किसी के या RSS इशारे से तेजस्वी यादव-तेजप्रताप यादव कि नूरा-कुश्ती वाला (ढोंगी विरोध वाला) खेल खेलकर जनता को उल्लू बनाओ अभियान के तहत या अन्य किसी के दबाव में मजबूर तो नही है...तर्क करो बुरा लगे तो क्षमा करें*


*(24)--देश मे से BSP को खत्म करने के लिए पहले U.P में BSP कि सरकार बनने से रोकना रामवादी-मनुवादी काँग्रेस को जरूरी हो गया था इसलिए 2012 के विधानसभा चुनाव में भ्रष्ट-दागी-निकम्मे 120 सीटिंग विधायको के टिकट काटने बावजूद तथा 7% GDP लाने तथा प्रदेश को विकास कि ऊंचाई पर लाने के बावजूद BSP कि 300 सीटे जीतनी चाहीये थी उसकी बजाय काँग्रेसी EVM देवता यंत्र ने BSP को हराकर समाप्त हो चुकी समाजवादी पार्टी कि पूर्ण बहुमत कि सरकार बनाई जैसे 2008 में दिल्ली विधानसभा में BSP कि सरकार न बनने पावे BSP को रोकने के लिए काँग्रेसी EVM देवता ने बिना बूथ संगठन वाली अपनी C टीम नई-नवेली आरक्षण विरोधी केजरीवाल कि AAP(आप) कि सरकार बनाई थी नोटबंदी और EVM और कोलजियम-सिस्टम वाली अदालत सिर्फ BSP को तबाह-बर्बाद करने के लिए पैदा किये गये है*


*नोट:--इस परिपेक्ष में सपा-प्रसपा-शिवसेना-मनसे-तेजस्वी यादव-तेजप्रताप यादव कि नूरा-कुश्ती वाला खेल व जनता को उल्लू बनाओ अभियान केंद्र में पंडित पुजारी कि काँग्रेस-BJP के अलावाँ किसी तीसरी पार्टी कि सरकार न बनने पावे उसे रोकने के लिए पंडित पुजारी कि पार्टी काँग्रेस-BJP कि सरकार हर समय केंद्र में बनती रहे उसके लिए सारा खेल खेला जा रहा है परन्तु न जाने काँग्रेस-BJP कि चाल अन्य बड़े दल के अम्बेडकर-वादी छुट भैये अवसरवादी नेताओ के समझ मे क्यों नही आ रही है या अन्य बड़े दल के नेता समझकर भी कुछ समझना नही चाहते है BSP कि मुखिया भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी तो काँग्रेस-BJP कि घटिया चाल से बखूबी वाकिफ है परन्तु अकेली होने के बाद भी काँग्रेस-BJP का अंत करने मे सक्षम मे परन्तु EVM-कोलजियम उन्हे भी धूल चटाने मे सफल होते चले जा रहा है आओ इसका सच जानते है*


*मुख्य नोट:--मेरे देशवासियो/MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले हिन्दू-मुस्लिम दोनो समुदायो मे पाये जाने वाले लोगो बहुजन हसरत पार्टी BHP देशहित-जनहित मे भीमवादी-हसरत मोहानीवादी बनकर हाँथ जोड़कर आप सभी से बिनती करती है कि अगर यह लेख को लिखने मे कहीं गलती हो गयी ही या लगे तो मुझे माफ़ कीजिए क्षमा कीजिए परंतु-लेकिन यदि यह लेख सही लगे तो देश के कोने कोने में भीमवादी सरकार व समाज बनाने मे खुशी-खुशी बे-खौफ बहुजन हसरत पार्टी BHP का तन-मन-धन से मदद और सहयोग करो और इसे पूरे देश मे शेयर करे*


*👉...शूद्रो अब अपनी अक्ल लगाओ*

*👉...संगठित होकर एक हो जाओ*

*👉...दलित मुस्लिम OBC होश मे आओ*  

*👉...अब अपनी सत्ता खुद बनाओ*

*👉...पंडित पुजारी का आतंक मिटाओ*

*👉...भीमवादी दलित को P.M बनाओ*

*👉...OBC जनगणना भीमवादी दलित P.M से कराओ*

*👉...भीमवादी दलित P.M के द्वारा मुस्लिम भाई फिर वापस नवाब बन जाओ*

*👉...कलाकार जाति पेशेवर जाति हिन्दू=मुस्लिम दोनों समुदाय में पायी जाती है*

*👉...ये कलाकार जाति पेशेवर जाति 96% OBC कहलाती है*

*👉...मुस्लिम भाई "कुराने हाफिज" के साथ-साथ संविधान का भी हाफिज बनो*

*👉...वफादार मुसलमान भाईयों हिकमत के तौर पर "बुद्ध" को अपना राजनैतिक गुरु मानो*

*👉...नवाब बनने के लिऐ नवाबी मुद्दे पर भीमवादी दलित को P.M बनाना होगा*

*👉...मुस्लिम भाईयों वापस नवाब बनो उसके लिए नवाबी छीनना होगा*

*--------------------------------------------*

*✅🌹...नवाब का मतलब आज का M.P M.L.A C.M व डिप्टी P.M होता है*

*--------------------------------------------*

*जय भीम  जय हसरत मोहानी*

*बहुजन हसरत पार्टी जिन्दाबाद*

*कलाकार जातियाँ जिन्दाबाद*

*पेशेवर जातियाँ जिन्दाबाद*


*लेखक:--मुहम्मद मैराज शेख*

*संस्थापक-राष्ट्रीय अध्यक्ष*

*बहुजन हसरत पार्टी-BHP*

*9819316944 - 24-12-2021*



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया