सपा बसपा कांग्रेस या अन्य पार्टी को वोट करने से बेहतर होगा सीधे बी जे पी को देना-गादरे*

मेरठ:- ए आई एम आई एम, सपा बसपा कॉन्ग्रेस या अन्य को वोट करने से बेहतर होगा सीधे बीजेपी को वोट करना क्यों इधर-उधर वाया जाते हो सीधे जाइए तो बेहतर होगा आसानी होगी।

बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष आर डी गादरे ने जन जागृति परिवर्तन आंदोलन के तहत लोगों को जानकारी देते हुए कहा कि आज दोस्त और दुश्मन की पहचान करना मूलनिवासी समाज जान गया है लेकिन कुछ लोग हिंदू मुस्लिम की रट लगाए हुए हैं। और कुछ लोग मूलनिवासी होते हुए षड्यंत्रकारिर्यों के चंगुल में फंसे हुए हैं। षड्यंत्रकारियो को अपनी पार्टी में जगह दिए हुए हैं।


उससे बेहतर तो होगा कि सीधे-सीधे बीजेपी को वोट करें। देश के दुश्मनों को आसानी कर रहे है जो देश को बेचने में बर्बाद करने में किसानों को मजदूरों को भी नहीं देख रहे है। चारों ओर भारत में हाहाकार मचा हुआ है बेरोजगारी महामारी बदमाशी गुन्डागर्दी लूटमारी भ्रष्टाचारी चर्म सीमा पर है। 

ए आई एम आई एम सपा बसपा भाजपा कांग्रेस बीजेपी सब एक ही थाली के चट्टे बट्टे हैं सभी में तीन परसेंट ब्राह्मणवाद मनुवादी होते हुए सभी में कभी का बीज हैं एकमात्र बीएमपी में कोई जगह नहींकुछ षड्यंत्रकारी मूल निवासियों को भूखा नंगा देखना पसंद करते हैं? ऐसे षडयंत्रकारियो से जिन्होंने देश को बर्बाद करने की ठानी है और वह बर्बाद कर रहे हैं। अपनी मलाई मारने के चक्कर में समाज का कौम का किसी को कोई फिक्र नहीं है।  उनसे बेहतर होगा कि सीधे-सीधे आम जनता वाया वोट ना देकर डायरेक्ट बीजेपी को वोट करें। ई वी एम हटाओ लोकतंत्र भारत बचाओ। आज हमारे देश में तीन परसेंट षड्यंत्रकारी विदेशी होते हुए 80-82% कब्जा किए हुए हैं। लोगों को मंदबुद्धि बेरोजगार गुलाम बनाने के लिए षड्यंत्र रच रहे है? ऐसे लोगों का साथ देने वाले भी उसी कैटेगरी में आते हैं? मूल निवासियों को कुछ राजनीतिक दल हिंदू मुस्लिम में बांटने पर लगे हुए हैं? जबकि कोई हिंदू जाति धर्म नहीं है? लेकिन मूल निवासियों को आपस में खून के भाई होते हुए बांट रही है।  लगातार षड्यंत्र रच रहे हैं। एससी एसटी ओबीसी माइनॉरिटी मुस्लिम सिख जैन ईसाई लिंगायत बौद्ध आदि नो धर्म समानता और मसावाद के होते हुए डीएनए के भाई हैं। करीब 35 किताबों में सबूत हैं कि करीब 15% लोग विदेशी हैं। और 85 परसेंट मूल निवासियों को बेवकूफ बनाकर शासन और सत्ता में काबिज हैं। लेकिन हमारे कुछ लोगों को धार्मिक लॉलीपॉप देते हुए उन को बेवकूफ बनाकर अपनी मलाई मारने के चक्कर में लगे हुए हैं। तो मैं कहता हूं ऐसे लोगों से बचें। और बहुजन मुक्ति पार्टी जो मूल निवासियों की एकमात्र राजनीतिक पार्टी है। जिसमें षड्यंत्रकारी देशद्रोहियों की कोई जरूरत जगह नहीं है और अपने पराए का दोस्त और दुश्मन का पहचान कर लोकतंत्र को बचाने के लिए डॉक्टर भीमराव अंबेडकर साहब की विचारों को पूर्ण करने के लिए प्रेरित है और लगातार प्रयासरत है। जय भीम जय मूलनिवासी आदाब इन अभिवादन शब्दों को हमेशा याद रखें। और अपने मूल निवासियों का तन मन धन से सहयोग करें। अन्यथा जो राजनीतिक दल षडयंत्रकारियों  का अपने दल में शामिल कर राजनीति कर रहे हैं तो उनमें और षड्यंत्र कार्यों में या देशद्रोहियों में देश बेचने वालों में कोई फर्क नहीं? भारत देश को बचाना है मूल निवासियों को इस देश को बचाने के लिए सत्ता में लाना होगा। अन्यथा फिर बाद में पछतावे से कुछ नहीं होगा इस्लाम मजहब में कहा गया है कि वह मजलूम और मजदूर परेशान हाल का सहयोग करें और जो गलत कर रहे हैं उनसे उनको बचाया जाए तब इस्लाम मजहब की कार्यवाही पूरी होती है इस्लाम मजहब जातियों में नहीं बटा है। बौध सिख ईसाई लींगायत ईस्लाम आदि जो इन्सानियत मानवता समता बंधुता न्याय पर बने है ऐसे ही बाबा डा भीमराव अम्बेडकर साहब के संविधान है जो संसार मे भारत देश की शान बनाए हुए है। साथ देने वालों में संदीप कुमार चौधरी इरफान अरशद मंसूरी आर डी गादरे ओमवीर सिंह मुनेंद्र पाल आजम मलिक गुलशेर चौधरी संजीव मेहराज मोइनुद्दीन आशीष सुरेश आवेश अहमद नमुद्दीन इरशाद अंसारी गुलजार करण सैनिक सुनील सैनी अजय भड़ाना मनोज गुर्जर खुर्शीद आलम अमजद अंसारी लोकमान सैफी अजहर मंसूरी आदि मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना