सारे पंख नोच लेंगे तेरी उड़ान के

 


सारे पंख नोच लेंगे तेरी उड़ान के



सारे पंख नोच लेंगे तेरी उड़ान के,

जब तीर निकलेंगे मेरी कमान के।


ज़ख्म भर देंगे तेरी रुह के अन्दर,

सारे लफ़्ज़ ऐसे हैं तेरी ज़ुबान के। 


तेरा तेवर भी तेरे काम ना आएगा,

तू भीख मांगेगा अपनी अमान के।


मुझे अपने अल्लाह पर भरोसा है,

परखच्चे उड़ जाएंगे तेरे गुमान के।


आंधियां सब नेस्तनाबूद कर देंगी,

दरबान कैसे भी रखले मकान के।


बदनामियां नहीं बिकेंगी बस्ती में,

दरवाजे बंद कर अपनी दुकान के।


उसे खेती करनी है शहर में अगर,

वो कुछ तो दे बदले में लगान के।


जो दोस्त बदल दे कपड़े की तरह,

वो भी तो चर्चे करता हैं ईमान के।


ग़ज़ल से अलग भी और काम हैं,

किस्से सुने होंगे 'ज़फ़र' महान के।


ज़फ़रुद्दीन ज़फ़र

एफ -413,

कड़कड़डूमा कोर्ट,

दिल्ली-53

zzafar08@gmail.com

Mob. 9811720212

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत