मानवाधिकार समूहों और अमेरिकी सरकार ने बांग्लादेश के एक शरणार्थी शिविर में एक प्रमुख रोहिंग्या नेता मोहिबुल्ला की गोली मारकर हत्या करने की पूरी जांच की मांग की

 मानवाधिकार समूहों और अमेरिकी सरकार ने बांग्लादेश के एक शरणार्थी शिविर में एक प्रमुख रोहिंग्या नेता की गोली मारकर हत्या करने की पूरी जांच की मांग की है। कॉक्स बाजार में सशस्त्र पुलिस बटालियन के कमांडर नैमुल हक ने कहा कि मोहिबुल्लाह को कॉक्स बाजार जिले के उखिया में कुटुपलोंग शरणार्थी शिविर में बुधवार देर रात अज्ञात हमलावरों ने गोली मार दी।अभी तक हत्या की किसी भी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है और यह स्पष्ट नहीं है कि हमले के पीछे कौन था। विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका हत्या से दुखी है और रोहिंग्या अधिकारों के लिए एक बहादुर एवं निर्भीक हिमायती के रूप में मोहिबुल्लाह की प्रशंसा करता है।रोहिंग्या की वकालत जारी

ब्लिंकन ने एक बयान में कहा, 'हम इस जघन्य अपराध के अपराधियों को जवाबदेह ठहराने के लक्ष्य के साथ उनकी मौत की पूर्ण और पारदर्शी जांच का आग्रह करते हैं। हम रोहिंग्या की वकालत करना जारी रखते हुए उनके काम का सम्मान करेंगे और उनके भविष्य के बारे में निर्णय लेने में समुदाय के सदस्यों की आवाज उठाएंगे।'मोहिबुल्लाह ने अंतरराष्ट्रीय बैठकों में मुस्लिम जातीय समूह का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रवक्ता के रूप में कार्य किया था। उन्होंने 2019 में तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ धार्मिक स्वतंत्रता पर एक बैठक के लिए व्हाइट हाउस का दौरा किया और म्यांमा में रोहिंग्याओं की पीड़ा और उत्पीड़न के बारे में बात की थी।
अमेरिका ने बंगलादेश में रह रहे लगभग दस लाख रोहिंग्या शरणार्थियों के नेता मोहिबुल्ला की हत्या की पूर्ण और पारदर्शी जांच का आग्रह किया है। माेहिबुल्ला की देश के सबसे बड़े शरणार्थी शिविर में बुधवार देर रात गोली मारकर हत्या कर दी गयी।


अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने गुरुवार को एक बयान में कहा, “हम 29 सितंबर को बंगलादेश में रोहिंग्या मुसलमानों के हितों के रक्षक एवं समुदाय के नेता मोहिबुल्ला की हत्या से बहुत दुखी और परेशान हैं। हम इस जघन्य अपराध के दोषियों को जवाबदेह ठहराये जाने के साथ उनकी मौत की पूर्ण और पारदर्शी जांच का आग्रह करते हैं। हम रोहिंग्या के हितों की रक्षा करना जारी रख कर और उनके भविष्य के बारे में निर्णयों में समुदाय के सदस्यों की आवाज उठाकर उनके काम का सम्मान करेंगे।”

हाल के वर्षों में कई बार जान से मारने की धमकी मिलने के बाद अराकान रोहिंग्या सोसाइटी फॉर पीस एंड ह्यूमन राइट्स के अध्यक्ष मोहिबुल्ला पर बुधवार को अज्ञात बंदूकधारियों ने हमला कर दिया, जिसमें उनकी मौत हो गयी।
श्री ब्लिंकन ने कहा कि मोहिबुल्ला दुनिया भर में रोहिंग्या मुसलमानों के मानवाधिकारों के एक बहादुर और उग्र पक्षधर थे। 
विदेश मंत्री ने कहा, “उन्होंने ‘मिनिस्टीरियल टू एडवांस रीलिजस फ्रीडम’ को संबोधित करने के लिए 2019 में जिनेवा में मानवाधिकार परिषद और अमेरिका की यात्रा की थी। अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के साथ अपने अनुभव साझा किये थे और धर्म से प्रेरित उत्पीड़न से बचकर निकले लोगों के साथ बात की।”मानवाधिकार संगठन ‘ह्यूमन राइट्स वॉच’ ने कहा कि मोहिबुल्ला ने म्यांमार सेना द्वारा अल्पसंख्यक मुस्लिम आबादी के खिलाफ किये गये कथित अपराधों का दस्तावेजीकरण किया था, जिनमें से कई 2017 में सुरक्षा बलों की कार्रवाई की शुरुआत के बाद से पड़ोसी देश बंगलादेश भाग गये। संगठन ने बंगलादेश से मोहिबुल्ला की हत्या की मुस्तैदी से जांच करने का आग्रह किया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया