कोरोना व आर्टिकल 341-व मुसलमानो मे बगावत*

 *कोरोना व आर्टिकल 341-व मुसलमानो मे बगावत* 






 

 


 

*नोट:--आज देश का सभी लगभग 25 करोड़ वफादार मुसलमान भाई यदि सिर पर टोपी व चेहरे पर दाढ़ी रखकर एक साथ भीड़ लगाकर दारू लेने के लिए चाहे जितना भी भीड़ इकट्ठा करके दारू लेवे उसे रोकने के लिए कोई नही आयेगा परन्तु-मगर-लेकिन:---यही 25 करोड़ वफादार मुसलमान भाईयो मे सिर्फ 500 वतन परस्त मुस्लिम कौम टोपी लगाये दाढ़ी रखकर मस्जिद के इर्द-गिर्द भीड़ लगाकर इकट्ठा हो जावे तो तो तो कोरोना-नालायक जैसी बिमारी फौरन पैदा हो जाती है ---ऐसा मंजर देखकर बहुजन हसरत पार्टी BHP को बहुत ताज्जुब हो रहा है काश आज भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी देश कि प्रधानमंत्री होती तो----* 

*1--क्या 10 अगस्त मुसलमान भाई व ईसाई भाई के लिए काला दिन होना चाहिए कि नही होना चाहिए*


*2--क्या 10 अगस्त को वफादार मुस्लिम कौम व ईसाई कौम के लोगो को पंडित नेहरू का पुलता जलाना चाहिए कि नही जलाना चाहिए*


*3--मुस्लिम आरक्षण:--वफादार देशभक्त वतन परस्त मुस्लिम भाईयो को कटुवा-कटमुल्ला-आतंकवादी-गद्दार-घुसपैठ आदि नामो से पुकारने वाले RSS-BJP आदि कि जननी काँग्रेस पार्टी ये बतावे कि देश आजाद होने के पहले सन् 1935 के इर्द-गिर्द मे जो 35% वफादार मुस्लिम समाज को आरक्षण मिला था उस आरक्षण को कौन खा लिया* 


*4--मुस्लिम आरक्षण पर चिल्लाने वालों ज़रा एक नज़र इधर भी डालो और भीमवादी-हसरत मोहानीवादी बनकर बहुजन हसरत पार्टी BHP को देशहित-जनहित मे समझाओ कि आजादी के बाद मुसलमान और ईसाई को व 3743 OBC कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को भारत देश मे SC ST भाईयों कि तरह राजनैतिक-आरक्षण कब मिलेगा या नहीं मिलेगा इसकी कुंडली राजनैतिक पंडित पुजारी तो बतावे ??*


*नोट:--इस बात का फैसला मुसलमानों के इकट्ठा वोट लेकर सत्ता में आने वाली इस काँग्रेस पार्टी कि सरकार ने 10 अगस्त 1950 को ही मुस्लिम-कौम कि बर्बादी का मंजर तैयार करके योजनाबद्ध तरीके से तय करके रख दिया था कि वफादार मुसलमान भाईयों के ऊपर भविष्य मे कितना जुल्म होना चाहिए:--ठीक आज वफादार मुसलमान भाईयों के साथ कोरोना-साले कि आड़ मे ऐसा जुल्म हो भी रहा है आज वफादार देशभक्त वतन परस्त मुस्लिम कौम को जिल्लत-भरी जिंदगी गुजारने पर मजबूर किया जा रहा है और वतन परस्त होकर भी इन्हे कटुवा-कटमुल्ला-आतंकवादी-गद्दार-घुसपैठ बोला जाय यह षड्यंत्र के तहत हो रहा है जिससे "दलित-मुस्लिम-पिछड़े" वर्गो के ज्ञानी बलवान साहसी लोग आपस मे लड़कर-कटकर मर जावे क्या इसी काँग्रेस के इशारे पर सूदखोर-ब्याजखोर जिन्ना व गद्दार वहाबी मौलाना अबुल कलाम आजाद ने वफादार मुस्लिम-कौम को बर्बाद कर दिया है कि यह बहुजन हसरत पार्टी BHP ने वफादार मुस्लिम-कौम को तीन-तीन देशो मे बाँटकर टुकड़ो मे बिखेरकर रख दिया है इसका फैसला कौन करेगा मगर इस नीच घटिया पार्टी बहुजन हसरत पार्टी BHP का उदय तो तो तो BSP के जन्मदाता मान्यवर काँशीराम साहब के जन्मदिन 15/3/2017 को हुआ है जब कि देश का बँटवारा तो 1947-(पाकिस्तान) और 1971 (बंग्लादेश) के नाम पर यही काँग्रेस पार्टी ने किया है जिस काँग्रेस पार्टी को दलित-मुस्लिम दोनो पसंद करके सत्ताधारी बनाये थे.*

*5--10 अगस्त 1950 को काँग्रेसी प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने उस समय के तत्कालीन काँग्रेस पार्टी के बड़े पंडित पुजारी लीडर रहे राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद से यह अध्यादेश जारी करवाया था कि SC /ST का आरक्षण केवल उन्हीं समाज को मिलेगा जो हिंदू धर्म मे आते है आखिर उस समय मुस्लिम कौम कि रहनुमाई करने वाले जिन्ना सहित अबुल कलाम आजाद आदि नेतागण ने 35% आरक्षण को खत्म कैसे होने दिया--खाली ये समस्त मुस्लिम कौम कि रहनुमाई करने वाले मुस्लिम समाज के नेता यदि बाबा-साहेब का साथ दिया होता तो आज वफादार मुस्लिम कौम का राजनैतिक रूतबा बिल्कुल अलग होता?? मगर 2021 या 2024 मे वही गलती फिर से मुस्लिम भाई न करे इसलिए भीमवादी-हसरत मोहानीवादी सरकार बनाकर "नवाबी-मुद्दे" पर भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी को 2024 मे जबरजस्ती P.M बनाकर धारा 341 पर से रोक हटवाये और आजादी से देश मे रहे*

*6--1935 से आर्टिकल 341 मे मुसलमानों को SC ST में मिल रहे आरक्षण में काँग्रेस पार्टी कि सरकार ने मुस्लिम दुश्मनी में असंवैधानिक यानि गैर-कानूनी तरीके से शर्मनाक छेड़छाड़ कि थी:--लेकिन अफसोस यह अब तक लागू है असंवैधानिक इसलिए क्योंकि सन 1935 से ही ग़रीब मुसलमानों की कुछ जातियों को SC ST में आरक्षण मिल रहा था लेकिन इस अध्यादेश के ज़रिए मुस्लिम समाज के गरीबों और वंचितों को SC ST में मिल रहे आरक्षण की सुविधा को ही जान बूझकर काँग्रेस पार्टी के प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने ख़त्म किया था जो कि Right to Equality और Freedom of Religion का Gross violation है दूसरा यह के यह गैर-कानूनी अध्यादेश अब तक लागू है पता रहे किसी भी अध्यादेश (Ordinance) को 6 महीने के भीतर सदन के दोनों सदनों में बिल के प्रारूप में पारित करवाना ज़रूरी होता है लेकिन यह मुसलमानों के आरक्षण के खिलाफ देश मे लाए गया पहला अध्यादेश है जो कभी संसद में बिल के प्रारूप में पारित ही नहीं किया गया फिर भी यह गैर-कानूनी अध्यादेश आज भी लागू है*

*7--इस अध्यादेश के लागू होने के वक्त मुसलमानों के सबसे बड़े लीडर कहलाने वाले गद्दार वहाबी अबुल कलाम आज़ाद केन्द्रीय शिक्षा मंत्री थे और "मदरसा दारुल उलूम देवबंद" की सियासी शाख "जमियत-ए-उलेमा-ए-हिंद" के अध्यक्ष हिफजुर्रहमान कासमी और रफी अहमद किदवई काँग्रेस के ही मेंबर ऑफ पार्लिमेंट (M.P साँसद) थे जो बुजदिलों और हिजड़ों कि तरह उस समय खामोश रहे इन मुनाफिक कौमी गद्दारों ने मुसलमानों के खिलाफ कि गयी ना-इंसाफी का विरोध तक नहीं किया और काँग्रेस का गुलाम बनकर मुसलमान भाईयो कि नवाबी खत्म करवा दिये और जिल्लत-भरी जिंदगी गुजारने पर मजबूर करवा दिये जो आज तक जारी है कब-तक और जारी रहेगा ये तो अल्लाह तआला और उनके महबूब सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ही जाने बाकी-----*

*8--हालांकि इस अध्यादेश कि वैधता को कई मर्तबा देश की सर्वोच्च न्यायालय मे चैलेंज किया गया मगर कोई सुनवायी नहीं हुई है सारी Petitions आज भी Pending है और ना जाने कब इन पर सुनवायी होंगी ?? या इन पर फैसला आयेगा ?? क्योंकि काँग्रेस पार्टी ही खुद चाहती थी की मुसलमानों को आरक्षण नहीं मिलना चाहिए जैसा आज तक OBC जाति कि जनगणना नही हो पा रही है और नाहिं 3743 OBC जाति यानि कलाकार जाति पेशेवर जाति को राजनैतिक आरक्षण मिल पा रहा है यह काँग्रेस पार्टी ही अपनी पैदा कि हुई B टीम BJP के हाँथो जिस तरह पर्दे के पीछे से बाबरी-मस्जिद का कत्ले-आम करवा दिया था ठीक उसी भाँति कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो के राजनैतिक आरक्षण का कत्ले-आम काँग्रेस के इशारे पर यह BJP कर रही है इसका उपाय सिर्फ भीमवादी दलित बब्बर शेर या भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी P.M के पास है बहन सब काम P.M बनकर  पल मे कर सकती है ये काँग्रेस-BJP दलित-मुस्लिम और पिछड़े वर्ग के लोगो का कितना सर्वनाश कर चुकी है जिसका अंदाजा दलित-मुस्लिम और पिछड़े वर्ग के लोगो को भली-भाँति पता है परन्तु दलित और पिछड़े 95% सुधर गये है मगर वफादार मुस्लिम कौम खाशकर जो शहरी मुसलमान भाई है वह आज भी उसी काँग्रेस के भरोसे बैठा हुआ है जो काँग्रेस उसे जीते जी जहन्नुम के रास्ते पर पहुँचा दी है और जिल्लत भरी जिन्दगी जीने पर मजबूर कर दी है*

*9--आज तक कोई भी मुस्लिम राजनीतिक पार्टी या धर्मनिरपेक्ष पार्टियों का मुस्लिम नेता इस ना-इंसाफी पर पार्लियामेंट में कभी चिल्लाया नहीं बैरिस्टर या वकील होने के नाते भी उसने सुप्रीम कोर्ट में जाकर इसे दुरुस्त भी नहीं करवा पाया  मानना पड़ेगा मंडल आयोग लागू न करने के लिए तथा मंडल आयोग के विरोध मे राजीव गाँधी ने वगैर पानी संसद मे 4 घंटे भाषण दिया था पंडित नेहरू का यह नवासा फिरोज खाँन (गाँधी) और इन्दिरा गाँधी का यह बेटा राजीव गाँधी ने OBC को आरक्षण न मिले यह परम्परा को आगे बढ़ाया परन्तु आज 2021 तक किसी भी पार्टी के M.P M.L.A ने धारा-341 पर खत्म करने के लिए पहल नही कि है आखिर धारा-341पर कब-तक Stay रहेगा वफादार मुसलमान भाईयो अर्थात कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो अपनी बंद आँखे खोलकर कुराने-हाफिज के साथ-साथ संविधान का भी हाफिज बनकर तथा "बुद्ध" को अपना राजनैतिक गुरु मानकर ""नवाबी-मुद्दे"" पर किसी भी भीमवादी दलित बब्बर शेर को या भीमवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी को 2024 मे जबरजस्ती प्रधानमंत्री बनाना होगा---और नवाबी छीनना होगा--जैसा आज काँग्रेस-BJP दोनो पार्टी EVM देवता यंत्र व कोलजियम-सिस्टम वाली अदालत के बल पर रामवादी-मनुवादी सरकार बनाकर बहुसंख्यक MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो के ऊपर मनचाहा राज कर रही है और Muslim Sc St Obc को धर्म-आस्था-मजहब के नाम पर आपस मे लड़ाकर अपनी सत्ता कि रोटी बनाने मे सफल हो रहे है*

*10--नवाबी का मतलब आज का M.P-M.L.A-C.M व डिप्टी P.M होता है* 


*11--अब मुसलमान भाईयों को भीमवादी-हसरत मोहानीवादी बनकर खुद फैसला करना चाहिए:--कि कि कि:---उसे काँग्रेस पार्टी या दलित-मुस्लिम एकता वाली पार्टियों को "वोट" देना चाहिए? या उनके नेताओं पर "थूकना" चाहिए या सीधे-सीधे वापस काँग्रेस-RSS-BJP को पसंद करना चाहिए इसका फैसला करो वरना बहुजन हसरत पार्टी BHP फिर कभी आप सभी कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को नही समझायेगी???*


*11--देवबंदियों और सेल्फियों-वहाबियो को लीडर मानना चाहिए? या उन पर थूकना चाहिए?? इसका फैसला करो:--क्योंकि जब कौम के रहनुमा खुद अनेको फिरकों मे बँटकर कौम को अपाहिज बनाकर रख दिये है तो फिर कौम कि रहनुमाई और कौम कि फिकर कौन करेगा*


*12---इस ओवैशी महराज प्रभु को देखिये यह बंदा अपने गृह-राज्य तेलंगाना-आंध्र प्रदेश में कुछ उखाड़ न पाया है यह ओवैशी आन्ध्रा प्रदेश और तेलंगाना राज्य में सिर्फ 8-10 सीटे लड़ता है यह ढोंगी औवैसी महाराज प्रभु जो बिहार और उत्तर प्रदेश आदि राज्यों में मुस्लिम भाईयों को तबाह और बर्बाद करने के लिए RSS-BJP के इशारे पर नंघा नाच दिखा रहा है यह ओवैशी महराज प्रभु ने बाबरी मस्जिद कि शहादत से ही यानि 1992 से ही काँग्रेस और उसकी पैदा कि हुई B टीम BJP के हाँथो बिककर मुस्लिम कौम को राजनीति के क्षेत्र मे अपाहिज और नपुंसक बना रहा है U.P-बिहार मे भारी सीटों पर चुनाव लड़ूगा ऐसा प्रचार-प्रसार करके काँग्रेस-BJP के रचे षड्यंत्र के तहत हिंदू x मुस्लिम मे नफरत का बीज बोकर ऐसी घटिया साजिश को अंजाम देने के लिए BJP के संग मिलकर आपस मे नूरा-कुश्ती का खेल खेलकर देश मे अशांति फैलाने मे महारत हासिल कर लिया है इतना ही नही गद्दार सूदखोर-ब्याजखोर जिन्ना कि भाँति यह ओवैशी महराज प्रभु हिंदू x मुस्लिम मे नफरत कि हवा देकर काँग्रेसी EVM देवता यंत्र के बल पर BJP कि सरकार बनाने मे हर समय कामयाब हो रहा है यह ओवैशी महराज प्रभु जैसे छुट भैये नेता लोग गजब का घटिया खेल खेल रहे है ताकि 1943 तथा 1967 कि भाँति फिर उत्तर प्रदेश (2022) और 2024 देश में भीमवादी सरकार और समाज न बनने पावे देश मे भीमवादी-हसरत मोहानीवादी वाली दलित शेरनी बहन मायावती जी को P.M बनने से रोका जाए ऐसा प्लान काँग्रेस BJP द्वारा ओवैशी महराज प्रभु को लेकर बनाया जा रहा है*

*13---1937 में पंजाब और बंगाल तथा सिंध प्रांत में जमींदार मुसलमानों कि नुमाईंदगी करने वाला गद्दार सूदखोर-ब्याजखोर जिन्ना कि मुस्लिम लीग सिर्फ 2-3 सीट पाकर कुछ उखाड़ नही पाई थी जहाँ पंजाब तथा बंगाल में मुस्लिम+दलित+पिछड़े वर्गो कि सरकार बनी थी तो इससे भयभीत होकर 2.50% वाले विदेशी पंडित पुजारी कि यानि काँग्रेस ने हिंदू महासभा से हाँथ मिलाकर दलित-मुस्लिम-पिछड़ों कि सरकार बनाने वाले इस पंजाब व बंगाल प्रान्तों को भारत से तोड़कर सिर्फ पंजाब और बंगाल में ही भारत विभाजन के समय वोटिंग करायी थी और तमाम मुस्लिम पार्टियाँ तथा मुस्लिम नेताओ के विरोध के बावजूद तथा बंगाल में 225 में से 121 दलित+मुस्लिम विधायको ने महान भारत देश के टुकड़े न हो और नया देश पाकिस्तान न बने इसलिए बँटवारे के विरोध मे वोट दिया था जब कि काँग्रेस-हिंदू महासभा ने महान भारत देश के टुकड़े करने के पक्ष में वोट दिया था वोट दिया था और उसी समय देशभक्त वफादार वतन परस्त मुस्लिम भाईयो को मिलने वाला 35% आरक्षण खत्म कर दिया गया था तब आजादी के बाद बाबासाहेब जी ने संविधान में हम शूद्रवंशी/भूमि-पुत्र मुस्लिम भाईयों को पुनःह नवाब बनाने के लिए आरक्षण दे रहे थे तब पंडित नेहरू के इशारे पर दूसरा गद्दार वहाबी अबुल कलाम आज़ाद ने हमे आरक्षण मिलने से वंचित रखा इस मौलाना आजाद कि हरामीपन्ती कि वजह से हम वफादार देशभक्त वतन परस्त मुसलमान भाईयों को आरक्षण नही दिया गया इन पंडित पुजारी ने हम शूद्रवंशी-भूमि-पुत्र मुस्लिम भाईयो के साथ-साथ 50% से भी ज्यादा आबादी वाले कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले OBC भाईयो को भी राजनैतिक आरक्षण न देकर हिंदू x मुस्लिम नफरत कि बूंटी पिलाकर गुलाम बना दिया जो आज तक जिल्लत कि जिंदगी जीने पर मजबूर है इन्ही बहुजन को ही कामगार-मजदूर-श्रमिक कहते है यही आज के कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोग है जो हिन्दू-मुस्लिम दोनो समुदायो मे पाये जाते है जो सब के सब 96% OBC कि श्रेणी मे आते है जिनका पूरा आधा देश है जो 50% के इर्द-गिर्द कि श्रेणी मे आते है*

*14---एक अंदरूनी अफवाह मुस्लिम भाईयो में ये डर के जरिए फैलाया गया है कि जिस तरह पंजाब और बंगाल में कुछ उखाड़ न पाने वाला गद्दार सूदखोर जिन्ना ने जैसे पंजाब और बंगाल को तोड़कर पंडित नेहरू और गाँधी के इशारे पाकिस्तान बना दिया था ठीक वैसा कहीं ये जिन्ना कि भाँति जिन्ना का राजनैतिक वंशज औवैसी महाराज प्रभु U.P-बिहार आदि में चुनाव लड़कर काँग्रेसी EVM देवता यंत्र के बल पर पुन:ह BJP कि सरकार बनाकर काँग्रेस के बनाये हुऐ NRC-CAA-NPR जैसे कानून को BJP के माध्यम से लागू करवाकर हम शूद्रवंशी भूमि-पुत्र वतन परस्त मुसलमान भाईयो कि नागरिकता छीनकर हमें दोयम दर्जे का नागरिक न बना देवे इसके साथ-साथ कहीं हमारे वोट का अधिकार खत्म करके हमारे सभी संवैधानिक अधिकार छीनकर हमें रोहिंग्या मुसलमानों कि तरह हमारे महान भारत देश से भागने का प्लान तो नही खेला जा रहा है पता नही क्या सच है और क्या झूठ है एक बात उजागर है कि जिन्ना और नीच अबुल कलाम आजाद ने तो हमारे 35% आरक्षण को खत्म किया था मगर ये जिन्ना और अबुल कलाम का राजनैतिक घटिया वंशज औवैसी महाराज प्रभु तो काँग्रेस-BJP के हाँथो बिककर कहीं हमारी नागरिकता ही छीनना चाह रहा है ऐसा बहुजन हसरत पार्टी BHP का देशहित-जनहित मे राजनैतिक आँकलन है यदि गलत लगे तो देशहित-जनहित मे माफ करिये यदि सही न लगे तो देशहित-जनहित मे तर्क करके देखिये सच्चाई अपने आप सभी के समझ मे आ जायेगी*

*नोट:--शूद्रवंशी मुसलमान भारत के भूमिपुत्र है हमसे हमारे ही देश की नागरिकता छीनकर गुलाम बनाने कि साजिश कहीं ओवैशी महराज प्रभु को आगे रखकर खेली तो नही जा रही है सबूत के तौर पर NRC-NPR-CAA का सिस्टम सरेआम है यदि ऐसा हुआ तो तो तो ये भारत के बँटवारे से भी ज्यादा खतरनाक होगा इसे रोकने के लिए दूसरे जिन्ना यानि औवैसी महाराज प्रभु को हम MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो को देशहित-जनहित मे भीमवादी-हसरत मोहानीवादी बनकर सबक सिखाना होगा तभी हमारी आने वाली नस्ले सुरक्षित रहेगी क्योंकि ये औवैसी महाराज प्रभु ही आज का जिन्ना व अबूल कलाम आजाद है इस काँग्रेस-BJP /औवैसी के मनसूबे पर सिर्फ भीमवादी-हसरत मोहानीवादी दलित बब्बर शेर या भीमवादी-हसरत मोहानीवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी ही P.M बनकर पानी फेर सकती है तथा आज देश मे जो अराजकता फैली है व कारोबार-आदि को कोरोना कि आड़ में तबाह-बर्बाद किया जा रहा है उस कोरोना का राज  उजागर करके महान सम्राट अशोक के महान भारत का पुनर्निर्माण भी कर सकती है मगर अफसोस इस काँग्रेसी EVM देवता ने BJP के मोदी को P.M बनाकर बहन मायावती जी को P.M बनाने से रोक दिया यदि बैलेट-पेपर से चुनाव हो गया होता तो RSS-BJP ही क्या RSS-BJP कि जननी काँग्रेस भी बहन मायावती जी को P.M बनने से रोक नही पाती*

*नोट:---क्या आज का EVM देवता यंत्र कि गड़बड़ी करने वाले चाभी का नाम ओवैशी महराज प्रभु तो नही है...क्या पाकिस्तान का दूसरा नाम ओवैशी महराज प्रभु तो नही है इस काँग्रेसी EVM देवता यंत्र को:--ओम प्रकाश राजभर भाभी अनुप्रिया पटेल नितीश कुमार जीतनराम मांझी संजय निषाद केशव प्रसाद मौर्या स्वामी प्रसाद मौर्या आजम खाँन आदि छूट भैये जैसे अवसरवादी नेता लोग काँग्रेसी EVM देवता को साहस व बल दे रहे है वरना काँग्रेस-BJP कि डूबती नइया काँग्रेसी EVM देवता यंत्र भी नही बचा सकता है काँग्रेस-BJP खुशनसीब है कि आज भी उनके पास समाज द्रोही अवसरवादी जिन्ना-अबुल कलाम आजाद जगजीवन राम आदि के भाँती औवैसी महाराज प्रभु जैसे नेता है इसलिए तो ये औवैसी महाराज प्रभु देश भर में घूमकर ढोंग के तौर पर षड्यंत्र के तहत BJP के खिलाफ बोलकर हिंदू x मुस्लिम मे नफरत का माहौल खड़ा करता है ताकि काँग्रेसी EVM देवता यंत्र के माध्यम से BSP आदि कि सरकार बनने से रोककर कांग्रेस+BJP कि सरकार केंद्र मे बनाता है इसलिए अब शूद्रवंशी/भूमि-पुत्र मुस्लिम भाईयो को भीमवादी-हसरत मोहानीवादी बनकर हिकमत के तौर पर "बुद्ध" को अपना राजनैतिक गुरु मानकर "कुराने हाफिज" के साथ-साथ संविधान का भी हाफिज बनकर जबरदस्ती भीमवादी बब्बर शेर या भीमवादी-हसरत मोहनिवादी दलित शेरनी बहन मायावती जी को देश का P.M बनाना होगा तभी हमारे सारे संवैधानिक हक-अधिकार कि रक्षा होगी और हमें पुनःह नवाबी हासिल होगी*

*मुख्य नोट:--मेरे वतन परस्त देशभक्त वफादार मुसलमान भाईयो आपसे बिनती है कि अगर यह लेख गलत लगे तो मुझे माफ़ कीजिए-क्षमा कीजिए परंतु लेकिन यदि यह लेख सही लगे तो देश के कोने कोने में भीमवादी-हसरत मोहानीवादी बनकर देश मे भीमवादी सरकार बनाने के लिए खुशी-खुशी बे-खौफ शेयर करो तथा ये RSS जिस तरह जय श्री राम बोलकर SC ST OBC "शूद्र" को हिन्दू बनाकर हिन्दुत्व नाम पर राजनैतिक सत्ता कि हत्या करके SC ST OBC "शूद्र" को "धर्म-आस्था-मजहब" के नाम पर वफादार "मुस्लिम-कौम" से लड़ने के लिए उकसाता है इतना ही नही वफादार मुसलमान भाईयो को राम-सीता जी का पक्का दुश्मन बताकर सभी के दिलों मे जहर भी घोलता है जब कि ठकुराइन सीता जी का अपहरण पंडित पुजारी नाम के लंकापति रावण ने किया था:--वही हाल तालिबान अल्लाह हो अकबर बोलकर पाक मजहब ऐ इस्लाम के नाम पर मासूमों कि बे-खौफ होकर बेरहमी से हत्या भी कर रहा है भारत देश का कोलजियम-सिस्टम वाली अदालत व काँग्रेसी EVM देवता यंत्र काँग्रेस-BJP का मुख्य हथियार है ये हथियार भीमवादी-हसरत मोहानीवादी सरकार बनने नही देगा इसलिए इस हथियार को दफन करने के लिए भीमवादी-हसरत मोहानीवादी सरकार बनानी होगी बहुजन हसरत पार्टी BHP कि बात पर भीमवादी-हसरत मोहानीवादी बनकर तर्क करो गलत लगे तो माफ करो 9819316944* *

*👉...शूद्रो अब अपनी अक्ल लगाओ*

*👉...संगठित होकर एक हो जाओ*

*👉...दलित मुस्लिम OBC होश मे आओ*  

*👉...अब अपनी सत्ता खुद बनाओ*

*👉...पंडित पुजारी का आतंक मिटाओ*

*👉...भीमवादी दलित को P.M बनाओ*

*👉...OBC जनगणना भीमवादी दलित P.M से कराओ*

*👉...भीमवादी दलित P.M के द्वारा मुस्लिम भाई फिर वापस नवाब बन जाओ*

*👉...कलाकार जाति पेशेवर जाति हिन्दू=मुस्लिम दोनों समुदाय में पायी जाती है*

*👉...ये कलाकार जाति पेशेवर जाति 96% OBC कहलाती है*

*👉...मुस्लिम भाई "कुराने हाफिज" के साथ-साथ संविधान का भी हाफिज बनो*

*👉...वफादार मुसलमान भाईयों हिकमत के तौर पर "बुद्ध" को अपना राजनैतिक गुरु मानो*

*👉...नवाब बनने के लिऐ नवाबी मुद्दे पर भीमवादी दलित को P.M बनाना होगा*

*👉...मुस्लिम भाईयों वापस नवाब बनो उसके लिए नवाबी छीनना होगा*

*--------------------------------------------*

*✅🌹...नवाब का मतलब आज का M.P M.L.A C.M व डिप्टी P.M होता है*

*--------------------------------------------*

*जय भीम  जय हसरत मोहानी*

*बहुजन हसरत पार्टी जिन्दाबाद*

*कलाकार जातियाँ जिन्दाबाद*

*पेशेवर जातियाँ जिन्दाबाद*


*लेखक:--मुहम्मद मैराज शेख*

*संस्थापक-राष्ट्रीय अध्यक्ष*

*बहुजन हसरत पार्टी-BHP*

*9819316944 .....24-8-2021*



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग