तमाशबीनों को लूटने की तैयारी वही है




तमाशबीनों को लूटने की तैयारी वही है।
कुछ बंदर ही बदल गए हैं मदारी वही है।

वो बूढ़ा हो गया है अलग बात है लेकिन,
उस शख़्स में फिर भी होशियारी वही है।

ना मालूम किधर उगे हैं विकास के पौधे,
मेरे गांव में अभी भी काश्तकारी वही है।

उसने चोट खा कर भी बदला नहीं दिल,
लुच्चों की लफ़गों की तरफ़दारी वही है।

ये माना कि सफ़र पुराना है आदमी सा,
तुम चलकर तो देखिए मज़ेदारी वही है।

ये प्राइवेटाइजेशन ने साबित कर दिया,
ज़मींदार बदल गए हैं ज़मीदारी वही है।

सासु मां नहीं तो कैसा लगता है पराया,
अल्बत्ता ससुराल में ख़ातिरदारी वही है।

अपने लिए तो हर कोई जीता है लेकिन,
पीड़ित की करे मदद ओहदेदारी वही है।

वो शहर छोड़कर, इस शहर में आने से,
ज़फ़र लुटेरे बदल गए हैं रंगदारी वही है।


ज़फ़रुद्दीन ज़फ़र
एफ़-413,
कड़कड़डूमा कोर्ट,
दिल्ली-32
zzafar08@gmail.com
 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया