फादर स्टैन स्वामी का लंबी बीमारी के बाद निधन


 नई दिल्ली  आतंकवाद-रोधी कानून के तहत गिरफ्तार किए गए जनजातीय कार्यकर्ता स्टैन स्वामी लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया है. एल्गार परिषद मामले में उन्हें पिछले साल गिरफ्तार किया गया था. उनके वकील ने सोमवार को बॉम्बे हाई कोर्ट को आज इसकी जानकारी दी. 84 साल के जेसुइत पादरी और कार्यकर्ता स्टैन स्वामी कल से ही वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे. चिकित्सा आधार पर अंतरिम जमानत के लिए इस साल की शुरुआत में उनके वकील मिहिर देसाई के जरिये दायर याचिका में स्वामी ने दावा किया था कि वह पार्किंसन सहित कई बीमारियों से ग्रस्त हैं. पिछले महीने अस्पताल में स्वामी को कोरोनावायरस से संक्रमित पाया गया, जिसके बाद उन्हें आईसीयू में ट्रांसफर किया गया था.

NIA ने जमानत याचिका का किया था विरोध

28 मई को कोर्ट की तरफ से मिले आदेश के बाद से उनका मुंबई के होली फैमिली अस्पताल में इलाज चल रहा था. उन्हें अदालत के आदेश पर 28 मई को नवी मुंबई के तलोजा जेल से अस्पताल में भर्ती कराया गया था.बता दें कि एल्गार परिषद मामले में स्वामी और उनके सह आरोपियों पर नेशनल इन्वेस्टिगेटिव एजेंसी ने आरोप लगाया है. एजेंसी के मुताबिक आरोपी मुखौटा संगठन के सदस्य हैं जो प्रतिबंधित भाकपा (माओवादी) के लिए काम करता है. एनआईए ने पिछले महीने हाईकोर्ट में हलफनामा दाखिल कर स्वामी की जमानत याचिका का विरोध किया था. एजेंसी ने कहा कि उनकी बीमारी का ‘निर्णायक सबूत' नहीं है. हलफनामे में कहा गया कि स्वामी माओवादी हैं, जिन्होंने देश में अशांति पैदा करने की साजिश रची.

एल्गार परिषद मामला पुणे में 31 दिसंबर 2017 को आयोजित संगोष्ठी में कथित भड़काऊ भाषण से जुड़ा है. पुलिस का दावा है कि इस भाषण की वजह से अगले दिन शहर के बाहरी इलाके में स्थित कोरेगांव-भीमा युद्ध स्मारक के पास हिंसा हुई. पुलिस का दावा है कि इस संगोष्ठी का आयोजन करने वालों का संबंध माओवादियों के साथ था.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया